CBSE Class 12 Board Exams 2021: सीबीएसई 12 वीं की परीक्षा जुलाई-अगस्त में होगी, ये है खास वजह

तो सीबीएसई 12 वीं की परीक्षा जून में नहीं, जुलाई-अगस्त में होगी।

12 वीं की परीक्षा जून में होना संभव नहीं । कोरोना संक्रमण अपना भयावह रुप दिखा रहा है। ऐसे में यह परीक्षा इस साल जुलाई या अगस्त में ही हो पाएगी। फिलहाल कुछ खास उपायों पर मंथन हो रहा है

Jitendra SinghMon, 10 May 2021 08:28 AM (IST)

जमशेदपुर : देश में कोरोना संक्रमण भयावह रुप ले चुकी है। इसी को देखते हुए सीबीएसई ने 10वीं की परीक्षा रद कर दी, वहीं 12वीं की परीक्षा की तिथि जून के पहले सप्ताह में घोषित करने की बात कही है। लेकिन वर्तमान परिस्थिति में यह परीक्षा जून में होना संभव नहीं है। अगर स्थिति में थोड़ी भी सुधार होती है तो परीक्षा जुलाई के अंत व अगस्त के पहले सप्ताह में आयोजित होगी। 

बढ़ रहे संक्रमण तो फिर कैसे हो परीक्षा

सीबीएसई स्कूल के पूर्व प्राचार्य एनएम सिंह की माने तो जिस तरह कोरोना संक्रमण का ग्राफ दिनों दिन नई ऊंचाई को छू रहा है, वैसे में 12 वीं की परीक्षा कराना संभव नहीं है। वर्तमान में देश में हर रोज चार लाख से अधिक संक्रमित मरीज मिल रहे हैं। इसमें कई शिक्षक भी हैं। देश के कई राज्यों की हालत खराब है और जून में स्थिति सामान्य होने की कोई उम्मीद नजर नहीं आ रही है। कई राज्यों में लॉकडाउन लगाए गए हैं और फिर भी विशेषज्ञ बताते हैं कि दूसरी लहर अगले 15 दिनों में चरम पर पहुंचने की उम्मीद है।

पहले लहर में पिक आने की तीन महीने बाद हुए थे हालात सामान्य

साकची में सीबीएसई बच्चों को गणित पढ़ाने वाले विकास शर्मा कहते हैं, हम मान भी ले कि जून में संक्रमण की दर में गिरावट आएगी, लेकिन स्थिति तो सामान्य नहीं हो पाएगी। आखिर परीक्षा केंद्र में बच्चे कैसे एग्जाम दे पाएंगे। पहली लहर में कोरोना का पिक तीन महीने के बाद कम हुआ था। हालांकि यह बिल्कुल सही नहीं है क्योंकि सक्रिय मामलों के अनुपात में रिकवरी की उम्मीद की जा रही है। संक्रमण की दर में गिरावट की भी संभावना है। लेकिन फिर भी जून में परीक्षा कंडक्ट कराना संभव नजर नहीं आता, क्योंकि बच्चों की सुरक्षा पहली प्राथमिकता है। ऐसे में जुलाई से पहले 12वीं की परीक्षा नहीं हो पाएगी।

हजारों छात्रों ने खोया परिवार, फिलहाल संभव नहीं 12वीं की परीक्षा

बिष्टुपुर के रहने वाले विनय गोयल सीबीएसई के छात्रों को मैथ्स व फिजिक्स पड़ाते हैं। वह भी इस बात से सहमत हैं कि जून में परीक्षा नहीं हो पाएगी। वह कहते हैं, भले ही बोर्ड परीक्षा की तिथि की घोषणा कर दे, लेकिन यह सवाल उठता है कि अभिभावक या फिर छात्र ऐसी परिस्थिति में परीक्षा केंद्र पर आने को तैयार होंगे। दूसरी लहर ने कहर बरपाया है और इतने सारे छात्र प्रभावित हुए हैं। कितनों के परिवार का सदस्य खो गया। ऐसी परिस्थिति में जुलाई के अंत या अगस्त में परीक्षा का आयोजन हो सकेगा।

अब तक पहलासेमेस्टर  खत्म हो जाता

लेकिन गोविंदपुर के शिक्षक राजीव कहते हैं, 12वीं की परीक्षा अगस्त तक स्थगित किया जा सकता है।लेकिन सबसे बड़ा सवाल, उसके बाद परिस्थितियां अनुकूल होंगी, इसकी क्या गारंटी है। यह शैक्षणिक वर्ष पहले से ही तीन महीने बढ़ा दिया गया है। तीन महीने में एक सेमेस्टर खत्म हो जाता है। ऐसे में अगले सत्र का एक सेमेस्टर तो खत्म हो गया है। इसके बाद एकाध महीने बाद दूसरा सेमेस्टर भी खत्म हो जाता। अगर ऐसा रहता है तो यह साल ही बर्बाद हो जाएगा।

सीबीएसई को प्लान बी भी रखना होगा तैयार

शिक्षकों का मानना है कि वर्तमान परिस्थिति में अगस्त तक परीक्षा को टाला जा सकता है। लेकिन उसके बाद हमें एक डेडलाइन तय करनी ही होगी। सीबीएसई और अन्य राज्य बोर्डों के लिए वैकल्पिक योजना पर निर्णय लेने का समय आ गया है। सबसे बड़ी चिंता समानता की है। बोर्ड को अब सर्वसम्मति ढूंढनी होगी, प्लान बी पर फैसला करना होगा और विकल्पों पर विचार करना होगा। दसवीं की तरह प्रोविजनल रिजल्ट भी दिए जा सकते हैं। UGC को नामांकन प्रक्रिया को सुविधाजनक बनाना होगा। विश्वविद्यालय साक्षात्कार, ऑनलाइन प्रवेश परीक्षाओं पर विचार कर सकते हैं। हम समझते हैं कि यह पहले कभी नहीं किया गया है और न ही हम इससे पहले दुनिया भर में महामारी से गुजरे हैं!

देश भर में कक्षा 12 के छात्रों के लिए, हालांकि, प्रतीक्षा में कोई अंत नहीं है। बड़ी संख्या में छात्र परीक्षा रद करने की मांग कर रहे हैं। जून में परीक्षा होगी या नहीं, सब कुछ संक्रमण के स्तर पर निर्भर है।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.