Indian Railways: टाटानगर स्टेशन में लगाया जा रहा है ब्रिज गाडर, लिया गया है पावर ब्लॉक

टाटानगर स्टेशन में सेकेंड एंट्री गेट में फुट ओवर ब्रिज का काम लगभग 2 साल से लंबित है। टाटानगर में गुड ट्रेनों की काफी आवाजाही होती है इसके कारण निर्माण कार्य में तकनीकी रूप से काफी देरी आ रही है ऐसे में योजना काफी समय से लंबित चल रहा था।

Rakesh RanjanPublish:Fri, 26 Nov 2021 05:54 PM (IST) Updated:Fri, 26 Nov 2021 05:54 PM (IST)
Indian Railways: टाटानगर स्टेशन में लगाया जा रहा है ब्रिज गाडर, लिया गया है पावर ब्लॉक
Indian Railways: टाटानगर स्टेशन में लगाया जा रहा है ब्रिज गाडर, लिया गया है पावर ब्लॉक

जागरण संवाददाता, जमशेदपुर : टाटानगर स्टेशन के बर्मामाइंस छोर की ओर सेकंड एंट्री गेट का निर्माण होना है। इसके लिए शुक्रवार सुबह फुट ओवरब्रिज का निर्माण किया जा रहा है। इसके लिए स्टेशन के लाइन नंबर छह से 9 तक पावर ब्लॉक लिया गया है। इस दौरान उक्त सभी लाइन पर ट्रेनों की आवाजाही नहीं होगी।

टाटानगर रेलवे स्टेशन मैं बर्मामाइंस छोर की ओर एक नया सेकेंड इंट्री गेट बनना है जिसका निर्माण कार्य फरवरी 2022 तक पूरा होना है। इस एंट्री गेट को फुट ओवरब्रिज से जोड़ा जाना है। फुट ओवर ब्रिज का काम स्टेशन के पांच नंबर प्लेटफार्म तक पूरा हो चुका है जबकि छह से आगे तक की लाइन के ऊपर यह ब्रिज का निर्माण किया जाना है । इसके लिए शुक्रवार सुबह पौने छह घंटे का पावर ब्लॉक लिया गया है और इस दौरान रेलवे के 140 टन हेवी क्रेन से ब्रिज गार्डर को फुट ओवर ब्रिज के लिए लगाया जा रहा है। इसके लिए रेलवे प्रबंधन ने ट्रेन के लिए ऊपर से गुजरने वाले 25000 वोल्टेज के ओवरहेड वायर को भी खोल दिया है ताकि काम आसानी से हो सके। पावर ब्लॉक सुबह 10 बजे से शाम 3:45 बजे तक लिया गया है। इस नए फुट ओवर ब्रिज के बनने से सेकंड एंट्री गेट में यात्रियों के स्टेशन पर पहुंचने में आसानी होगी। इस काम के लिए इंजीनियरिंग विभाग की टीम सुबह से काफी मशक्कत कर रही है और बिग रिकॉर्डर का उसकी सही जगह पर लगाने के लिए काम कर रही है।

दो साल से लंबित है योजना

टाटानगर स्टेशन में सेकेंड एंट्री गेट में फुट ओवर ब्रिज का काम लगभग 2 साल से लंबित है। टाटानगर में गुड ट्रेनों की काफी आवाजाही होती है इसके कारण निर्माण कार्य में तकनीकी रूप से काफी देरी आ रही है ऐसे में योजना काफी समय से लंबित चल रहा था। लेकिन शुक्रवार को रेल प्रबंधन ने छह घंटे का पावर ब्लॉक लेकर इस काम को पूर्ण करने का निर्णय लिया है।