दुमका में फल और सब्जियों के दाम बढ़े

जागरण संवाददाता दुमका डीजल और पेट्रोल की कीमत में वृद्धि का सीधा असर रसोई घर पर भी पड़न

JagranThu, 17 Jun 2021 12:43 AM (IST)
दुमका में फल और सब्जियों के दाम बढ़े

जागरण संवाददाता, दुमका : डीजल और पेट्रोल की कीमत में वृद्धि का सीधा असर रसोई घर पर भी पड़ने लगा है। सब्जी-फलों के मूल्य में इजाफा होने के कारण गरीब व मध्यम वर्ग के लोग मनपसंद भोजन नहीं कर पाते हैं। ऐसा लगता है कि महंगाई की ताप से रसोई भी झुलस गई हो। दुमका वासी कहते हैं कि इन दिनों आधा किलो की जगह एक पाव सब्जी में काम चलाते हैं। कभी कभार थाली से सब्जी गायब रहती है। फल खाना सभी के वश की बात नहीं।

दुमका के बाजार में कोई भी हरी सब्जी 30 रुपये प्रति किलो से नीचे नहीं बिक रही है। आलू 18 रुपये प्रतिकिलो है। बैगन 60 रुपये व परवल 45 रुपये प्रतिकिलो की दर से बिक रहा है। सेब 250 रुपये की दर से इतरा रहा है। इस माह अक्सर आम की कीमत 30 से 40 रुपये किलो थी, मगर इस बार 50 से नीचे नहीं उतर रहा है। अंगूर 300 रुपये बिक रहा है।

फल विक्रेता पप्पू केशरी का कहना है कि सब्जियों की अपेक्षा फलों की कीमत में कोई खास उछाल नहीं है। हां सेब और अंगूर का भाव तेज हुआ है। सब्जी विक्रेता रंजीत सिंह ने कहा कि बाजार की स्थिति ठीक नहीं है। इक्का-दुक्का सब्जियों को छोड़ दें तो अधिकतर का भाव 30 रुपये या इससे ऊपर है। खपत कम होने से सब्जियां खराब हो जाती हैं।

-------------------------

सब्जी और फल के मूल्य ( प्रतिकिलो)

-------------------------

फल व सब्जी - पहले - अब

आम - 40 से 50 - 50 से 60

केला - 30 रु दर्जन - 40 रुपये दर्जन

सेव - 200 - 250

अनार - 140 - 160

अंगूर - 150 से 250 - 150 से 300

नारियल - 25 - 30

टमाटर - 25 - 30

परवल - 40 - 30

भिडी - 30 - 30

करैला - 30 - 40

कद्दू - 10 रुपये पीस - 20

बैंगन - 60 - 50

कुंदली - 20 - 25

आलू - 15 - 18

फूलगोभी - 40 - 40

-----------------------------------------------------

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.