Dhanbad: पिट वाटर की आपूर्ति पिछले दस दिनों से ठप से लोगों ने क‍िया प्रदर्शन

तेतुलमारी स्थानीय थाना क्षेत्र के तेतुलमारी जीरो सिम कॉलोनियों व उसके आस पास इलाके में पिट वाटर की आपूर्ति पिछले दस दिनों से ठप है। कारण यह है कि पीट वाटर आपूर्ति के लिए लगाए गए मोटर पंप से केबल अपराधियों ने एक पखवारा पूर्व चोरी कर ले गया है।

Atul SinghThu, 23 Sep 2021 05:57 PM (IST)
मोटर पंप से तांबे का केबल अपराधियों ने एक पखवारा पूर्व चोरी कर ले गया है।

 संस, धनबाद: तेतुलमारी स्थानीय थाना क्षेत्र के तेतुलमारी जीरो सिम कॉलोनियों व उसके आस पास इलाके में पिट वाटर की आपूर्ति पिछले दस दिनों से ठप है। कारण यह है कि पीट वाटर आपूर्ति के लिए लगाए गए मोटर पंप से तांबे का केबल अपराधियों ने एक पखवारा पूर्व चोरी कर ले गया है। जिसके बाद से इलाके में पानी की समस्या उत्पन्न हो गई है, लोगों को साइकिल व बाइक आदि के माध्यम से तालाब, चापानल, कुंआ एवं अन्य जगहों से पानी लाकर सेवन करना पड़ता है, गृहणीयों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ता है। यहां तक की स्कूली छात्र छात्राओं को भी परेशानी उठाना पड़ता है। स्कूली छात्र छात्राएं पढ़ने के बजाय दिन भर पानी भरने में व्यस्त रहता है।

जिससे पठन पाठन प्रभावित होता है। कालोनी निवासी संजय चौहान, फनी महतो, मो करीम आदि ने बताया कि केबल चोरी चले जाने के बाद हमलोग प्रबंधन से मिलकर वार्ता किए, जिसके बाद प्रबंधन ने चार दिनों के भीतर केबुल की व्यवस्था कर जलापूर्ति सामान्य कराने का आश्वासन दिया था, लेकिन एक पखवारा बीत जाने के बाद भी समस्या जस की तस है। उनलोगों ने कहा कि दुर्गा पूजा, जितिया सहित कई पर्व सामने में है जिसमे पाने की खर्च अधिक है, इस उमस भरी गर्मी में लोगों को पानी के लिए दर-दर भटकना पड़ता है। अगर एक सप्ताह के भीतर प्रबंधन पानी की आपूर्ति इलाके में नहीं कराती है तो बाध्य होकर हमलोग सिजुआ क्षेत्रीय कार्यालय का घेराव करेंगे, तथा पीएसटी दो नंबर भूमिगत खदान का उत्पादन काम ठप कर देंगे।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.