दिल्ली

उत्तर प्रदेश

पंजाब

बिहार

उत्तराखंड

हरियाणा

झारखण्ड

राजस्थान

जम्मू-कश्मीर

हिमाचल प्रदेश

पश्चिम बंगाल

ओडिशा

महाराष्ट्र

गुजरात

साहब घर से कर रहे हैं काम, कर्मचारियों के दफ्तर भी सैनिटाइजर नहीं, बढ़ा खतरा Dhanbad News

ऑफिस जाने के बजाए सभी विभागों के अधिकारी घर पर बैठकर ही काम कर रहे हैं। ( प्रतीकात्‍मक तस्‍वीर)

कोरोना की दूसरी लहर के साथ ही रेल कर्मचारियों के बड़े पैमाने पर संक्रमित होने के बाद तमाम रेल अधिकारियों का दफ्तर उनके घर पर सिर्फ हो चुका है। ऑफिस जाने के बजाए सभी विभागों के अधिकारी घर पर बैठकर ही काम कर रहे हैं।

Atul SinghSat, 08 May 2021 02:50 PM (IST)

धनबाद, जेएनएन :कोरोना की दूसरी लहर के साथ ही रेल कर्मचारियों के बड़े पैमाने पर संक्रमित होने के बाद तमाम रेल अधिकारियों का दफ्तर उनके घर पर सिर्फ हो चुका है। ऑफिस जाने के बजाए सभी विभागों के अधिकारी घर पर बैठकर ही काम कर रहे हैं।  दूसरी ओर, जान जोखिम में डालकर काम करने वाले कर्मचारियों के दफ्तर भी सैनिटाइज नहीं हो रहे हैं। न तो स्टेशन मास्टर का दफ्तर सैनिटाइज हो रहा है और ना ही रेलवे के गार्ड के गार्ड ब्रेक को सैनिटाइज किया जा रहा है। लगातार मिल रही शिकायतों के बाद ऑल इंडिया रेलवे ओबीसी एंप्लॉयज एसोसिएशन के सहायक महामंत्री अखिलेश गुप्ता ने डीआरएम को अवगत कराया है। 

उन्होंने कहा है कि मौजूदा परिवेश में चालक और गार्ड दहशत के बीच जान जोखिम में डालकर काम कर रहे हैं। अब तक कई गार्ड संक्रमित भी हो चुके हैं। धनबाद से दूसरे राज्यों के लिए गार्ड ड्यूटी पर जाते हैं और बाहर से आने वाली ट्रेनों में उनका शिफ्ट चेंज होता है। धनबाद एक महत्वपूर्ण चेंजिंग पॉइंट है। इसलिए यह जरूरी है कि यहां बाहर से आने वाली ट्रेनों के आने पर गार्ड ब्रेक को सैनिटाइज किया जाए। इससे संक्रमण से बचाया जा सकता है। आसनसोल और पंडित दीनदयाल उपाध्याय रेल मंडल में यह व्यवस्था बहाल हो चुकी है। पर धनबाद में गार्ड ब्रेक को सैनिटाइज नहीं किया जा रहा है। यही हाल क्रू लॉबी यानी चालक और गार्ड नियंत्रण कक्ष का है। स्टेशन मास्टर जहां बैठकर ड्यूटी करते हैं उसके ऑफिस को भी सैनिटाइजर नहीं किया जा रहा है। इससे कर्मचारियों के बीच संक्रमण का खतरा बढ़ रहा है। मौजूदा परिस्थिति को देखते हुए तत्काल सैनिटाइज कराने की व्यवस्था बहाल की जाए।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.