दिल्ली

उत्तर प्रदेश

पंजाब

बिहार

उत्तराखंड

हरियाणा

झारखण्ड

राजस्थान

जम्मू-कश्मीर

हिमाचल प्रदेश

पश्चिम बंगाल

ओडिशा

महाराष्ट्र

गुजरात

अनाथ बच्चों को बीडीओ ने दिया 50 किलो चावल व आर्थिक सहयोग

अनाथ बच्चों को बीडीओ ने दिया 50 किलो चावल व आर्थिक सहयोग

संवाद सूत्र घाघरा (गुमला) प्रखंड के चुंदरी नवाटोली गांव में माता-पिता के मौत के बाद चार

JagranTue, 18 May 2021 09:55 PM (IST)

संवाद सूत्र, घाघरा (गुमला) : प्रखंड के चुंदरी नवाटोली गांव में माता-पिता के मौत के बाद चार नाबालिग बच्चों के अनाथ होने की खबर दैनिक जागरण के 18 मई के अंक में प्रमुखता से प्रकाशित होने के बाद घाघरा बीडीओ विष्णुदेव कच्छप ने मंगलवार को चुंदरी पहुंचे और अनाथ बच्चों से मुलाकात कर उनसे बातचीत किया। अनाथ बच्चों के लिए बीडीओ ने तत्काल 50 किलो चावल और एक हजार रुपया दिया। मुखिया व पंचायत सेवक ने भी पांच-पांच सौ रुपया का आर्थिक सहयोग किया। बीडीओ ने कहा अनाथ बच्चों के साथ प्रशासन है। हर संभव सहयोग किया जाएगा। बीडीओ ने पंचायत सेवक और सहिया को गांव में स्वास्थ्य जांच के लिए आवश्यक दिशा निर्देश दिया। बीमारी के लक्षण वाले व्यक्ति का आक्सीजन लेबल नापने के लिए ऑक्सीमीटर दिया। लक्षण के अनुरूप बीमार लोगों का कोरोना जांच कराने की भी सलाह दी। किसी प्रकार की समस्या होने पर गुमला सदर अस्पताल में इलाज के लिए भर्ती कराने का निर्देश दिया। मौके पर मुखिया आदित्य भगत ने बताया कि यहां लगभग 90 लोगों का कोरोना जांच कराया गया था जिसमें दो लोगों का रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव आया था। जिसे होम आइसोलेशन किया गया है। अभी पूरी तरह से स्वस्थ है। गांव में मलेरिया व टाइफाइड की शिकायत है। गांव में शिविर लगाकर मलेरिया व टाइफाइड की जांच के लिए मुखिया ने बीडीओ से अनुरोध किया।।

सीडब्ल्यूसी ने आनलाइन लिया संज्ञान

वहीं अनाथ बच्चों की खबर छपने के बाद सीडब्ल्यूसी ने मंगलवार को आनलाइन संज्ञान लेते हुए बच्चों से बातचीत की। विकास भारती चाइल्ड लाइन के काऑर्डिनेटर बिदेश्वर पासवान व सदस्य हिरण नायक ने चुंदरी गांव पहुंची कर अनाथ बच्चों को बाल कल्याण समिति के सदस्यों से आनलाइन बात कराया। बाल कल्याण समिति के सदस्यों ने सभी अनाथ बच्चों को अपने संरक्षण में लेने और शिक्षा पुर्नवास की जानकारी दी। बच्चों ने कहा कि अभी कम से कम 10 दिनों तक हम लोग अपने दादा के साथ रहेंगे। सीडब्ल्यूसी के सदस्यों ने कहा कि जब भी अनाथ बच्चों को संरक्षण की जरूरत महसूस होगी उनके लिए सीडब्ल्यूसी का दरवाजा खुला है। चाइल्ड लाइन के सदस्यों को अनाथ बच्चों के संरक्षण के लिए संपर्क में रहने का निर्देश दिया गया।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.