top menutop menutop menu

शोषितों-पीड़ितों के मसीहा थे कर्पूरी ठाकुर

शोषितों-पीड़ितों के मसीहा थे कर्पूरी ठाकुर
Publish Date:Fri, 24 Jan 2020 07:25 PM (IST) Author: Jagran

गिरिडीह : शहर के सर्कस मैदान में शुक्रवार को जननायक कर्पूरी ठाकुर की जयंती धूमधाम से मनाई गई। समारोह में जिलेभर से महिला-पुरुष शामिल हुए और उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए अपनी एकता का परिचय दिया। सामाजिक कुरीतियों पर प्रहार करते हुए शिक्षा पर बल दिया गया। नाई समाज के विकास के लिए कुरीतियों से बाहर निकलने और शिक्षा अपनाने की अपील की गई।

समारोह को संबोधित करते हुए विधायक सुदिव्य कुमार सोनू ने कहा कि शोषित पीड़ित अंतिम पायदान पर खड़े गरीबों के मसीहा थे कर्पूरी ठाकुर। कर्पूरी ठाकुर पिछड़ों के मसीहा थे। दबे-कुचले समाज को आज नेतृत्व करने का अवसर मिल रहा है। यह कर्पूरी ठाकुर की देन है। अति पिछड़ों के उत्थान के लिए सरकार कारगर कदम उठाएगी। सीएनटी में शामिल जातियों के विकास के लिए योजना बनाने पर उन्होंने बल दिया। जननायक कर्पूरी ठाकुर की प्रतिमा शीघ्र बनेगी। मेयर सुनील पासवान ने कहा कि शोषित पीड़ित समाज को लड़कर अपना हक लेना होगा। बाबा साहेब ने भी शिक्षा, संगठन और संघर्ष पर बल दिया था।

राष्ट्रीय नाई महासभा के प्रदेश अध्यक्ष डॉ सीके ठाकुर ने झारखंड में केशकला बोर्ड गठन करने की मांग की। जिप उपाध्यक्ष कामेश्वर पासवान ने बच्चों की शिक्षा और एकजुटता की बात कही। आम आदमी पार्टी के जिला अध्यक्ष कृष्ण मुरारी शर्मा ने कहा कि समाज में पिछली पंक्ति में खड़े लोगों के लिए सरकार को योजना बनानी चाहिए। लोजपा के राष्ट्रीय महासचिव राजकुमार राज ने कर्पूरी ठाकुर को भारत रत्न देने की मांग की।

आठ सूत्री मांगों को ले प्रस्ताव पारित : जयंती समारोह में सर्वसम्मति से एक प्रस्ताव पारित किया गया, जिसमें आठ मांगें शामिल हैं। यह प्रस्ताव मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन को शीघ्र सौंपा जाएगा ।

समारोह की अध्यक्षता राष्ट्रीय नाई महासभा के जिला अध्यक्ष नन्दलाल शर्मा और संचालन रामशंकर शर्मा ने किया।

मौके पर प्रमिला मेहरा, रंजीत ठाकुर, अनिल शर्मा, गणेश ठाकुर, रामप्रसाद ठाकुर, मुंशी शर्मा, नाथो ठाकुर, अजीत शर्मा, कुंज बिहारी शर्मा, सुभाष शर्मा, हीरा देवी, अंजू देवी, मनोज शर्मा, , प्रकाश शर्मा, सुकदेव ठाकुर, गंगाधर ठाकुर, कृष्ण कांत शर्मा, कोलेश्वर ठाकुर, भागीरथ शर्मा सहित हजारों लोग उपस्थित थे।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.