top menutop menutop menu

छत्तीसगढ़ सीएम के सामने झरिया के कांग्रेसियों में हुई टिकट फाइट, पुलिस ने शुरू की जांच Dhanbad News

धनबाद, जेएनएन। Jharkhand Assembly Election- 2019 के लिए झरिया विधानसभा क्षेत्र से टिकट हासिल करने के लिए कांग्रेस में महाभारत छिड़ गया है। यह महाभारत मंगलवार को झारखंड में चुनाव अभियान को संभाल रहे छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल और झारखंड प्रदेश कांग्रेस के प्रभारी आरपीएन सिंह ने भी देखा। जामताड़ा विधानसभा क्षेत्र के रानीगंज मैदान में बघेल और सिंह जब मंचासीन थे तो सामने उपस्थित कांग्रेस के नेताओं में शामिल संतोष सिंह और हर्ष सिंह आपस में भिड़ गए। संतोष जहां खुद झरिया विधानसभा सीट से कांग्रेस के टिकट के दावेदार हैं तो हर्ष सिंह अपने माैसेरे भाई नीरज सिंह की पत्नी पूर्णिमा सिंह को चुनाव लड़ाना चाहते हैं। वैसे, इन दोनों के अलावा भी झरिया विधानसभा क्षेत्र से कांग्रेस टिकट के कई दावेदार हैं।

झारखंड प्रदेश कांग्रेस की तरफ से मंगलवार को जामताड़ा विधानसभा क्षेत्र में सूबे की भाजपा सरकार के खिलाफ जन आक्रोश रैली आयोजित की गई थी। मुख्य वक्ता थे छत्तीसगढ़ के कांग्रेसी मुख्यमंत्री भूपेश बघेल। रैली में भाग लेने के लिए धनबाद से कांग्रेस नेता संतोष सिंह और हर्ष सिंह भी समर्थकों के साथ गए थे। रैली में दोनों भिड़ गए। दोनों के समर्थक भी आपस में उलझ गए। अंगरक्षकों ने भी मोर्चा संभाल लिया। यह सब जब हुआ भूपेश बघेल का भाषण चल रहा था। भिड़ंत के कारण मंच के सामने ही अफरातफरी मच गई। उपस्थित जामताड़ा पुलिस ने मामले को शांत करवाया। इस भिडंत से कांग्रेस की किरकिरी हुई।

कांग्रेस नेता संतोष सिंह 2014 के विधानसभा चुनाव में भी झरिया से टिकट के दावेदार थे। लेकिन, धनबाद के पूर्व डिप्टी मेयर नीरज सिंह ने टिकट झटक लिया। 2017 में नीरज सिंह की हत्या कर दी गई। हत्या का आरोप झरिया के भाजपा विधायक संजीव सिंह पर लगा। संजीव सिंह, नीरज सिंह के चचेरे भाई हैं। संजीव सिंह जेल में बंद हैं। अबकी उनकी पत्नी रागिनी सिंह की तैयारी भाजपा के टिकट पर चुनाव लड़ने की है। दूसरी तरफ नीरज सिंह की पत्नी पूर्णिमा सिंह झरिया से चुनाव लड़ना चाहती हैं। वह अपने पति के सपने को पूरा करना चाहती है। उन्होंने झरिया विधानसभा क्षेत्र में जनसंपर्क अभियान भी चला रखा है। पूर्णिमा को टिकट दिलवाने के लिए दिवंग्त नीरज सिंह के माैसेरे भाई हर्ष सिंह जोरआजमाइश कर रहे हैं। जामताड़ा में संतोष सिंह और हर्ष सिंह के बीच विवाद को टिकट से जोड़कर देखा जा रहा है।

कांग्रेस नेता संतोष सिंह का आरोपः कांग्रेस नेता संतोष सिंह ने जामताड़ा थाना में लिखित शिकायत देकर कार्रवाई की मांग की है। संतोष सिंह ने आरोप लगाया है कि हर्ष सिंह, अभिषेक सिंह और उनके अंगरक्षकों ने घेर लिया। जान मारने की धमकी दी। कहा-झरिया से चुनाव लड़ने की कोशिश करोगे तो रंजय सिंह (विधायक संजीव सिंह का नजदीकी) जैसे तुम्हारी भी हत्या कर दी जाएगी। इस मामले में थाना प्रभारी मनोज कुमार सिंह का कहना है कि संतोष सिंह ने लिखित शिकायत की है। जांच के बाद आगेे की कार्रवाई की जाएगी।

प्रचार पाने के लिए संतोष लगा रहे झूठा आरोपः कांग्रेस नेता हर्ष सिंह ने संतोष सिंह से किसी तरह के विवाद से इन्कार किया है। उन्होंने कहा है कि संतोष सिंह प्रचार पाने के लिए झूठा आरोप लगा रहे हैं।

 

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.