SAIL में वेज रिवीजन पर प्रबंधन और यूनियन के बीच जिच बरकार, चक्का जाम आंदोलन की चेतावनी

स्टील अथॉरिटी ऑफ इंडिया लिमिटेड ( फाइल फोटो)।

मजदूर संगठन एक जनवरी 2017 से वेज समझौता की तिथि का एकमुश्त एरियर देने की मांग पर अड़े रहे। इसपर सहमति नहीं होने पर यूनियन प्रतिनिधि बैठक से निकल गए। अब 16 मार्च को एनजेसीएस की फिर बैठक होगी।

MritunjaySun, 28 Feb 2021 05:38 PM (IST)

बोकारो, जेएनएन। स्टील अथॉरिटी ऑफ इंडिया लिमिटेड के कर्मचारियों के वेज रिवीजन पर शनिवार को नई दिल्ली में हुई एनजेसीएस की बैठक बेनतीजा रही। इसमें वेज रिवीजन की अवधि, एमजीबी (मिनिमम गारंटेड बेनीफीट), पक्र्स का प्रतिशत और अवधि विशेष के एरियर भुगतान के मसले पर श्रमिक प्रतिनिधियों और प्रबंधन के बीच जिच बनी रही। प्रबंधन के 10 फीसदी एमजीबी के प्रस्ताव को श्रमिक संगठनों ने अस्वीकार कर दिया। प्रबंधन ने एक जनवरी 2020 से वेज रिवीजन समझौता की तिथि तक एरियर देने का प्रस्ताव रखा। ट्रेड यूनियनों ने एक जनवरी 2017 से वेज समझौता की तिथि का एकमुश्त एरियर देने की मांग पर अड़े रहे। इसपर सहमति नहीं होने पर यूनियन प्रतिनिधि बैठक से निकल गए। अब 16 मार्च को एनजेसीएस की फिर बैठक होगी। यूनियन प्रतिनिधियों ने मांगों पर सहमति नहीं बनने पर सेल में चक्काजाम करने की बात कही।

यह दूसरा मौका है जब श्रमिक संगठनों ने प्रबंधन के प्रस्ताव को दरकिनार कर बैठक का बहिष्कार किया। इससे पूर्व सेल की नई चेयरमैन सोमा मंडल ने 20 जनवरी को एनजेसीएस के प्रतिनिधियों के साथ नई दिल्ली में मुलाकात की थी। उस वक्त  प्रबंधन ने पांच फीसदी एमजीबी देने को प्रस्ताव दिया था। अब इसपर 10 फीसदी एमजीबी देने का प्रस्ताव रखा गया। सालाना वेतन बढ़ोतरी के मौके पर बेसिक और डीए का छह फीसदी पक्र्स देने पर भी चर्चा की गई। यूनियन नेता 10 फीसद एमजीबी तथा 35 फीसद पक्र्स पर बकाया एरियर की मांग पर अड़े रहे। बैठक में शामिल ङ्क्षहद मजदूर सभा (एचएमएस) के संजय बढ़ावकर व राजेंद्र ङ्क्षसह ने साफ कहा कि सेल प्रबंधन कर्मचारियों के वेज रिवीजन में ईमानदारी नहीं दिखाता है तो कंपनी का चक्काजाम करना ही एकमात्र विकल्प होगा। इस पर सभी श्रमिक संगठनों ने सहमति जताई।

एरियर के मसले पर सेल प्रबंधन वित्तीय स्थिति समेत कई नियम कानूनों का हवाला दे रहा है। मजदूर संगठन जनवरी 2017 से वेज रिवीजन का एरियर एकमुश्त देने की मांग पर अड़े है। बैठक में सेल के वित्त निदेशक अमित सेन, मानव संसाधन के कार्यकारी निदेशक केके सिंह के अलावा इंटक, एटक, सीटू, भारतीय मजदूर संघ, हिंद मजदूर सभा के प्रतिनिधि शामिल हुए।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

पांच राज्यों के विधानसभा चुनावों से जुड़ी प्रमुख जानकारियों और आंकड़ों के लिए क्लिक करें।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.