Sleeping on the Cot : गद्देदार बिस्तर छोड़ खाट पर सोएं, गर्दन, कमर व कूल्हों की दर्द को करें बाय-बाय

Sleeping on the Cot पुराने जमाने में लोग खटिया पर सोया करते थे। लेकिन आज हम आरामदायक बेड पर सोकर कई रोगों को आमंत्रित करते हैं। आज हम खाट पर सोने के फायदे बताने जा रहे हैं। आप भी पढ़कर हैरान हो जाएंगे...

Jitendra SinghTue, 21 Sep 2021 06:00 AM (IST)
गद्देदार बिस्तर छोड़ खाट पर सोएं, गर्दन, कमर व कूल्हों की दर्द को करें बाय-बाय

जमशेदपुर : यदि आपके कमर, गर्दन या कूल्हों में दर्द है तो चिंता नहीं करें। आज हम आपको बताने जा रहे हैं कुछ घरेलू उपाय। जिसे करने पर आपका दर्द धीरे-धीरे गायब हो जाएगा। कई बार आपे देखा होगी गर्दन में दर्द, या कमर में दर्द होने पर लोग अपना आरामदायक बिस्तर छोड़कर जमीन पर सोते हैं।

प्राचीन काल से ही माना जाता है कि यदि आपकी पीठ, कमर या गर्दन में दर्द हो तो नीचे सोने से आपको राहत मिलेगी। अक्सर ऐसा होता है कि हम गद्दे खरीदते समय नरम और मुलायक देखकर ले तो लेते हैं, लेकिन बाद में हमारी कमर, गर्दन या पीठ में तकलीफ होने लगती है। इसके लिए योगा व रेकी एक्सपर्ट पूनम वर्मा आपको को खाट पर सोने की सलाह देती हैं।

क्यों होता है बार-बार कमर में दर्द

तनाव - कमर दर्द अक्सर तनाव या चोट लगने के कारण होता है। तनावग्रस्त मांसपेशियां या लिंगामेंट्स, मांसपेशी में ऐंठन, खराब डिस्क, चोट फ्रैक्चार या गिरना आदि कई कारण हो सकते हैं। यदि आप कुछ गलत तरीके से भारी सामान उठा लेते हैं तो आपको दर्द होने की संभावना होती है।

स्ट्रक्चर की समस्या - कुछ स्ट्रक्चर की समस्या के कारण भी आपको कमर दर्द हो सकता है। टूटा हुआ या उभरा हुआ डिस्क, गठिश, रीढ़ की हड्डी में परेशानी, आस्टियोपोरोसिस आदि विकार भी आपकी कमर दर्द का कारण हो सकता है।

गलत मूवमेंट या मुद्रा - कंप्यूटर या पढ़ते समय ज्यादा देर तक झुक कर बैठे रहने से भी कमर दर्द की समस्या होती है। इस रोजमर्रा की गतिविधि से आपका पॉश्चर खराब हो जाता है और आपको दर्द का सामना करना पड़ता है।

कमर दर्द में राहत देता है खाट पर सोना

खाट पर सोना एक अजीब सुझाव लग सकता है। आप सबके पास आरामदायक बिस्तर है, लेकिन खाट पर सोने से वाकई में कमर दर्द से राहत मिलता है। जानिए ऐसे

खाट दिलाता है पुराने दर्द से आराम

कभी-कभी सोते समय आपका शरीर गलत पॉश्चर में होने के कारण दर्द हो सकता है। यह एक नरम गद्दे और ज्यादा फूले हुए तकिये के कारण हो सकता है। आप इसे महसूस नहीं कर सकते, क्योंकि आप गद्दीदार जगह पर सोते हैं। यही लंबे समय तक ऐसा सोने से दर्द और पीड़ा कार कारण बनता है।

यदि आप खाट पर सोना शुरू कर दिए हैं तो यह इसे आसानी से ठीक कर सकता है, क्योंकि इस पर गद्दे महसूस नहीं करेंगे और गलत मुद्रा में सोने पर तुरंत सीधे हो जाएंगे। शुरू में यह असहज लगेगा, लेकिन कुछ दिनों में यह आपके लिए आरामदायक बन जाएगा।

गलत मुद्रा को ठीक करता है खाट पर सोना

दिन भर जब आप लगातार कंप्यूटर पर काम करते हैं, तो आपकी कमर आगे की ओर झुकने लगती है। इसलिए रात को आपको एक ऐसे बिस्तर की जरुरत है। जो आपको आराम देने के साथ ही आपके पॉश्चर को भी ठीक रखे। खाट पर सोना आपको दोनों जरुरतों को पूरा करता है। पतली रस्सियों से बनी खाट आपकी सभी मांसपेशियों को उनकी जरुरत के हिसाब से आराम देती है।

ब्लड सर्कुलेशन को करता है बेहतर

खाट पर सोने से ब्लड सर्कुलेशन बेहतर होता है। नर्म गद्दे पर सोने से अक्सर हमारी नसें और मांसपेशियां दब जाती है। इससे ब्लड सर्कुलेशन प्रभावित होता है। अगर आप खाट पर सोते हैं तो इसकी संभावना कम होती है।

 

 सायटिका में दर्द से देता है राहत

खाट पर सोने से आप सायटिका के दर्द से राहत पा सकते हैं। सायटिका का दर्द असहनीय होता है। इसकी वजह से आपको शरीर या नसों पर गलत जगह दबाव पड़ सकता है। सायटिका एक नस है जो कमर और कूल्हों से होते हुए पैरों की ओर जाता हे। माना जाता है कि खाट पर सोने से सायटिका का दर्द में आराम मिलता है।

गर्दन व कूल्हों के दर्द में राहत

खाट पर सोने से रीढ़ की हड्डी सीधी रहती है, जिससे कमर दर्द के अलावा आपको गर्दन और कूल्हों के दर्द से भी छुटकारा मिल सकता है।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.