Bipin Rawat Chopper Crash : दुर्घटना के बाद जिंदा थे बिपिन रावत, अस्पताल जाने के क्रम में तोड़ा दम, जमशेदपुर में शोक की लहर

Bipin Rawat Chopper Crash बताया जाता है कि दुर्घटना के तुरंत बाद ही बचाव दल घटनास्थल पर पहुंच गया। जनरल रावत तबतक जिंदा थे। इस हादसे में कुल 13 लोगों की मौत हो गई। बिपिन रावत की मौत पर जमशेदपुर सहित पूरे झारखंड में शोक की लहर है...

Jitendra SinghPublish:Thu, 09 Dec 2021 06:03 AM (IST) Updated:Thu, 09 Dec 2021 06:03 AM (IST)
Bipin Rawat Chopper Crash : दुर्घटना के बाद जिंदा थे बिपिन रावत, अस्पताल जाने के क्रम में तोड़ा दम, जमशेदपुर में शोक की लहर
Bipin Rawat Chopper Crash : दुर्घटना के बाद जिंदा थे बिपिन रावत, अस्पताल जाने के क्रम में तोड़ा दम, जमशेदपुर में शोक की लहर

जमशेदपुर : चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ बिपिन रावत की असामयिक मृत्यु से पूरा देश के साथ-साथ झारखंड भी मर्माहत है। बुधवार को वायुसेना का एक हेलीकॉप्टर दुर्घटनाग्रस्त होने के कारण 13 अन्य लोगों की भी मौत हो गई। मरने वालों में जनरल रावत की पत्नी मधुलिका रावत की पत्नी भी शामिल है।

अस्पताल जाने के क्रम में रावत ने तोड़ा दम

ऐसा बताया जा रहा है कि हेलीकॉप्टर के दुर्घटनाग्रस्त होने के तुरंत बाद ही बचाव दल पहुंच गया था। जनरल रावत तब तक जिंदा थे, लेकिन अस्पताल ले जाने क्रम में दम तोड़ दिया। यह दुर्घटना रूसी निर्मित Mi-17 V5 हेलिकॉप्टर के सुलूर, कोयंबटूर में वायु सेना बेस से नीलगिरी हिल्स में वेलिंगटन के लिए उड़ान भरने के कुछ ही समय बाद हुई।

घटनास्थल पर पहुंचने वाले एक सीनियर फायरमैन ने बताया कि सीडीएस जनरल बिपिन रावत जीवित थे और एक अन्य यात्री के साथ एमआई-17वी5 हेलिकॉप्टर के मलबे से निकाले जाने पर अपना नाम कहने में सक्षम थे। दूसरे जिंदा रहने वाले शख्स की ग्रुप कैप्टन वरुण सिंह थे।

चश्मदीद ने कहा, मैंने जलते हुए लोगों को देखा

घटना का चश्मदीद कृष्णास्वामी (68 साल) ने बताया कि जब हेलीकॉप्टर क्रैश किया, तब वे अपने घर में थे। आवाज सुन बाहर निकले। उन्होंने कहा, मैंने देखा कि चारों तरफ धुंआ है और उसके बीच दो तीन आदमी जल रहे हैं। फिर वे सभी नीचे गिर गए। इसे देख बहुत डर गया। तभी कुछ लोगों ने कहा, पुलिस को बुलाओ। फायर ब्रिगेड वाले को बुलाए। हेलीकॉप्टर जब आसमान से जमीन पर गिरा तो पेड़ों में आग लगए हैं। धमाका इतना तेज था कि बिजली के खंभे हिल गए।

कृष्णास्वामी ने बताया कि वह अपने घर में टूटे हुए पाइप की मरम्मती कर रहे थे। उनके साथ चंद्र कुमार भी था। धमाका के आवाज डरा देने वाली थी। माके की आवाज सुनने के बाद घटनास्‍थल पर पहुंचे। वहां चारों तरफ धुआं और आग देखा। इस बीच उन्‍होंने एक आदमी को जिंदा जलते हुए देखा। नजारा देख कृष्णास्वामी सहम गए।

घटना का चश्मदीद कृष्णास्वामी।

वायुसेना ने दिए जांच के आदेश

जब यह दुर्घटना घटी, उस समय हेलीकॉप्टर में CDS बिपिन रावत के अलावा उनकी पत्नी और सेना के अन्य अधिकारी भी हेलिकॉप्टर में मौजूद थे। हादसे के फौरन बाद रेस्क्यू ऑपरेशन शुरू हो गया था। हादसे के बाद वायु सेना ने कहा है, सीडीएस जनरल बिपिन रावत को लेकर जा रहा IAF Mi-17V5 हेलिकॉप्टर, तमिलनाडु के कुन्नूर के पास आज दुर्घटना का शिकार हो गया। दुर्घटना के कारणों का पता लगाने के लिए जांच के आदेश दे दिए गए हैं।

गुमला में जमशेदपुर के पूर्व सैनिकों से मिले थे बिपिन रावत

हेलिकॉप्टर हादसे में जान गंवाने वाले जनरल विपिन रावत से जमशेदपुर के पूर्व सैनिक भी मिले थे, जब स्व. रावत गुमला के चैनपुर में परमवीर अलबर्ट एक्का को श्रद्धांजलि देने आए थे। पूर्व सैनिक सेवा परिषद के सुशील कुमार सिंह ने बताया कि उनके साथ शहर से राजीव रंजन, अभय सिंह, अशोक श्रीवास्तव व सतनाम सिंह भी गए थे। वहां झारखंड राज्य पूर्व सैनिक कल्याण निदेशालय के राज्य निदेशक सेवानिवृत्त ब्रिगेडियर वीजी पाठक ने जनरल रावत से हमलोगों का परिचय कराया था।

विधायक सरयू ने रहा बिपिन रावत की मृत्यु देश के लिए बड़ी क्षति

तमिलनाडु में हेलिकॉप्टर हादसे में जनरल विपिन रावत की मृत्यु को विधायक सरयू राय ने देश के लिए बड़ी क्षति बताया है। साकची स्थित जिला कार्यालय में भाजमो द्वारा आयोजित शोक सभा में एक मिनट मौन रखकर मृतात्माओं की शांति के लिए प्रार्थना की।

भाजमो जिलाध्यक्ष सुबोध श्रीवास्तव ने कहा कि इस घटना से देश में गम का माहौल है। जनरल रावत की देश सेवा को लोग सदैव याद रखेंगे। शोक सभा में भाजमो पूर्वी विधानसभा के संयोजक अजय सिन्हा, जिला महामंत्री कुलविंदर सिंह पन्नू, मनोज सिंह उज्जैन, उपाध्यक्ष वंदना नामता, मंत्री राजेश कुमार झा, विकास गुप्ता, कोषाध्यक्ष धर्मेंद्र प्रसाद, प्रवक्ता आकाश शाह, निजी सचिव सुधीर सिंह, राजू मारवाह, रविप्रकाश सिंह, रविशंकर पांडे, कार्यालय प्रभारी त्रिलोचन सिंह, संजय झा आदि उपस्थित थे।