SNMMCH Dhanbad: ड्यूटी के सवाल पर खड़ा हुआ वितंडा, डॉ. संध्या ने माइक्रोबायोलॉजी विभाग के एचओडी पर लगाया गंभीर आरोप

Abuse with Microbiologist Sandhya Singh डॉ संध्या सिंह ने कहा कि रविवार आकाश मांगने पर विभागाध्यक्ष काफी आग बबूला हो गए और गाली गलौज करने लगे। अपशब्द कहने लगे। उन्होंने कहा कि मेरी ऊपर तक पहुंच है। जिसको जाकर कहना है बोल दो मेरा कोई कुछ नहीं कर सकता है।

MritunjaySun, 25 Jul 2021 05:42 PM (IST)
एसएनएमएमसीएच में सुरक्षा को लेकर बैठक करते उपायुक्त संदीप सिंह ( फोटो जागरण)।

जागरण संवाददाता धनबाद। एसएनएमएमसीएच ( SNMMCH) धनबाद के माइक्रोबायोलॉजी विभाग में कार्यरत माइक्रोबायोलॉजिस्ट संध्या सिंह ने अपने ही विभागाध्यक्ष डॉ. सुजीत कुमार तिवारी पर गाली-गलौज और मानसिक उत्पीड़न करने का आरोप लगाया है। इस संबंध में डॉ संध्या सिंह ने मेडिकल कॉलेज के प्राचार्य डॉ शैलेंद्र कुमार, एडीएम लॉ एंड ऑर्डर कुमार ताराचंद सहित कई पदाधिकारियों को लिखित शिकायत की है। डॉ संध्या सिंह ने बताया कि आरटी-पीसीआर जांच में वह सेवा दे रही हैं। लेकिन विभागाध्यक्ष डॉ सुजीत कुमार तिवारी का रवैया बहुत ही नकारात्मक रहता है। लगातार काम करने की वजह से वह बीमार हो गई हैं। इस संबंध में 24 जुलाई को दोपहर 1:30 बजे वह विभागाध्यक्ष के पास जाकर रविवार अवकाश की मांग कर रही थीं। इसके बाद विभागाध्यक्ष ने उनके साथ दुर्व्यवहार किया। साथ ही गाली-गलौज की। उस दौरान तमाम कर्मचारी भी वहां मौजूद थे। इधर, शिकायत मिलने के बाद मेडिकल कॉलेज प्रबंधन ने इसकी जांच शुरू कर दी है।

विभागाध्यक्ष ने कहा नौकरी से हटवा दूंगा

डॉ संध्या सिंह ने कहा कि रविवार आकाश मांगने पर विभागाध्यक्ष काफी आग बबूला हो गए और गाली गलौज करने लगे। अपशब्द कहने लगे। उन्होंने कहा कि मेरी ऊपर तक पहुंच है। जिसको जाकर कहना है बोल दो, मेरा कोई कुछ नहीं कर सकता है। डॉ संध्या ने बताया कि विभागाध्यक्ष ने कहा है कि वह नौकरी से हटा देंगे। उन्होंने बताया कि इससे पहले भी डॉ सुजीत कुमार तिवारी दुर्व्यवहार कर चुके हैं। 20 फरवरी 2020 को भी उन्होंने ऐसा बर्ताव किया था, इस संबंध में मेडिकल कॉलेज के प्राचार्य को शिकायत की गई थी, लेकिन अब तक उस पर कोई कार्रवाई नहीं हुई है। ऐसे में न्याय चाहिए।

ड्यूटी से रहती है डॉ संध्या गायब : डा तिवारी

इधर आरोपित विभागाध्यक्ष डॉ सुजीत कुमार तिवारी का कहना है कि डॉ संध्या सिंह अपनी ड्यूटी से गायब रहती हैं। जिला प्रशासन के चार वरीय अधिकारी ने औचक निरीक्षण किया था, इन सभी निरीक्षण में डॉ संध्या गायब भी पाई गई हैं। वह 6 दिनों की छुट्टी पर गई थी, लेकिन 42 दिन के बाद लौटी हैं। उनकी हाजिरी काटी जा रही है। इसी सब से नाराज होकर वह बेवजह आरोप लगा रही हैं। उन्होंने कहा है कि तमाम कागजात प्रिंसिपल को उपलब्ध करवा रहे हैं।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.