वर्षा ऋतु में देवी-देवता क्यों चले जाते हैं सोने, इसका हमारे जीवन पर क्या पड़ता है प्रभाव, जानिए

वर्षा ऋतु के चार महीनों को चातुर्मास कहा जाता है। इस वर्ष चातुर्मास 20 जुलाई (आषाढ़ शुद्ध एकादशी) से शुरू होकर 15 नवंबर (कार्तिक शुद्ध एकादशी) को समाप्त होगा। शास्त्रों के अनुसार इस काल में व्रतस्थ रहना चाहिए।

Rakesh RanjanThu, 05 Aug 2021 01:09 PM (IST)
चातुर्मास को विष्णुशयन भी कहा जाता है।

जमशेदपुर, जासं। वर्षा ऋतु के चार महीनों को 'चातुर्मास' कहा जाता है। इस वर्ष चातुर्मास 20 जुलाई (आषाढ़ शुद्ध एकादशी) से शुरू होकर 15 नवंबर (कार्तिक शुद्ध एकादशी) को समाप्त होगा। शास्त्रों के अनुसार इस काल में पृथ्वी पर रज-तम की वृद्धि के कारण सात्विकता बढ़ाने के लिए चातुर्मास में व्रतस्थ रहना चाहिए, ऐसा शास्त्र बताता है। इन चार महीनों में भगवान विष्णु शेषनाग की शय्या पर योगनिद्रा लेते हैं। चातुर्मास को विष्णुशयन भी कहा जाता है।

मान्यता है कि इस समय भगवान श्रीविष्णु क्षीरसागर में शयन करते हैं। जमशेदपुर से सनातन संस्था के साधक शंभू गवारे बताते हैं कि भगवान विष्णु की उपासना के लिए यह समय सबसे अच्छा माना जाता है। सभी तीर्थस्थान, देवस्थान, दान व पुण्य चातुर्मास में भगवान विष्णु के चरणों में अर्पण होते है। सनातन संस्था द्वारा संकलित इस लेख में हम विभिन्न दृष्टिकोण से चातुर्मास का महत्व, चातुर्मास की वर्जित बातें और कई अन्य विषयों के बारे में जानेंगे।

दक्षिणायन देवताओं की रात और उत्तरायण उनका दिन

मनुष्य का एक वर्ष ही देवताओं की अहोरात्र होती है। समय एक माध्यम से दूसरे माध्यम में जाता है, समय के आयाम बदलते हैं। यह अब अंतरिक्ष यात्रियों के अनुभव से साबित हो गया है, जब वे चंद्रमा पर उतरे थे। दक्षिणायन देवताओं की रात है और उत्तरायण उनका दिन है। कर्क संक्रांति पर उत्तरायण पूरा होता है और दक्षिणायन शुरू होता है, यानी देवताओं की रात शुरू रहती है। कर्क संक्रांति आषाढ़ मास में होती है। इसलिए आषाढ़ शुद्ध एकादशी को देवशयनी एकादशी कहा जाता है। ऐसा माना जाता है कि उस दिन देवता सो जाते हैं। कार्तिक शुद्ध एकादशी को देवता नींद से जागते हैं, इसलिए इसे प्रबोधिनी (बोधिनी, देवोत्थान या देवउठनी) एकादशी कहा जाता है। वास्तव में दक्षिणायन छह माह का होने के कारण देवताओं की रात्रि एक ही होनी चाहिए। लेकिन बोधिनी एकादशी तक केवल चार मास ही काफी हैं। अर्थात रात का एक तिहाई हिस्सा बचा है, और देवता जाग जाते हैं और अपना व्यवहार करने लगते हैं। नवसृष्टि की निर्मिती का ब्रह्मदेवता का कार्य शुरू रहता है और पालनकर्ता श्रीविष्णु निष्क्रिय रहते हैं। इसलिए चातुर्मास को विष्णुशयन कहा जाता है। आषाढ़ शुद्ध एकादशी को विष्णुशयन, जबकि कार्तिक शुद्ध एकादशी के बाद द्वादशी को विष्णु प्रबोधोत्सव मनाया जाता है।

हमारे मन व शरीर की भी बदल जाती प्रकृति

इस अवधि में बारिश के कारण पृथ्वी का रूप बदल जाता है। भारी बारिश के कारण ज्यादा स्थानांतर संभव ना होने के कारण चातुर्मास का व्रत एक ही स्थान पर करने की प्रथा बन गई। इस कालावधि में सामान्यतः सभी की मानसिक स्थिति में परिवर्तन होता है और शरीर का पाचन तंत्र भी अलग प्रकार से क्रिया करता है। इसीलिए इस समय कंद, बैंगन, इमली ऐसे खाद्य पदार्थों से बचने की सलाह दी जाती है। चातुर्मास की विशेषता उन चीजों का अनुष्ठान है जो परमार्थ का पोषण करती हैं और उन चीजों का निषेध जो प्रपंच के लिए घातक हैं। चातुर्मास में श्रावण मास का विशेष महत्व है।

चातुर्मास का महत्व

देवताओं की इस नींद के दौरान, राक्षस प्रबल हो जाते हैं और मनुष्यों को परेशान करना शुरू कर देते हैं। हर किसी को राक्षसों से अपनी रक्षा के लिए कुछ न कुछ व्रत अवश्य करना चाहिए। ऐसा धर्मशास्त्र कहते हैं -

