ईसीएल के सहयोग से आइटीआइ भवन बनेगा कोविड हॉस्पिटल

ईसीएल के सहयोग से आइटीआइ भवन बनेगा कोविड हॉस्पिटल

ललमटिया-महागामा पेज की संभावित लीड फोटो - 10 - 10 वर्ष से सफेद हाथी बना हुआ है ईसीएल ि

JagranThu, 15 Apr 2021 05:56 PM (IST)

ललमटिया-महागामा पेज की संभावित लीड

फोटो - 10 - 10 वर्ष से सफेद हाथी बना हुआ है ईसीएल निर्मित आइटीआइ भवन

- गत वर्ष भी कोरोना काल में इसे बनाया गया था क्वारंटाइन सेंटर जागरण संवाददाता, गोड्डा : जिला प्रशासन ने महागामा अनुमंडल क्षेत्र के ललमटिया स्थित आइटीआइ भवन में कोविड हॉस्पिटल चेलगा। उपायुक्त भोर सिंह यादव ने महागामा एसडीओ जितेंद्र कुमार देव को दिशा निर्देश दिया है कि वे ईसीएल के सहयोग से ललमटिया स्थित आइटीआइ भवन को कोविड केंयर सेंटर के रूप में जल्द से जल्द विकसित कर चालू करें। महागामा क्षेत्र में कोविड मरीजों की संख्या भी लगातार बढ़ रही है। वहां से मरीजों को जिला मुख्यालय लाकर सिकटिया कोविड केयर सेंटर में भर्ती कराना पड़ता है। इस परेशानी को देखते हुए जिला प्रशासन ने पहल की है कि महागामा अनुमंडल क्षेत्र के वैसे कोविड मरीज जिन्हें अस्पताल में भर्ती कराना आवश्यक है, उन्हें ललमटिया स्थित आइटीआइ भवन में नए सिरे से तैयार कोविड हॉस्पिटल में चिकित्सकीय सुविधाएं प्रदान की जाएगी।

बता दें कि गत वर्ष भी कोरोना काल में ललमटिया आइटीआइ भवन को क्वारंटाइन सेंटर के रूप में उपयोग में लाया गया था। वहां जून से लेकर अक्टूबर माह तक मरीजों के लिए आवासन सहित अन्य जरूरी सुविधाएं दी गई थी। इस बार उसे कोविड हॉस्पिटल के रूप में डवलप करने की योजना है। इसके लिए ईसीएल के साथ अनुमंडल प्रशासन की वार्ता हो चुकी है। ईसीएल ने प्रशासन को भरोसा दिया है कि आपदा काल में ईसीएल प्रबंधन मदद के लिए तैयार है। कोविड हॉस्पिटल के लिए जो भी आधारभूत संसाधनों की आवश्यकता होगी, उसे सीएसआर मद से पूरा किया जाएगा।

ज्ञात हो कि एक दशक पूर्व ललमटिया स्थित आइटीआइ भवन का निर्माण ईसीएल की राजमहल परियोजना ने कराया था। करोड़ों रुपये की लागत से बना उक्त भवन बीते दस वर्षों से अधिक समय से सफेद हाथी बना हुआ है। इस संबंध में बोआरीजोर प्रखंड के जिला परिषद सदस्य रामजी साह ने कहा है कि सरकार की उदासीनता से ललमटिया आइटीआइ अब चालू नहीं हो पाया है। इसके लिए राजमहल परियोजना सहित जिला प्रशासन के आला अधिकारियों की ओर से लगातार उदासीनता ही बरती गई है। ललमटिया आइटीआइ चालू होने से यहां के बच्चों विभिन्न ट्रेडों में डिप्लोमा कर ईसीएल में नौकरी का दावा करते। आदिवासी बहुल क्षेत्र के युवाओं को तकनीकी शिक्षा से वंचित करने का प्रयास हो रहा है। कहा कि कोरोना काल में तत्काल इस भवन को कोविड हॉस्पिटल बनाकर लोगों की जान बचाने का प्रयास स्वागतयोग्य है लेकिन देर सबेर इस आइटीआइ कॉलेज को चालू कराने की जरूरत है।

-----------------------------------------------

कोरोना संक्रमण की रफ्तार को देखते हुए महागामा अनुमंडल क्षेत्र में भी एक सरकारी कोविड हॉस्पिटल की जरूरत अब दिखने लगी है। उपायुक्त की ओर से इसके लिए दिशा निर्देश भी मिला है। ईसीएल के सहयोग से ललमटिया स्थित आइटीआइ भवन को कोविड हॉस्पिटल के रूप में डवलप करने की तैयारी की जा रही है। शीघ्र ही इसे कार्यरूप दिया जाएगा। - जितेंद्र कुमार देव, एसडीओ, महागामा।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

पांच राज्यों के विधानसभा चुनावों से जुड़ी प्रमुख जानकारियों और आंकड़ों के लिए क्लिक करें।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.