ATM OTP, Paytm KYC, Tax Refund ... एक गलती और गाढ़ी कमाई हो जाएगी गायब, ऐसे जालसाजों से बचे

Cyber Fraud तू डाल-डाल साइबर चोर पात-पात। आप जितनी भी सावधानी बरत लें लेकिन यह साइबर अपराधी आपको अपने जाल में फंसा ही लेते हैं। लेकिन अगर आप थोड़े सजग हैं तो इन चोरों के मंशा पर पानी फिर सकता है। आइए जानते हैं इससे कैसे बचा जाए....

Jitendra SinghMon, 13 Sep 2021 06:01 AM (IST)
एक गलती और गाढ़ी कमाई हो जाएगी गायब, ऐसे जालसाजों से बचे

जमशेदपुर : देश में जब से डिजिटल का दौर शुरू हुआ है तब से हर काम आसान हो गया है। इंटरनेट बैंकिंग से पैसे कहीं ट्रांसफर कराना हो, ऑनलाइन शॉपिंग करना हो या ट्रेन व हवाई यात्रा के लिए टिकट बुक कराना हो। सारा कुछ अब इंटरनेट से होता है। लेकिन इसके कारण काम जितना असान हुआ उतना ही ज्यादा खतरा भी बढ़ गया है। ये खतरा है साइबर ठगी का।

झारखंड के जामताड़ा में इस पूरा गढ़ है। जहां आइटी प्रोफेशनल नहीं बल्कि थोड़ी-बहुत जानकारी के साथ लोगों की टीम इससे जुड़े हुए हैं। जो साइबरी ठगी द्वारा लोगों को लूटने के लिए नए-नए तरीके अपनाते हैं। इनका अपना कॉल सेंटर तक है जहां से ये देश भर के ऐसे लोगों को फंसाते हैं जो तकनीकी रूप से इतने दक्ष्य नहीं है। जो भोले-भाले हैं और आसानी से दूसरों की बातों में आ जाते हैं। तो आइए हम बताते हैं कि थोड़ी सी सावधानी बरतने के बाद आप कैसे ऐसे साइबर ठगों का शिकार होने से बचेंगे भी और अपने पैसों को भी सुरक्षित रख पाएंगे। तो आइए इससे बचने के तरीके जानते हैं ...

लॉटरी लगने का देते हैं लालच

अक्सर ये साइबर ठग आपके ईमेल आइटी या फोन पर बताएंगे कि फलां कंपनी की ओर से एक लकी ड्रा का आयोजन किया गया था जिसमें आपके नंबर को करोड़ों रुपये का इनाम मिला है। या उक्त कंपनी का एक बंपर ऑफर चल रहा था जिसमें आपको कंपनी मुफ्त में फलां सामान दे रही है। इसे क्लेम करने के लिए वे आपको फंसाते हैं और आपको आपका पूरा डिटेल मांगती है। इसमें आपका नाम, पिता का नाम, बैंक एकाउंट नंबर, आधार कार्ड व पैन कार्ड का नंबर तक मांगती है। जैसे ही आप उन्हें अपनी पूरी जानकारी देते हैं, वे कहते हैं कि आपको इनाम मिलेगा, इसके लिए कंपनी आपका मोबाइल नंबर और आपका नाम जांच रही है। इसके लिए आपको एक ओटीपी नंबर भेजा है। ये नंबर हमें बताइए। जैसे ही आपने ओटीपी नंबर दिया, साइबर ठग आपके एकाउंट का पूरा पैसा निकाल लेते हैं।

कैसे बचे : जब भी आपके पास ऐसे मेल आए या कोई लिंक मिले तो उसे कभी भी क्लिक नहीं करें। क्योंकि आपको बता दें कि कोई भी कंपनी किसी को एक रुपये बिना वजह के नहीं देती। जब आपने कोई लकी ड्रा में शामिल ही नहीं हुए हैं तो कैसे आपको कैसे कोई इनाम मिल सकता है इसलिए जब भी ऐसे मेल आए तो उसे रिस्पांस न करें या उसे सीधे स्पैम में डाल दे या फिर डिलीट कर दें।

केवाईसी अपडेट के नाम पर भी होती है ठगी

अक्सर आपके पास ऐसे फोन आते हैं कि वे फलां बैंक से बोल रहे हैं आपको केवाईसी अपडेट करना है। इसके लिए आपका आधार कार्ड मांगा जाता है। यह झारखंड के जामताडा और हरियाणा के मेवात के ठगों द्वारा शिकार करने का पुराना तरीका है। वे फोन कर आपको डराते हैं कि यदि डाटा अपडेट नहीं कराया तो आपका बैंक एकाउंट बंद हो जाएगा या एटीएम कार्ड ब्लॉक हो जाएगा। लेकिन जैसे ही आप अपना आधार कार्ड देते हैं वे आपका एकाउंट खाली कर रफू चक्कर हो जाते हैं।

कैसे बचे : आपको बता दें कि भारतीय रिजर्व बैंक कहता है कि कोई भी बैंक किसी भी ग्राहक को फोन कर नहीं करती और न ही फोन पर किसी के केवाईसी अपडेट कराती है इसलिए जब भी इस तरह का फोन आए तो उन्हें उन्हें कई जवाब नहीं दे। उनका फोन काट दें।

बेहतर रिटर्न के नाम पर भी ठगी

आम आदमी चाहता है कि उसके पैसे जल्द से जल्द ड़बल हो। उसके बचत को बेहतर रिटर्न मिले। साइबर ठग इसी का फायदा उठाते हैं और आपको बताएंगे कि आपको बेहतर रिटर्न मिलेगा। आप अपना आधार कार्ड का नंबर देकर अपना स्कोर कार्ड चेक कर सकते हैं लेकिन जैसे ही नंबर बताते हैं वे अपना काम कर जाते हैं। इसके अलावा इनकम टैक्स रिफंड के नाम पर, क्रेडिट और डेबिट कार्ड देने के नाम पर, किसी कंपनी का माल सस्ते में बचने के नाम पर आपको चपत लगा सकते हैं इसलिए इनसे बचे।

क्या कहते हैं साइबर एक्सपर्ट

जमशेदपुर के साइबर एक्सपर्ट यशवंत वर्मा का कहना है कि पैसे कमाना आसान नहीं है। हर कोई चाहता है कि वह रातो-रात अमीर हो जाए। उसके पास गाड़ी, बंगले, पैसे और सभी सुविधाएं हो। साइबर ठग इसका ही फायदा उठाते हैं। आप ये बात अच्छी तरह से यह जान लें कि कोई कंपनी किसी को मुफ्त में ऐसे ही कुछ नहीं देती। इसलिए कभी भी किसी के पास ऐसा ई-मेल, फोन आए तो उसे नजरदांज करें।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.