रेल ई-आक्शन में अवैध तरीके से बिना क्रसिग व आरओएम की जगह स्टीम कोयले का उठाव

गलत तरीके से कोयले की आपूर्ति कर बीसीसीएल को भारी क्षति पहुंचाई जा रही है। रेल ई-आक्शन में बिना क्रसिग एवं रनिग आफ माइंस (आरओएम) की जगह स्टीम कोयला अवैध तरीके से ले जाया जा रहा है।

JagranThu, 25 Nov 2021 10:06 PM (IST)
रेल ई-आक्शन में अवैध तरीके से बिना क्रसिग व आरओएम की जगह स्टीम कोयले का उठाव

धनबाद : गलत तरीके से कोयले की आपूर्ति कर बीसीसीएल को भारी क्षति पहुंचाई जा रही है। रेल ई-आक्शन में बिना क्रसिग एवं रनिग आफ माइंस (आरओएम) की जगह स्टीम कोयला अवैध तरीके से ले जाया जा रहा है। धैया के अमृत सिंह ने पीएमओ से इसकी शिकायत की है। पीएमओ को भेजे पत्र में अमृत सिंह ने लिखा है कि इसी वर्ष नौ अगस्त को रेल ई-आक्शन के जरिए सिजुआ साइडिग में 39 रैक कोयले के लिए बिडिग हुई। अभी उठाव बाकी है। इससे पहले भी कई बार रेल आक्शन के माध्यम से कोयले की बोली लगाकर आरओएम की जगह सांठगांठ कर स्टीम कोयला ले जाया गया है। यह पूरी तरह से गलत एवं कंपनी को आर्थिक नुकसान पहुंचाने वाला है। आरओएम और स्टीम कोयले में लगभग दोगुने दाम का फर्क है।

आरओएम कोयला सीधे खदान से निकलकर गाड़ियों में लोड होता है। इसमें कोयला और पत्थर मिक्स होता है, जबकि स्टीम चुनिदा कोयला होता है। यहीं सांठगांठ कर आरओएम की जगह स्टीम कोयला लोड कर दिया जाता है। वर्तमान में किए गए आक्शन संख्या-37388 में स्पष्ट लिखा हुआ है कि (-100) एमएम कोयले के साइज का ही बिड हुआ है। यह कोयला क्रसिग के बाद उपलब्ध होता है। सिजुआ साइडिग के एरिया-4 के पदाधिकारियों, कोलियरी एजेंट एवं छोटे यूनियन नेताओं को रुपयों का लालच देकर गलत तरीके से बिना क्रसिग का आरओएम की जगह स्टीम कोयला लोड किया जा रहा है। इससे बीसीसीएल को भारी नुकसान हो रहा है। अमृत सिंह ने यह भी कहा है कि इसकी गंभीरता को देखते हुए सभी प्राइवेट रेल ई-आक्शन रैक की ढुलाई एवं लोडिग कार्य की वीडियोग्राफी कराई जाए। जिससे सही कोयले का उठाव सुनिश्चित हो सके। बीसीसीएल को करोड़ों के घाटे से बचाया जा सकेगा।

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.