वार्षिकांश्र्चतुरो मासान् वाहयेत् के नचिन्नर:।

व्रतेन न चेदाप्रोति किल्मिषं वत्सरोद्भवम् ।।

अर्थात प्रत्येक वर्ष चातुर्मास में व्यक्ति को कुछ व्रत अवश्य करना चाहिए, अन्यथा वह संवत्सरोध्दव जैसा पाप लगता है।'

चातुर्मास में व्रत-वैकल्यओं का महत्व

श्रावण, भाद्रपद, अश्विन और कार्तिक (चातुर्मास) के चार महीनों के दौरान पृथ्वी पर आने वाली तरंगों में अधिक तमोगुण के साथ यमलहरी का अनुपात अधिक होता है। उन्हें सामना करने में सक्षम होना चाहिए; इसलिए सात्त्विकता को बढ़ाना आवश्यक है। चातुर्मास में अधिक से अधिक त्यौहार और व्रत होते हैं क्योंकि त्योहारों और व्रतों के माध्यम से सात्विकता बढ़ती है। चातुर्मास (चार महीने) में व्यक्ति को व्रतस्थ रहना होता है।

जो मिल जाए, खा लेना चाहिए

चातुर्मास में आम लोग एक तो व्रत करते हैं। पर्ण भोजन (पत्ते पर भोजन करना), एकांगी (एक समय में भोजन करना), अयाचित (बिना मांगे जितना मिल सके उतना खाना), एक परोसना (एक ही बार में सभी खाद्य पदार्थ लेना), मिश्र भोजन (एक बार में सभी खाद्य पदार्थ लेना व सब एकत्रित कर के खाना) इत्यादि भोजन के नियम कर सकते हैं। कई महिलाएं चातुर्मास में 'धरने-पारने' नामक व्रत करती है। इसमें एक दिन का उपवास और अगले दिन भोजन करना, ऐसे निरंतर चार महीने करना होता है। कई महिलाएं चार महीने में एक या दो अनाज पर रहती हैं। कुछ एक समय ही भोजन करती हैं। देश के आधार पर, चातुर्मास में विभिन्न रीति-रिवाजों का पालन किया जाता है।

सूर्य व बादलों में बन जाती पट्टी

वर्षा ऋतु में हमारे और सूर्य के बीच बादलों की एक पट्टी बन जाती है। इसलिए, सूर्य की किरणें, अर्थात तेजतत्व और आकाश तत्व अन्य समय जैसे पृथ्वी नहीं पहुंच सकते हैं। फलस्वरूप वायुमंडल में पृथ्वी और आप तत्व की प्रधानता बढ़ती है। इसलिए वातावरण में विभिन्न रोगाणुओं, रज-तम या काली शक्ति का विघटन न होने के कारण इस वातावरण में महामारी फैल जाती है और व्यक्ति आलस्य या नींद का अनुभव करता है। व्रत-वैकल्यास, उपवास, सात्विक भोजन करने और नामजप करने से हम शारीरिक, मानसिक और आध्यात्मिक रूप से रज-तम का विरोध करने में सक्षम होते हैं, इसलिए चातुर्मास में व्रतवैकल्या करते हैं।

चातुर्मास में व्रत का महत्व

चातुर्मास के दौरान एक ही प्रकार का भोजन करने वाला व्यक्ति स्वस्थ रहता है। जो एक बार खाता है उसे बारह यज्ञों का फल मिलता है। जो केवल जल पीता है, उसे प्रतिदिन अश्वमेध यज्ञ का फल मिलता है। जो केवल दूध या फल खाता है, उसके हजारों पाप तुरंत नष्ट हो जाते हैं। जो 15 दिन में से एक दिन उपवास करता है, उसके शरीर के अनेक दोष नष्ट हो जाते हैं और भोजन करने के बाद 14 दिन में उसके शरीर में जो रस उत्पन्न होता है, वह ऊर्जा में परिवर्तित हो जाता है इसलिए एकादशी का व्रत करना महत्वपूर्ण है। ये चार मास नामजप और तपस्या के लिए उत्तम हैं।

गरिष्ठ भोजन नहीं करना चाहिए

चातुर्मास में विष्णु को न चढ़ाए जाने वाले खाद्य पदार्थ, मसूर, मांस, लोबिया, अचार, बैंगन, बेर, मूली, आंवला, इमली, प्याज और लहसुन इस अवधि के दौरान वर्जित माने जाते हैं। चातुर्मास में मंच पर सोने के अलावा, दूसरे का भोजन, विवाह या इसी तरह की अन्य गतिविधियां यति को वर्जित हैं। यति को एक स्थान पर चार महीने या कम से कम दो महीने तक रहना चाहिए, ऐसा धर्मसिंधु और कुछ अन्य धर्म ग्रंथों में कहा गया है।

इन खाद्य पदार्थों का करें सेवन

चातुर्मास में हविशष्यन्ना का सेवन करना चाहिए। चावल, हरे चने, जौ, तिल, मटर, गेहूं, समुद्री नमक, गाय का दूध, दही, घी, सौंफ, आम, नारियल, केला आदि खाद्य पदार्थ हविष्य हैं। त्योहार, व्रत और उत्सव को न केवल एक अनुष्ठान के रूप में मनाया जाए, अपितु उनके पीछे के धर्मशास्त्र को जानकर अधिक श्रद्धा के साथ मनाया जाए तो चैतन्य मिलता है। यह 'धर्मशास्त्र' ग्रंथ में दिया गया है। आइए, हम धर्मशास्त्र के अनुसार चातुर्मास के त्योहार, व्रत और उत्सव मनाकर ईश्वरीय कृपा प्राप्त करें।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.