केस वापस नहीं हुआ तो झामुमो करेगा आंदोलन

स्थानीय विधायक समीर महंती पर बहरागोड़ा के पंचायत सचिव अश्विनी कुमार दास की पिटाई के मामले में दर्ज प्राथमिकी को लेकर अब झामुमो संगठन ने आक्रामक रुख अख्तियार कर लिया है। गुरुवार को व स्थानीय विधायक कार्यालय में आयोजित प्रेस वार्ता में झामुमो नेताओं ने विधायक पर लगाए गए आरोप को गलत बताते हुए इसे वापस लेने की मांग की।

JagranFri, 24 Sep 2021 06:30 AM (IST)
केस वापस नहीं हुआ तो झामुमो करेगा आंदोलन

संवाद सूत्र चाकुलिया : स्थानीय विधायक समीर महंती पर बहरागोड़ा के पंचायत सचिव अश्विनी कुमार दास की पिटाई के मामले में दर्ज प्राथमिकी को लेकर अब झामुमो संगठन ने आक्रामक रुख अख्तियार कर लिया है। गुरुवार को व स्थानीय विधायक कार्यालय में आयोजित प्रेस वार्ता में झामुमो नेताओं ने विधायक पर लगाए गए आरोप को गलत बताते हुए इसे वापस लेने की मांग की। यह भी कहा कि अगर केस वापस नहीं हुआ तो झामुमो भ्रष्टचार में लिप्त सरकारी सेवकों के खिलाफ आंदोलन छेड़ देगा। पार्टी के जिला उपाध्यक्ष धनंजय करुणामय ने कहा कि बहरागोड़ा में विधायक के पहल पर नाली सफाई का काम हुआ था जिसमें भुगतान करने की एवज में पंचायत सचिव भोग (घूस) मांग रहे थे। उन्होंने विधायक कार्यालय में पैसा मांगने की बात को खुद स्वीकार भी किया था जिसका वीडियो मौजूद है। भ्रष्टाचार में लिप्त ऐसे सरकारी सेवक को फटकार लगाना क्या गुनाह है? झामुमो नेता ने कहा कि कार्यालय से निकलते समय पंचायत सचिव सामान्य थे। लेकिन बाद में खुद भ्रष्टाचार में लिप्त बहरागोड़ा के विरोधी दल के एक नेता ने साजिश के तहत पंचायत सचिव को समझा-बुझाकर केस दर्ज करवा दिया। धनंजय ने कहा कि समीर महंती आज जिस मुकाम पर हैं वो इसीलिए है? क्योंकि उन्होंने अपने राजनीतिक जीवन में शुरू से ही भ्रष्टाचार के खिलाफ कड़ा रुख अपनाया है। वे केस मुकदमा या जेल जाने से नहीं डरते। लेकिन झामुमो सरकारी सेवकों के भ्रष्टाचार को अब बिल्कुल बर्दाश्त नहीं करेगा। प्रेस वार्ता में असगर खान, पंकज महतो, बलराम महतो, मलय रुहिदास, राजा बारिक, मंगल हंसदा समेत अन्य कार्यकर्ता मौजूद थे। गिरफ्तारी की मांग को ले कर्मचारियों ने काला बिल्ला लगाकर किया काम : बहरागोड़ा विधानसभा के विधायक समीर महंती के द्वारा पंचायत सचिव अश्वनी कुमार दास के साथ मारपीट मामले में विधायक समीर महंती की गिरफ्तारी की मांग को लेकर तथा सरकारी कार्य में बाधा डालने का धारा प्राथमिकी में जोड़ने की मांग को लेकर बहरागोड़ा प्रखंड सह अंचल के सभी कर्मचारियों ने काला बिल्ला लगाकर काम किया। सभी प्रखंड सह अंचल कार्यालय के कर्मचारियों ने एक स्वर से कहा कि पंचायत सचिव अश्विनी कुमार दास के पिटाई प्रकरण में आरोपी के ऊपर प्राथमिकी दर्ज पुलिस के द्वारा सरकारी काम में बाधा डालने का धारा के तहत नहीं किया गया है इसे जल्द ही इन्वेस्टिगेशन में जोड़ने की मांग की। सभी कर्मचारियों ने कहा कि अश्वनी कुमार दास घटना के दिन ऑन ड्यूटी में थे ।वे अपने कार्यालय में काम में ज्वाइन करने के बाद अपना कार्य कर रहे थे उसी वक्त विधायक के द्वारा उन्हें बुलाकर विधायक कार्यालय में मारपीट करना तथा ऑन ड्यूटी उनके साथ मारपीट कर दु‌र्व्यवहार करना सरकारी काम में बाधा डाला गया है। इस पर सरकारी काम में बाधा डालने का धारा 353 के पुलिस दर्ज करें तथा आरोपी को गिरफ्तार कर जेल भेजें अन्यथा उनकी आंदोलन जारी रहेगा।

इस मौके पर कर्मचारी तापस कुमार दास, शिवानंद घटवारी, मंगल टूडू, साधन नायेक, सूर्यकांत महतो उपेंद्र महतो, मंगल महतो, आदित्य कुमार आदि कर्मचारियों ने काला बिल्ला लाकर काम किया।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.