घाटशिला जेल के बैरक में हवलदार की हत्या, जवान ने कुदाल से किया वार

घाटशिला जेल के बैरक में हवलदार की हत्या, जवान ने कुदाल से किया वार

घाटशिला जेल परिसर के बैरक में सोमवार की देर रात जैप-7 के जवान मनीष कुमार ने हवलदार धर्मेंद्र कुमार सिंह (52) की कुदाल से मारकर हत्या कर दी। इस क्रम में बीच-बचाव करने आए जवान उपेंद्र कुमार भी घायल हो गए। सूचना मिलते ही धालभूमगढ़ थाना प्रभारी संतन तिवारी जेल बैरक पहुंचे और दोनों को अनुमंडल अस्पताल लेकर पहुंचे। चिकित्सक नीलम मर्शी टोप्पो ने हवलदार धर्मेंद्र कुमार को मृत घोषित कर दिया..

Publish Date:Wed, 12 Aug 2020 01:40 AM (IST) Author: Jagran

संसू, घाटशिला : घाटशिला जेल परिसर के बैरक में सोमवार की देर रात जैप-7 के जवान मनीष कुमार ने हवलदार धर्मेंद्र कुमार सिंह (52) की कुदाल से मारकर हत्या कर दी। इस क्रम में बीच-बचाव करने आए जवान उपेंद्र कुमार भी घायल हो गए। सूचना मिलते ही धालभूमगढ़ थाना प्रभारी संतन तिवारी जेल बैरक पहुंचे और दोनों को अनुमंडल अस्पताल लेकर पहुंचे। चिकित्सक नीलम मर्शी टोप्पो ने हवलदार धर्मेंद्र कुमार को मृत घोषित कर दिया। घायल उपेंद्र कुमार को प्राथमिक उपचार के बाद बेहतर उपचार के लिए एमजीएम भेज दिया गया। घटना के बाद बैरक में छिपे आरोपित जवान मनीष कुमार को पुलिस ने हिरासत में ले लिया। उसके खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की गई है। जैप-7 के अनिस सुरेश राम के बयान पर धालभूमगढ़ थाना में हत्या का मामला दर्ज किया गया है। इधर, मंगलवार को जमशेदपुर के सिटी एसपी व प्रभारी ग्रामीण एसपी सुभाष चंद्र जाट, एसडीपीओ राजकुमार मेहता व जैप-7 के डीएसपी भरत प्रसाद घाटशिला उप कारा पहुंचे और बैरक में जांच की। उन्होंने सोमवार देर रात हुई घटना के मामले में बैरक के जवानों से पूछताछ भी की। इसके बाद घाघीडीह के जेल अधीक्षक व घाटशिला उपकारा के प्रभारी जेल अधीक्षक एन प्रसाद सिंह ने भी घाटशिला उपकारा का निरीक्षण किया। उन्होंने जेल परिसर व अंदर के सुरक्षा व्यवस्था का जायजा लिया। मौके कई आवश्यक दिशा निर्देश भी दिए। पिता का शव देख फफक-फफक कर रो पड़ा बेटा

घटना की सूचना मिलने के बाद मंगलवार की सुबह मृतक हवलदार के परिजन घाटशिला अनुमंडल अस्पताल पहुंचे। पिता का शव देख मृतक का बेटा फफक-फफक कर रो पड़ा। उसने एसडीपीओ से मांग की है कि आरोपित जवान को कड़ी से कड़ी सजा दी जाए। मृतक हवलदार बिहार के कैमूर जिला स्थित भभुआ के रहने वाले थे। वर्तमान में उनका परिवार बक्सर में रहता है। घाटशिला अनुमंडल हॉस्पिटल में कोविड जांच के बाद मृतक के शव को पोस्टमार्टम के लिए एमजीएम भेज दिया गया। जेल की सुरक्षा में तैनात हैं 13 जवान

घाटशिला उपकारा परिसर की सुरक्षा में जैप-7 के कुल 13 जवान तैनात हैं। अनिस सुरेश राम ने बताया कि जैप-7 मुख्यालय हजारीबाग के एक प्लाटून के जवान व पदाधिकारी घाटशिला उपकारा में तैनात हैं। प्लाटून के अन्य लोग डुमरिया में तैनात हैं। सोमवार की रात धर्मेद्र कुमार व मनीष के बीच आपसी विवाद को लेकर कहासुनी हुई थी। इस क्रम में मनीष ने कुदाल से धर्मेद्र के ऊपर वार कर दिया। बीच-बचाव करने गए उपेंद्र को भी मनीष ने कुदाल से मारकर घायल कर दिया। उपेंद्र के सिर पर गंभीर चोट है। धर्मेद्र कुमार उपकारा में दो वर्ष से तैनात थे। घटना के समय उपेंद्र कुमार ही पास में थे। वे इस घटना की विस्तृत जानकारी दे सकते हैं। उनका इलाज एमजीएम में चल रहा है।

यह घटना आपसी विवाद के कारण हुआ है। विवाद के कारणों का पता लगाया जा रहा है। इससे जेल की सुरक्षा पर कोई प्रभाव नहीं पड़ेगा। यदि बैरक में कुछ बदलाव करने की जरुरत पड़ेगी तो वह किया जाएगा। यह घटना दुर्भाग्यपूर्ण है। इसकी पुनरावृत्ति न हो, इसे देखते हुए आवश्यक कदम उठाए जाएंगे।

- सुभाष चंद्र जाट, प्रभारी ग्रामीण एसपी।

यह घटना जेल कार्यस्थल पर नहीं हुई है। घटना बैरक में हुई है। यह आपसी विवाद का मामला है। बैरक के गार्ड को बदला जाएगा। हर तीन माह पर गार्ड बदले, यह सुनिश्चित किया जाए। एक स्थान पर अधिक दिन रहने से ऐसी स्थिति उत्पन्न होती है। इस मामले से उपायुक्त व एसएसपी से बात की जाएगी। उनके सुझाव के बाद आवश्यक कदम उठाए जाएंगे।

- एन प्रसाद सिंह, प्रभारी जेल अधीक्षक, घाटशिला उपकारा।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.