top menutop menutop menu

Top Dhanbad News of the day, Mon, 25 May, 2020, ईद-उल-फितर, दुष्कर्म की कोशिश, अमेजन गोदाम पर छापा, श्रमिक स्पेशल ट्रेन, क्वारंटाइन पर हंगामा

धनबाद, जेएनएन। लॉकडाउन और वैश्विक महामारी कोरोना की साया में धनबाद में सोमवार को ईद मनाई गई। कुमारधुबी के शिवलीबाड़ी में सोमवार तड़के एक अपराधी किस्म के युवक ने नाबालिग से दुष्कर्म की कोशिश की। लॉकडाउन के दाैरान प्रतिबंधित सामग्रियों की ऑनलाइन बिक्री की सूचना एसडीएम ने अमेजन के गोदाम में छापा मारा। 1600 प्रवसियों को लेकर चेन्नई से धनबाद पहुंची श्रमिक स्पेशल ट्रेन। आंगनाबाड़ी केंद्र में मरीज को क्वारंटाइन किए जाने के विरोध में दो गांव के लोगों के बीच सोमवार को पत्थरबाजी हुई।

लॉकडाउन की बंदिशों के बीच मनी ईद

धनबाद कोयलांचल में सोमवार को ईद-उल-फितर मनाई गई। हालांकि वैश्विक महामारी कोरोना की वजह से पूरे इस त्योहार की रौनक फीकी रही। धनबाद के रेलवे स्टेडिमय में ईद की नमाज पढ़ने की परंपरा रही है। इसमें हजारों लोग शरीक होते रहे हैं। लेकिन इस बार रेलवे स्टेडिमय में ईद की नमाज नहीं पढ़ी गई। मुस्लिम धर्मावलंबियों ने घरों में ही ईद की नमाज पढ़ी। रमजान के पवित्र महीने के खत्म होने पर ईद मनाई जाती है।  कोरोना संक्रमण का डर और लॉकडाउन की बंदिशों की वजह से धनबाद में सार्वजनिक स्थानों पर ईद की नमाज नहीं पढ़ी गई। घरों में ही नमाज पढ़ी गई। कहीं-कहीं मस्जिदों के अंदर गिनती की संख्या में लोगों ने शरीरिक दूरी का पालन करते हुए नमाज पढ़ी। लॉकडाउन की वजह से ईद की रौनक गायब है। लोग ईद मुबारक देने के लिए बड़ी संख्या में सड़कों पर निकलते थे। यह नजारा देखने को नहीं मिल रहा है। सड़कों पर सन्नाटा पसरा हुआ है। धनबाद के पुराना बाजार स्थित मस्जिद में भी सन्नाटा पसरा रहा। उपायुक्त अमित कुमार के निर्देश पर ईद-उल-फितर के अवसर पर जिले के सभी क्वारंनटाइन सेंटरों में विशेष नाश्ता दिया गया। जिले के सदर अस्पताल, पीएमसीएच, एसएसएलएनटी, रेलवे अस्पताल, निरसा पॉलिटेक्निक, तोपचांची, बाघमारा, कलियासोल सहित अन्य सभी क्वारंटाइन सेंटरों में रखे गए लोगों तथा राहत शिविरों में विशेष नाश्ता दिया गया। विशेष नाश्ता में पूरी, सब्जी, सेवई, फल, शर्बत दिया गया। इस दौरान शारीरिक दूरी का पालन किया गया।

दुष्कर्म की कोशिश में अपराधी की धुनाई 

कुमारधुबी ओपी क्षेत्र के शिवलीबाड़ी में सोमवार तड़के लोग ईद की तैयारी में लगे थे। इसी बीच शैतान बन एक युवक छत पर सो रही नाबालिग बच्ची के पास पहुंच गया। वह बच्ची से जोर-जबरदस्ती करने लगा। बच्ची ने शोर मचाया तो उसकी मां की नींद टूटी। पकड़े जाने के डर से शैतान ने बच्ची के मुंह दाब उसकी जान लेने की कोशिश की। यह देख मां ने शोर मचाना शुरू किया तो पड़ोसी जुट गए। बाद में युवक को पकड़कर जमकर धुनाई की गई। पीड़ित बच्ची की मां की लिखित शिकायत पर पुलिस ने एफआईआर दर्ज कर आरोपी युवक को जेल भेज दिया है। पीड़ित छात्रा के अनुसार वह घर के छत पर माताृ-पिता एवं अन्य के साथ सोयी हुई थी। शरीर के साथ छेड़छाड़ करने पर वह जग गयी तो देखा कि पड़ोसी साहिल अंसारी उर्फ पोलटी उसके बगल में सोया है। विरोध करने पर गला दबा जान से मारने की कोशिश की। किसी तरह हो हल्ला की तो मां व अन्य जाग गये और उसे पकड़ लिया। लेकिन हाथ छुड़ा धक्का मारकर वह फरार हो गया। ग्रामीणों ने सुबह करीब पांच बजे उसे कुमारधुबी चौक पर एक बंद होटल से पकड़ा। उसे मुहल्ला लाया गया। हाथ-पैर बांधकर जमकर पिटाई की गयी। मुखिया मो. सनोव्वर की सूचना पर पुलिस तत्काल मौके पर पहुंची। युवक को गिरफ्तार कर लिया।

