CISCE Exam Cencel :सीआइएससीइ का बड़ा फैसला, दसवीं की परीक्षा रद, छात्रों को नहीं मिलेगा कोई मौका

ICSE class 10 board exam cancelled सीआइएससीइ ने आइसीएसई यानि दसवीं की परीक्षा की परीक्षा को रद कर दिया है। सिर्फ यहीं नहीं आगे दसवीं के छात्रों को कोई ऑप्शन भी नहीं दिया गया है। मालूम हो कि सीबीएसई ने दसवीं के छात्रों को ऑप्शन दे रखा है।

Jitendra SinghPublish:Tue, 20 Apr 2021 09:50 AM (IST) Updated:Tue, 20 Apr 2021 01:40 PM (IST)
CISCE Exam Cencel :सीआइएससीइ का बड़ा फैसला, दसवीं की परीक्षा रद, छात्रों को नहीं मिलेगा कोई मौका
CISCE Exam Cencel :सीआइएससीइ का बड़ा फैसला, दसवीं की परीक्षा रद, छात्रों को नहीं मिलेगा कोई मौका

जमशेदपुर (जागरण संवाददाता)। सीआइएससीइ ने आइसीएसई यानि दसवीं की परीक्षा की परीक्षा को रद कर दिया है। सिर्फ यहीं नहीं आगे दसवीं के छात्रों को कोई ऑप्शन भी नहीं दिया गया है। मालूम हो कि सीबीएसई ने दसवीं के छात्रों को ऑप्शन दे रखा है, लेकिन सीआइएससीई द्वारा ऑप्शन नहीं दिए जान से छात्र भी हतप्रभ है। सोमवार देर रात जारी नोटिफिकेशन में काउंसिल ने सभी स्कूलों में 11वीं में नामांकन प्रारंभ करने का निर्देश दिया है। यह भी कहा कि स्कूलों द्वारा लिए गए टेस्ट के आधार छात्रों का मूल्यांकन कर रिजल्ट प्रकाशित किया जाएगा। रिजल्ट की जानकारी जल्द ही दी जाएगी। आइएससी यानि 12वीं की परीक्षा यथावत होगी। जमशेदपुर के साकची स्थित दयानंद पब्लिक स्कूल की प्रिंसिपल स्वर्णा मिश्रा नकि जल्द ही 11वीं में नामांकन के लिए प्रक्रिया प्रारंभ कर दी गई है।

सीबीएसई की तरह ऑप्शन नहीं होने से छात्र नाराज

सीबीएसई ने दसवीं की परीक्षा रद करने के बावजूद छात्रों के पास ऑप्शन खुला रखा है। सीआइएससीइ के निर्णय से छात्र नाराज है। आइसीएसइ की छात्रा मेघना श्रीवास्तव व छात्र मो. उमेर आलम ने बताया कि काउंसिल के पहले के निर्णय से वे काफी खुश थे कि चलो कम से कम दो माह परीक्षा होगी, लेकिन वर्तमान निर्णय से वे काफी आहत है। कम से सीबीएसई की तरह छात्रों को मौका दिया जाना चाहिए था। छात्रों ने बताया कि हमारी एक साल की मेहनत एक नोटिस में बेकार हो गई। अब स्कूलों द्वारा तय माक्र्स के आधार पर हमारा परिणाम जारी होगा। बोर्ड एग्जाम में छात्रों के पास अच्छे अंक प्राप्त करने का मौका होता है। यह अब संभव नहीं है। सब एक झटके में बेकार हो गया। इस तरह के निर्णय से कम से कम काउंसिल को छात्रों से राय लेनी चाहिए थी।