कोयला मिश्रित धूलकण से परेशान लोदना क्षेत्र के लोग

लोदना क्षेत्र में रहनेवाले लोग इन दिनों कोयला-धूलकण के प्रदूषण से काफी परेशान हैं।

JagranSun, 28 Nov 2021 07:48 PM (IST)
कोयला मिश्रित धूलकण से परेशान लोदना क्षेत्र के लोग

संस, अलकडीहा : लोदना क्षेत्र में रहनेवाले लोग इन दिनों कोयला-धूलकण के प्रदूषण से काफी परेशान हैं। लोग प्रदूषण से कई बीमारियों की चपेट में आ रहे हैं। लोगों का कहना है कि झरिया की विधायक पूर्णिमा नीरज सिंह ने चुनाव जीतने के पहले प्रदूषण को नियंत्रण करने की पहल करने का वादा किया था। उनके विधायक बने दो साल बीत गए। अभी तक प्रदूषण पर रोक नहीं लगाई जा सकी है़। यहां की आउटसोर्सिंग परियोजनाओं से प्रदूषण फैल रहा है। वर्तमान में लोदना क्षेत्र में दो आउटसोर्सिंग व विभागीय परियोजना चल रही है। लगभग तीन किलोमीटर के दायरे में परियोजनाओं के आसपास हजारों मजदूर व लोगों के मुहल्ले हैं। डीजीएमएस की गाइडलाइन के तहत परियोजनाओं में उत्पादन स्थल में कोयला खनन के दौरान निरंतर पानी का फव्वारा युक्त पानी के अला कोयला ओबी के परिवहन के दौरान सड़कों पर नियमित जल छिड़काव करने का प्रावधान है। बावजूद प्रबंधन की ओर से पानी छिड़काव को लेकर उदासीन रवैया अपनाया जाता है। पानी छिड़काव नहीं होने से परियोजनाओं व सड़कों से कोयला मिश्रित धूलकण प्रदूषण वायु में उड़कर सीधे क्षेत्र के लोगों के घरों में चला जाता है।

प्रदूषण से सड़क पर चलना और घरों में रहना लोगों का मुश्किल हो गया है। उड़ते धूलकण के कारण घरों में रखे धोए कपड़े के अलावा पका पकाया खाना भी खराब हो जाता है। क्षेत्र के लोगों ने बताया कि आउटसोर्सिंग प्रबंधन की दबंगता के आगे कोई खुलकर विरोध करने से घबराते हैं। हाल के दिनों में रांची से पर्यावरण विभाग की टीम क्षेत्र में प्रदूषण की जांच को आई थी, लेकिन पूर्व नियोजित कार्यक्रम होने के चलते क्षेत्रीय प्रबंधन प्रदूषण नियंत्रण की टीम के अधिकारियों को बरगला कर प्रदूषण जांच के नाम पर केवल खानापूर्ति करा दी।

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.