सावन में जिसे आप शाकाहार सोच रहे, कहीं वह मांसाहार तो नहीं, बरते सावधानी

सावन का महीना में हर कोई शाकाहारी भोजन करते हैं। लेकिन बाजार में कई ऐसे फूड प्रोडक्ट्स हैं जो शाकाहार होते हुए भी मांसाहार होते हैं। जानकारी के अभाव में हमें इसका पता नहीं होता है। तो इस बार बाजार जाएं तो प्रोडक्ट के लेबल देखकर ही खरीदें।

Jitendra SinghTue, 27 Jul 2021 06:00 AM (IST)
सावन में जिसे आप शाकाहार सोच रहे, कहीं वह मांसाहार तो नहीं, बरते सावधानी

जमशेदपुर : बाजार में कई ऐसे कुछ खाने के सामान होते हैं, जिन्हें हम शाकाहार तो समझते हैं, लेकिन वह पूरी तरह शाकाहार नहीं होते हैं। इन चीजों में कुछ मात्रा में एनिमल प्रोडक्टस मिले होते हैं। इन्हें खरीदते समय हमें इनका लेबल पर ध्यान देना चाहिेए। ये मांसाहार उत्पाद के विकल्प के तौर पर बाजर में मिलते हैं। सावन का महीना हैं तो ऐस में कई चीजों का इस्तेमाल उपवास में भी होता है। ऐसे में ज्यादा एहतियात बरतने की जरुरत है।

आइए जानते हैं ऐसे ही खाद्य पदार्थों के बारे में, जिनके शुद्ध रूप में शाकाहारी ना होने की संभावना होती है और इनमें कुछ न कुछ मिलावट भी हो सकती है।

Cheese - ज्यादातर लोग अपने ब्रेकफास्ट, स्नैक्स या फूड में किसी न किसी तरह चीज का इस्तेमाल करते हैं। खासतौर से ये बच्चों को बहुत पसंद होता है। कुछ खास तरह के चीज में रेन्नेट मिला होता है। ये एक तरह का एंजाइम है जो बछड़ों के पेट से निकाला जाता है। इसका इस्तेमाल चीज को गाढ़ा बनाने में किया जाता है। हालांकि बाजार में शाकाहारी चीज भी मिलते हैं जिनमें इस एंंजाइम को इस्तेमाल नहीं होता है। इसलिए अगर हम शाकाहारी चीज लेना चाहते हैं तो इसे खरीदने से पहले इसका लेबल जरूर देखें।

Omega-3 वाले प्रोडक्टस : कुछ चीजों में नेचुरल तौर पर ओमेगा-तीन नहीं पाया जाता है लेकिन उन्हें ओमेगा तीन से भरपूर बनाकर बाजार में बेचा जाता है. ये चीजें शाकाहारी नहीं होती है और इनमें मछली से प्राप्त प्रोडक्टस मिलाए जाते हैं। अगर हम शाकाहारी है तो ओमेगा तीन के लिए असली, चिया, सीड्स और अखरोट डाइट में शामिल करें।

सॉफ्ट ड्रिंक्स: आपको यह जानकर शायद हैरानी होगी कि कुछ सॉफ्ट ड्रिंक्स में थोड़ी मात्रा में जिलेटिन मिलाया जाता है। इसे ड्रिंक्स को गाढ़ा बनाने के लिए इस्तेमाल किया जाता है। जिलेटिन जानवरों के अंगों से प्राप्त किया जाता है। हालांकि हर सॉफ्ट ड्रिंक्स में इसका इसतेमाल नहीं किया जाता है।

सफेद चीनी : कई जगहों पर रिफाइंड व्हाइट शुगर को ब्रोन चार या नेचुरल कार्बन तरीके से ब्लीच किया जाता है। इस प्रक्रिया में जानवरों की हड्डी का इस्तेमाल होता है। कंफेक्शनर और ब्राउन शु्गर मेंभी इसे मिलाया जाता है क्योंकि ये दोनों भी सफेद चीनी से ही बनाई जाती है।

नमकीन मूंगफली: कुछ ब्रांड मंगफली में नमक और अन्य मसाले मिलाने के लिए जिलेटिन का इस्तेमाल करते हैं। जिलेटिन कुछ जानवरों की हड्डियों व ऊतकों से प्राप्त होता है।

 

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.