आउटसोर्सिंग संचालक संजय खेमका से मांगी 50 लाख की रंगदारी

आउटसोर्सिंग संचालक संजय खेमका से मांगी 50 लाख की रंगदारी
Publish Date:Fri, 23 Oct 2020 12:16 AM (IST) Author: Jagran

धनबाद : भाजपा नेता सतीश सिंह हत्याकांड में वांछित सतीश साव उर्फ गांधी को पुलिस अभी तक गिरफ्तार नहीं कर पाई है। इधर उसने खैरा व वासुदेवपुर में आउटसोर्सिंग का संचालन करने वाले उद्यमी संजय खेमका से 50 लाख रुपये की रंगदारी की मांग कर दी है। रंगदारी नहीं देने पर सतीश सिंह की तरह उनकी भी हत्या कर देने की धमकी दी है। खेमका से 18 अक्टूबर को फोन कर रंगदारी की मांग की गई। गुरुवार को उन्होंने धनबाद थाने में इसकी लिखित शिकायत की। पुलिस ने उनकी शिकायत पर गांधी के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की है।

शिकायत में संजय खेमका ने बताया है कि उनके मोबाइल पर 18 अक्टूबर की शाम को फोन आया। फोन करने वाले ने कहा कि मेरा नाम गांधी है। उसे 50 लाख रुपये चाहिए, जो सतीश सिंह के पास बकाया है। प्रतिमाह ढाई लाख रुपये अलग से चाहिए। रुपये नहीं देने पर तीन दिन के अंदर वह उनकी दिनदहाड़े हत्या करवा देगा। उसने अपने आदमी उनके पीछे लगा दिया है। कोई ताकत नहीं बचा सकती है। इसके बाद उनके मोबाइल पर एसएमएस भी किया गया और कहा कि सतीश सिंह ने उसकी बात नहीं सुनी थी तो उसकी हत्या हो गई।

बताते चलें कि संजय खेमका न केवल खैरा व वासुदेवपुर में आउटसोर्सिंग कंपनी का संचालन करते हैं, बल्कि बीसीसीएल के लिए लोयाबाद, पुटकी और बाघमारा आदि क्षेत्रों में कोयला ट्रांसपोर्टिंग का कार्य भी करते हैं। इसके अलावा बोकारो के इलेक्ट्रो स्टील में भी वे ठेकेदारी करते हैं।

-------------------------

आउटसोर्सिंग संचालक को धमकाने के मामले में पुलिस पूरी तरह सतर्क है। हर बिंदू पर छानबीन की जा रही है। पीड़ित व उनके परिवार की सुरक्षा को लेकर पुलिस अलर्ट है।

असीम विक्रांत मिज,

एसएसपी, धनबाद

----------------------

कभी फोन तो कभी पोस्टर लगा कर धमकी दे रहा गांधी

धनबाद : सतीश सिंह हत्याकांड में सतीश साव उर्फ गांधी को तमाम कोशिश के बावजूद पुलिस नहीं पकड़ पा रही है। पुलिस ने इस हत्याकांड में उसे मुख्य आरोपित माना है। वहीं सतीश साव पुलिस को चकमा देते हुए आउटसोर्सिग संचालकों से रंगदारी की मांग कर रहा है। सतीश हत्याकांड के कुछ दिन बाद ही केंदुआ क्षेत्र की एक आउटसोर्सिग परियोजना में उसके नाम का पोस्टर लगाकर रंगदारी की मांग की गई थी। इस मामले में भी केंदुआडीह थाना में उसके खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की गई थी, लेकिन वह पकड़ा नहीं गया।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.