सरसों तेल का भाव फिर आसमान पर, फलों की कीमत भी बेकाबू; जानिए

रिफाइंड तेल भी 10 रुपये चढ़कर 160-170 रुपये हो गया है।

Mustard oil Price Hike कोरोना की मार कहें या प्रचंड गर्मी का प्रकोप खाद्य पदार्थों की कीमतें आसमान छूने लगी हैं। खासकर सरसों तेल का भाव तो चढ़ता ही जा रहा है। होली के बाद जो सरसों तेल 150-155 रुपये था वह 170 से 175 रुपये तक पहुंच गया है।

Rakesh RanjanWed, 21 Apr 2021 07:23 PM (IST)

जमशेदपुर, जासं। कोरोना की मार कहें या प्रचंड गर्मी का प्रकोप खाद्य पदार्थों की कीमतें आसमान छूने लगी हैं। खासकर सरसों तेल का भाव तो चढ़ता ही जा रहा है। होली के बाद जो सरसों तेल 150-155 रुपये था, वह 170 से 175 रुपये तक पहुंच गया है। रिफाइंड तेल भी 10 रुपये चढ़कर 160-170 रुपये हो गया है।

परसुडीह स्थित कृषि उत्पादन बाजार समिति के थोक कारोबारी बताते हैं कि सरसों तेल का भाव पिछले साल लॉकडाउन के समय से ही चढ़ रहा है। सरकार ने सरसों का समर्थन मूल्य 58 रुपये किलो और रबी सीजन में 46.50 रुपये कर दिया। इससे एकबारगी सरसों तेल 90-95 से बढ़कर 120-125 रुपये किलो बिकने लगा। अब खुले बाजार में किसानों को समर्थन मूल्य से ज्यादा मिल रहा है, तो तेल का भाव चढ़ गया है। इसी तरह रिफाइंड ऑयल भी थोक में 160-165 रुपये लीटर हो गया है। इसके अलावा अरहर दाल थोक में 105 से 107 रुपये किलो, मूंग दाल 96 रुपये और चना दाल 68-70 रुपये किलो चल रहा है। चीनी भी थोक में 38.50 रुपये और खुदरा में 39-40 रुपये है। इनकी कीमतों में खास अंतर नहीं आया है।

फलों भाव भी चढे

दूसरी ओर शहर में सब्जियों के दाम सामान्य हैं, लेकिन फल के भाव चढ़ गए हैं। फल बाजार में सेब व अनार का दाम काफी चढ़ गया है। मानगो के फल विक्रेता मुर्शीद बताते हैं कि सेब 200-240 रुपये किलो और अनार 160 रुपये किलो चल रहा है। रमजान से पहले 20-25 रुपये भाव कम था। इसके अलावा केला 35-40 रुपये दर्जन और अंगूर 100-110 रुपये किलो है। सीजन का तरबूज 20 रुपये किलो में हर जगह बिक रहा है। मुर्शीद बताते हैं कि सेब और अनार का अभी सीजन नहीं है, इसलिए हर साल गर्मी में भाव चढ़ जाता है। मद्रास व आंध्रा का पका आम 120-140 रुपये किलो बिक रहा है। संतरा भी ऑफ सीजन की वजह से 140 रुपये किलो मिल रहा है। यूपी-बंगाल का आम आने पर ही भाव गिरेगा।

चाइबासा में भी फलों के दाम बढे

बढ़ती गर्मी, कोरोना संक्रमण के इस दौर में लोगों की जरूरत अधिक से अधिक फलों पर आ टिकी है। उसी का फायदा उठाते हुए फल दुकानदारों ने फलों के दाम में बढ़ोतरी कर दी है। चाईबासा में फलों के दाम आसमान छू रहे हैं। रही सही कसर राज्य में लाकडाउन की घोषणा ने पूरी कर दी है। कल तक जो अंगूर 80 से 100 रुपये प्रति किलो बाजार में बेचा जा रहा था, अचानक ही बुधवार को 160 रुपये प्रति किलो के दर तक पहुंच गया। इसी प्रकार 140 रुपये वाला सेब 240 तक पहुंच चुका है। 2 दिन पहले 160 रुपये में मिलने वाला अनार 220 रुपये प्रति किलो कर दिया गया। संतरा भी 200 के पार पहुंच चुका है। वहीं गर्मी का फल तरबूज 30 से 40 रुपये किलो बेचा जा रहा है । केला 40 से लेकर 60 रुपये दर्जन बाजार में बिक रहा है । मार्केट में आने को तैयार आम की कीमत भी 200 प्रति किलो है। पपीता 60 रुपये प्रति किलो और अमरूद 120 प्रति किलो के हिसाब से बाजार में बिक रहा है। फल दुकानदार सिद्धेश्वर कुमार ने कहा कि मंडी में अचानक फलों के दाम 3 से 4 दिन के अंदर बढ़ गये। उम्मीद लगायी जा रही है कि लॉकडाउन के समय फलों के दाम में और भी वृद्धि देखने को मिलेगा। वैसे, कोरोना संक्रमण के दौरान लोग अधिक से अधिक फलों का इस्तेमाल कर रहे हैं । इसके अलावा मुस्लिम समाज का सबसे बड़ा त्यौहार रमजान चल रहा है। इसमें फलों की बहुत जरूरत होती है। उसी को देखते हुए फलों के दाम में अचानक वृद्धि हुई है।

 

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

पांच राज्यों के विधानसभा चुनावों से जुड़ी प्रमुख जानकारियों और आंकड़ों के लिए क्लिक करें।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.