top menutop menutop menu

तीन कैमरे के भरोसे 340 एकड़ में फैला है एनआइटी कैंपस Jamshedpur News

जमशेदपुर ( आदित्यपुर) जेएनएन। एनआइटी जमशेपुर में करीब 3500 छात्र पढ़ते हैं। यह कैंपस 340 एकड़ में फैला हुआ है, लेकिन इसकी सुरक्षा रामभरोसे है। इतने बड़े परिसर में सुरक्षा के नाम पर मात्र तीन सीसीटीवी कैमरे हैं। इसका रिजोल्यूशन तो कम है ही, डीबीआर में भी सात दिनों तक रिकार्डिंग की क्षमता है। ऐसे में आदित्यपुर क्षेत्र में नशे का कारोबार करने वाले जहां नशाखोरी के लिए छात्रों को टारगेट कर रहे हैं। वही महिला फैकल्टी से भी छेड़खानी करते हैं। एनआइटी जमशेदपुर शिक्षण संस्थान जमशेदपुर ही नहीं राज्य में अपना महत्वपूर्ण स्थान रखता है। इसकी सुरक्षा में कई खामी पाई गई है। बताया जाता है कि संस्थान के अंदरूनी विभाग में तो पूरी तरह से कैमरा लगा हुआ है, लेकिन संस्थान के बाहरी क्षेत्र की सुरक्षा पर ध्यान नहीं है। इस संस्थान में देश के कोने-कोने से सैकड़ों छात्र शिक्षा ग्रहण करने आते हैं, लेकिन उनकी सुरक्षा के लिए संस्थान ने कोई इंतजाम नहीं किया गया है।

छात्रावास समेत सारे होस्टल कैमरे की निगरानी में नहीं : संस्थान में 13 होस्टल हैं, जिसमें चार छात्रावास ए , बी , रानी लक्ष्मीबाई, आंबेडकर छात्रावास छात्राओं के लिए हैं। इसमें 800 से ज्यादा छात्राएं रहती हैं। आश्चर्य की बात है कि यह एक ऐसा संस्थान है जिसके तीन तरफ से रास्ता खुला हुआ है। उसके बाद भी यहां छात्राओें की सुरक्षा के लिए एक भी सीसीटीवी कैमरा छात्रावास के पास नहीं लगाया गया है। वहीं डाउन होस्टल की ओर आसंगी बस्ती है। इस रास्ते पर भी कैमरा नहीं लगाया गया। मुख्य मार्ग पर भी कैमरा नहीं लगा है। अक्सर होती बाइक चोरी : संस्थान के पार्किग क्षेत्र में कैमरा नहीं लगने के कारण बराबर बाइक चोरी होती है । उसका विस्तृत ब्योरा नही मिल पाता है। यहां बैंक व एटीएम के अलावा कई महत्वपूर्ण संस्था हैं। इसके साथ ही हाल के दिनों में छेड़खानी की घटना में भी काफी वृद्धि हुई है। लेेेेेकिन कैमरा नहीं होने के कारण मामले का खुलासा नहीं हो पाता।

 जागरण की खबर पर जागा प्रबंधन : दैनिक जागरण में विधि व्यवस्था सबंधी खबर छपने के बाद एनआइटी प्रशासन सजग हो गया है। संस्थान के सुरक्षा प्रमुख डॉ. संजय कुमार ने कहा कि निदेशक केके शुक्ला से बात हुई है। संस्थान के मुख्य स्थानों व सड़क पर शीघ्र ही कैमरे लगाए जाएंगे। इसके अलावा संस्थान की सुरक्षा 95 होम गार्ड, 30 सेना के सेवानिवृत जवान, 18 दैनिक वेतनभोगी चौकीदार डयूटी पर लगे हुए हैं। इन्हें संस्थान के मुख्य मार्ग में चप्पे-चप्पे पर निगरानी करने का निर्देश दिया गया है। संस्थान की सुरक्षा से कोई समझौता नहीं किया जाएगा।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.