सावन साग न भादो दही...भाद्रपद मास में खानपान का विशेष ध्यान रखें, सोच-समझकर कोई भी फल-सब्जी खाएं

Health Tips. भादो महीने में खानपान पर खास ध्यान देने की जरूरत है। कोई भी फल-सब्जी काफी सोच-समझकर खाएं। जमशेदपुर की आयुर्वेद व प्राकृतिक चिकित्सा विशेषज्ञ सीमा पांडेय आपको बता रही हैं कि क्या खान उचित रहेगा एवं क्या खाना अनुचित।

Rakesh RanjanWed, 15 Sep 2021 09:44 AM (IST)
जमशेदपुर की आयुर्वेद व प्राकृतिक चिकित्सा विशेषज्ञ सीमा पांडेय के टिप्स।

जमशेदपुर, जासं। सावन साग न भादो दही... की लोकोक्ति तो आपने कभी न कभी सुनी ही होगी। नहीं सुनी है तो जान लीजिए। हमारे पुरखों ने हर माह में खानपान का तरीका भी बता दिया था, ताकि हम हमेशा स्वस्थ व तंदुरुस्त रह सकें। बरसात के इस मौसम में क्या खाना चाहिए, क्या नहीं, बता रही हैं जमशेदपुर की आयुर्वेद व प्राकृतिक चिकित्सा विशेषज्ञ सीमा पांडेय।

वह कहती हैं कि सावन व भादो या भाद्रपद मास में खानपान का विशेष ध्यान रखना चाहिए। आषाढ़ के बाद ये दोनों महीने भी बरसात के मौसम होते हैं। इस मौसम में जठराग्नि (पाचन शक्ति) कमजोर व मंद हो जाती है। इसलिए वात पित्त व कफ से संबंधित रोग बढ़ जाते हैं। वर्षा ऋतु में जलवायु में विषाक्त या विषैले कीटाणु पैदा हो जाते है, जो बीमारियां फैलाते हैं। ये कीटाणु खेत में लगे फल व सब्जियों को भी अपना घर बना लेते हैं। हालांकि दूध-दही खेत में नहीं होते, लेकिन वातावरण में व्याप्त कीटाणु का असर इन पर भी खूब होता है, इसलिए दूध-दही का यथासंभव सेवन करने से बचें या न खाएं। आइए जानते हैं कि इस महीने में क्या पथ्य है, क्या अपथ्य।

इन चीजों का सेवन नहीं करना चाहिए

- दूध ना पीएं।

- हरी पते वाली सब्जियां न खाएं।

- रसदार फल न खाएं।

- बैंगन न खाएं, क्योंकि इसमें कीड़े हो जाते हैं और पेट में गैस भी बनाते हैं।

- चकुंदर, खीरा, ककड़ी न खाएं।

- फास्ट फूड न खाएं।

- ज्यादा मिठाई न खाएं।

- मांस-मदिरा न लें।

- ठंडी व बासी चीज न खायं।

- आइसक्रीम व कोल्ड ड्रिंक्स न पीएं।

इन चीजों का करें सेवन

आयुर्वेद के अनुसार इस महीने में जल्दी पचने वाले ताजा व गर्म भोजन करना चाहिए।

- सेब, केला, अनार, नासपाती आदि मौसमी फल खाएं।

- टमाटर का सूप ले सकते हैं।

- अदरक, प्याज, लहसुन खाएं।

- बेसन की चीजें व हलवा खाएं।

- पानी उबाल कर पीएं।

- हल्दी वाला दूध पीएं।

- देसी चाय या काढ़ा पीएं।

- पुराना चावल, गेहूं, मक्का, सरसों, मूंग, अरहर की दाल खाएं।

- छोटी हरड़ खाएं, पेट साफ़ रहेगा व पेट की बीमारियों से बचाव रहेगा।

जमशेदपुर की आयुर्वेद व प्राकृतिक चिकित्सा विशेषज्ञ सीमा पांडेय ।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.