एसडीएम ने अमेजन के गोदामों पर मारा छापा

अनुमंडल दंडाधिकारी राज महेश्वरम ने पूजा टॉकीज के पास स्थित अमेजन ट्रांसपोर्ट सर्विस एवं धैया स्थित इंस्टा कार्ट सर्विस प्राइवेट लिमिटेड में छापा मारा। पूजा टॉकीज स्थित गोदाम में बहुत सी ऐसी सामग्री मिली जो गैर आवश्यक श्रेणी में आती है। इसमें स्मार्टफोन, स्पीकर, कंप्यूटर प्रिंटर, हेडफन इत्यादि शामिल थे। अनुमंडल दंडाधिकारी ने बताया कि उन्हें सूचना मिली थी कि अमेजन के डिलीवरी सेंटर से गैर आवश्यक वस्तुओं की डिलीवरी की जा रही है। इन गैर आवश्यक वस्तुओं का ऑर्डर लॉकडाउन के दौरान लिया गया था एवं इसकी डिलीवरी अभी की जानी थी। जबकि सरकार के आदेशानुसार लॉकडाउन में किसी भी तरह के गैर आवश्यक वस्तुओं का ई कॉमर्स से ऑर्डर और डिलीवरी पर प्रतिबंध है। इसके बावजूद अमेजॉन पर सभी तरह के गैर आवश्यक वस्तुओं के ऑर्डर लिए जा रहे है तथा उसकी डिलीवरी भी धनबद में की जा रही है। यह लॉकडाउन के नियमों का सरासर उल्लंघन है। छापामारी के दौरान धैया स्थित अमेजॉन के गोदाम जिसका संचालन इंस्टा कार्ट सर्विस प्राइवेट लिमिटेड के द्वारा किया जा रहा है, पूजा टॉकीज स्थित छापामारी की सूचना के बाद गोदाम को बंद करके फरार हो गए। इस गोदाम को दंडाधिकारी की उपस्थिति में सील कर दिया गया है। पूजा टॉकीज स्थित गोदाम की जब्ती सूची बनाकर मजिस्ट्रेट के द्वारा धनबाद थाना में प्राथमिकी दर्ज कर मजिस्ट्रेट की उपस्थिति में दुकान को सील कर दिया गया है।

1600 श्रमिकों को लेकर चेन्नई से धनबाद पहुंची स्पेशल ट्रेन

वैश्विक महामारी कोविड-19 के कारण घोषित लॉकडाउन में तमिलनाडु में फंसे झारखंड के विभिन्न जिलों के 1600 श्रमिक सोमवार को चेन्नई (तमिलनाडु) से चली स्पेशल ट्रेन 06152 से धनबाद पहुंचे। इस ट्रेन में धनबाद के 90, बोकारो के 68, चतरा के 49, देवघर के 65, दुमका के 92, पूर्वी सिंहभूम के 97, गढ़वा के 145, गिरिडीह के 92, गोड्डा के 66, गुमला के 28, हजारीबाग के 37, जामताड़ा के 18, खूंटी के 8, कोडरमा के 72, लातेहार के 65, लोहरदगा के 36, पाकुड़ के 83, पलामू के 169, रामगढ़ के 21, रांची के 57, साहिबगंज के 61, सरायकेला खरसावां के 21, सिमडेगा के 9, पश्चिम सिंहभूम के 41 तथा अन्य 110 श्रमिक सवार थे। स्वास्थ्य विभाग की टीम द्वारा थर्मल स्क्रीनिंग की गई। सैनिटाइजर से हैंड वॉश कराए गए और मास्क दिया गया। फूड पैकेट एवं पानी देकर उन्हें संबंधित जिले की बसों में बैठाया गया। श्रमिकों को उनके गंतव्य तक पहुंचाने के लिए 65 वाहनों का प्रबंध किया गया था।

आंगनबाड़ी केंद्र में क्वारंटाइन को लेकर दो गांव आमने-सामने

एग्यारकुंड प्रखंड के चांच पंचायत में चेन्नई से लौटे मरीज को लेकर दो गावों के ग्रामीण आमने-सामने आ गए हैं। इसके कारण जमकर बवाल हुआ। अंत में एसडीपीओ विजय कुशवाहा के आदेश बाद पुलिस की निगरानी में प्रवासी मजदूर को घर पर ही क्वारंटाइन कर दिया गया। चेन्नई से मजदूर श्रमिक स्पेशल ट्रेन से रांची लौटा था। वहां से शनिवार को घर लौटा। चांच लाइन पार के लोगों ने भय के कारण उसे नजदीक के आंगनबाड़ी केंद्र में रख दिया। इधर सुबह होते ही महतो व आदिवासी टोला के लोग मजदूर को आंगनबाड़ी केंद्र में रखे जाने का विरोध करने लगे। ग्रामीण उसे किसी कीमत पर आंगनबाड़ी केंद्र में क्वारंटाइन पर नहीं रहने देने को लेकर अड़ गए । उसे घर या दूसरी जगह शिफ्ट करने की मांग करने लगे। जबकि चांच लाइन पार के लोग घर में ना रखकर आंगनबाड़ी केंद्र पर ही रखने की मांग करने लगे। जिसके कारण माहौल पूरा गर्म हो गया। दोनों तरफ से नोकझाेंक व धक्का मुक्की भी हुई। घटना की सूचना पाकर पंचेत पुलिस पहुंची और मामला शांत करने के लिए हल्का बल प्रयोग करते हुए लाठी भांजी। इसके बाद लोग इधर-उधर हुए।

 

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.