Dhanbad: झाड़ी में मिले बुजुर्ग को दिया कंबल, युवकों ने भोजन कराकर भेजा घर, ह्यूमैनिटी ग्रुप धनबाद मदद को आ रहा आगे

ह्यूमैनिटी ग्रुप धनबाद लगातार जरूरतमंदों की मदद को आगे आ रहा है। खासकर जीटी रोड पर आए दिन समस्याओं से दो-चार होनेवालों की भरपूर मदद की जा रही है। इसी क्रम में हयूमैनिटी ग्रुप धनबाद ने विज्ञान बिहार कालोनी हवाईअड्डा के बगल में एक अज्ञात बुजुर्ग झाड़ियों में मिला।

Atul SinghPublish:Tue, 30 Nov 2021 04:07 PM (IST) Updated:Tue, 30 Nov 2021 04:07 PM (IST)
Dhanbad: झाड़ी में मिले बुजुर्ग को दिया कंबल, युवकों ने भोजन कराकर भेजा घर, ह्यूमैनिटी ग्रुप धनबाद  मदद को आ रहा आगे
Dhanbad: झाड़ी में मिले बुजुर्ग को दिया कंबल, युवकों ने भोजन कराकर भेजा घर, ह्यूमैनिटी ग्रुप धनबाद मदद को आ रहा आगे

जागरण संवाददाता, धनबाद : ह्यूमैनिटी ग्रुप धनबाद लगातार जरूरतमंदों की मदद को आगे आ रहा है। खासकर जीटी रोड पर आए दिन समस्याओं से दो-चार होनेवालों की भरपूर मदद की जा रही है। इसी क्रम में हयूमैनिटी ग्रुप धनबाद ने विज्ञान बिहार कालोनी हवाईअड्डा के बगल में रात्रि में एक अज्ञात बुजुर्ग झाड़ियों में मिला। इसकी सूचना ग्रुप को मिली। मौके पर ग्रुप के सदस्य पहुंचे और बुजुर्ग का हाल लिया। ठंड के कारण बुजुर्ग कांप रहा था। शरीर पर गर्म कपड़े तक नहीं थे।

भूख-प्यास से व्याकुल बुजुर्ग उम्मीद भरी नजरों से ग्रुप के सदस्यों को देख रहा था। स्थानीय लोगों ने बताया कि यह बूढ़ा बुजुर्ग दो दिन से यहां पड़ा हुआ है। समाजसेवी राजकुमार मंडल ने आनन फानन में स्थानीय निवासी अपने मित्र सुमित सिंह बुंदेला से संपर्क किया। मदद करते हुए भोजन के साथ-साथ ठंड से बचने के लिए सबसे पहले एक कंबल दिया गया। बुजुर्ग अपने घर से भटक गया था।

पूछताछ के बाद बरवाअड्डा थाना प्रभारी सुमन कुमार के सहयोग से उसे घर पहुंचाया गया। सहयोग करने में सुमित सिंह सराहनीय योगदान रहा। राजकुमार ने बताया कि ह्मैनिटी ग्रुप लोगों की भलाई के लिए हर संभव मदद कर रहा है। इस कार्य में अन्य लोगों को भी आगे चाहिए, ताकि ऐसे जरूरतमंदों की मदद हो सके। राजकुमार ने बताया कि हाल ही में बरवाअड्डा दुर्गा मंदिर (दामकाड़ा बरवा) में ठंड को देखते हुए हर वर्ष की भांति इस वर्ष भी रोटी बैंक यूथ क्लब के सहयोग से पहले चरण में 100 जरूरतमंदों के बीच कंबल वितरण किया गया। जरूरतमंदों का आधार कार्ड लेकर चिह्नित किया जा रहा है। इस ठंड में विभिन्न जगहों में एक हजार कंबल वितरण करने का लक्ष्य है।