top menutop menutop menu

संक्रमण से बचाव को अपनाएं हर सुरक्षात्मक उपाय : डीसी

जासं, हजारीबाग : नगर भवन में बुधवार को उपायुक्त डॉ भुवनेश प्रताप सिंह व पुलिस अधीक्षक कार्तिक एस की अध्यक्षता में खनन टास्क फोर्स, नीलाम पत्र, सड़क सुरक्षा, कार्य सुरक्षा समिति, यूनिफाइड कमांड, 13वें वित्त, पशु क्रूरता निवारण एवं एससीए की बैठक हुई। उपायुक्त ने कहा कि जिले में कोरोना संक्रमण की गति में तेजी आई है और कुछ पुलिसकर्मी भी संक्रमण के शिकार हुए हैं जिसके कारण कुछ थानों को बंद करने की नौबत आ गई है। इस संबंध में उपायुक्त ने सभी थाना को एसओपी बनाने की बात कही। कहा कि कोरोना काल में अपराधियों को पकड़ने के लिए पुलिस अधिकारी आवश्यक सभी सुरक्षात्मक उपाय अपनाएं। जब भी पुलिस अधिकारी किसी अपराधी को पकड़े तो उन्हें थाना ले जाने से पूर्व सदर अस्पताल ले जाए जहां उनकी ट्रू नेट के माध्यम से कोविड-19 की जांच की जा सके। उन्होंने कहा बरही अनुमंडल अस्पताल में ट्रूनेट लैब मशीन की अधिष्ठापन की जाएगी7 उन्होंने मौजूद सभी पुलिस अधिकारियों को जेएसएलपीएस द्वारा निर्मित पीपीई किट का प्रयोग करने को कहा। वहीं पुलिस अधीक्षक ने भी पुलिस को ग्लब्स, मास्क, सैनिटाइजर आदि के निरंतर प्रयोग करने को कहा तथा गाड़ी, हथकड़ी आदि को नियमित सैनिटाइज करने का निर्देश दिया। हर थाने पर थर्मल स्कैनर लगाते हुए सभी व्यक्तियों की सूची बनाने की भी बात कही। शारीरिक दूरी उल्लंघन मामले पर प्राथमिकी दर्ज करने की कवायद पर तेजी लाने को कहा ताकि आमजन पर इसका प्रभाव पड़ सके। मौके पर उपायुक्त ने एससीए (विशेष केंद्रीय सहायता) के चर्चा करते हुए कहा कि इस कार्यक्रम के तहत रोजगार निर्माण, रोजगार, महिला सशक्तिकरण आदि को लेकर लाभुकों को बकरी, गाय, मुर्गी पालन आदि योजना का लाभ मुहैया कराते खनन संबंधी विषय पर चर्चा करते हुए उपायुक्त ने कहा कि करीब 70 हजार प्रवासी मजदूर के लौटने के बाद निर्माण कार्यों में तेजी लाकर उनका रोजगार मुहैया कराना है। इसके लिए बालू उठाव कार्यों में किसी भी प्रकार की अनियमितता बर्दाश्त नहीं की जाएगी वही बालू की किल्लत संबंध पर संबंधित अधिकारी जिम्मेदार होंगे। बालू की ढुलाई केवल ट्रैक्टर पर होगी। हाईवा व अन्य बड़े वाहनों पर बालू की ढुलाई प्रतिबंधित है। साथ ही उन्होंने कहा कि अवैध बालू गाड़ी पकड़े जाने पर उनको छोड़ने की अनुमति उपायुक्त से लेनी होगी। इस बाबत अंचलाधिकारी को जब्त गाड़ियों को थाने में खड़ी करने का निर्देश दिया। अवैध क्रशर के संचालन को रोकना है तथा वन अधिकार क्षेत्र में लगे क्रशर को ध्वस्त करने का भी निर्देश दिया। पशु क्रूरता की चर्चा करते हुए उपायुक्त ने कहा कि सदर बीडीओ को 12 एकड़ भूमि चिन्हित करने को कहा गया है ताकि आवारा पशुओं, गायों के रखरखाव के लिए पशुपालन विभाग द्वारा जीव जंतु कल्याण बोर्ड को जमीन मुहैया कराकर वैसे पशुओं को वहां रखकर उनकी देखभाल की जा सके7 मौके पर डीडीसी विजया जाधव, सदर एसडीओ मेघा भारद्वाज, बरही एसडीओ कुमार ताराचंद, अपर समाहर्ता प्रदीप तिग्गा, डीआरडीए निदेशक उमा महतो सहित बीडीओ-सीओ व थाना प्रभारी उपस्थित थे।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.