पेंशन पाने वालों के लिए खुशखबरी, सरकार ने शुरू की पांच नई सर्विस

यदि आपको पेंशन मिलती है तो आपके लिए खुशखबरी है। पेंशन पाने वाले लोगों के लिए सरकार ने पांच नई सर्विस शुरू की है। इसमें से महत्वपूर्ण है डिजिटल लाइफ सर्टिफिकेट। पेंशनधारियों के लिए डिजिटल लाइफ सर्टिफिकेट अत्यंत ही जरूरी है।

Rakesh RanjanFri, 11 Jun 2021 05:21 PM (IST)
सर्टिफिकेट का सत्यापन कराने के लिए पेंशनधारियों को कई कार्यालयों का चक्कर लगाना पड़ता है।

जमशेदपुर, जासं। यदि आपको पेंशन मिलती है तो आपके लिए खुशखबरी है। पेंशन पाने वाले लोगों के लिए सरकार ने पांच नई सर्विस शुरू की है। इसमें से महत्वपूर्ण है डिजिटल लाइफ सर्टिफिकेट। पेंशनधारियों के लिए डिजिटल लाइफ सर्टिफिकेट अत्यंत ही जरुरी है, क्योंकि सर्टिफिकेट का सत्यापन कराने के लिए पेंशनधारियों को कई कार्यालयों का चक्कर लगाना पड़ता है। डिजिटल लाइफ सर्टिफिकेट के बाद ही पेंशन पाने वाले को पेंशन का फायदा मिलता है। अपने सर्टिफिकेट को बायोमेट्रिक्स के जरिए सत्यापित कर सकते हैं।

पेंशनधारी पांच स्थानों से ले सकते हैं सर्टिफिकेट की प्रमाणिकता

यदि आपको पेंशन लेना है तो डिजिटल लाइफ सर्टिफिकेट को सत्यापन करना सभी के लिए जरुरी होता है। सत्यता जांचने के बाद पेंशन पाने वालों की पेंशन रूकती नहीं है। केंद्रीय श्रम मंत्रालय की ओर से जारी बयान में कहा गया है कि अब डिजिटल लाइफ सर्टिफिकेट की प्रमाणिकता के लिए कहीं जाने की जरुरत नहीं है। बल्कि यह घर पर ही प्रमाणिकता साबित कर सकते हैं। इसके लिए उमंग एप, ईपीएफओ कार्यालय, पेंशन वितरित करने वाले बैंक, कॉमन सर्विस सेंटर, आइपीबीपी, पोस्ट आफिस या पोस्टमैन के सामने बायोमेट्रिक्स को जांच कर सकते हैं।

पेंशन पाने के लिए डिजिटल लाइफ सर्टिफिकेट है जरुरी

डिजिटल लाइफ सर्टिफिकेट बनाने व जमा करने में कोई परेशानी न हो इसके लिए इसके लिए पहले से ही ईपीएफओ की ओर से सहूलियत दी गई है। अब लाइफ सर्टिफिकेट जमा करने या बनवाने के लिए आप उमंग एप के जरिए घर बैठे अपने स्मार्ट मोबाइल फोन से बना सकते हैं।

उमंग एप से ऐसे बनाएं डिजिटल लाइफ सर्टिफिकेट

उमंग एप से डिजिटल लाइफ सर्टिफिकेट बनाने के लिए आधार नंबर और आधार में रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर होना चाहिए। इसके अलावा पेंशन जारी करने वाली संस्था जिसमें बैंक, पोस्ट आफिस मे भी आधार नंबर रजिस्टर्ड होना चाहिए। इसके अलावा एक बायोमेट्रिक डिवाइस जो आपके अंगुलियों के निशान को कैप्चर कर सके। इसके लिए विंडोज 7.0 अपग्रेडेड कंप्यूटर, लैपटॉप या एंड्रायड 4.0 से लैस मोबाइल या टैबलेट होना चाहिए। पेंशनधारक अपना डिजिटल लाइफ सर्टिफिकेट 30 नवंबर तक जमा कर सकते हैं। जिसकी मान्यता एक साल के लिए मान्य रहती है।

उमंग एप से ऐसे बनाएं डिजिटल लाइफ सर्टिफिकेट

उमंग एप को गुगल प्ले स्टोर से डाउनलोड करें, एप खुलने के बाद जीवन प्रमाण सेवा सर्च करें। इसके बाद अपने मोबाइल से बायोमेट्रिक्स डिवाइस को कनेक्ट करें। जीवन प्रमाण सर्विस के अंदर जनरल लाइफ सर्टिफिकेट के टैब पर क्लिक करें। यहां पर आपका आधार नंबर और मोबाइल नंबर दिखाई देगा। यदि दोनों सही है तो जनरेट ओटीपी के बटन को क्लिक करें। मोबाइल पर आए ओटीपी नंबर को निर्धारित जगह पर भरें और सबमिट करें। इसके बाद अपने बायोमेट्रिक डिवाइस की मदद से अपना फिंगरप्रिंट स्कैन करें। फिंगरप्रिंग मिलते ही डिजिटल लाइफ सर्टिफिकेट तैयार हो जाएगा। सर्टिफिकेट को देखने के लिए व्यू सर्टिफिकेट पर क्लिक करें, जहां अपने आधार नंबर की मदद से देख सकते हैं।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.