Corona Vccination Drive In Dhanbad: ठंड का दिख रहा असर, शाम को टीका लेने अपेक्षित संख्या में नहीं आ रहे लाभुक

धनबाद में 20 लाख लाभुकों को कोरोना टीका लगाने का लक्ष्य है। अब तक 18 लाख से ऊपर लाभुकों को टीकाकरण से जोड़ा गया है। 6 लाख लोगों को दूसरा डोज का टीका लगाया जा चुका है। दिसंबर तक सभी को टीका लगाने का लक्ष्य रखा गया है।

MritunjaySun, 28 Nov 2021 01:57 PM (IST)
कोरोना से बचाव के लिए टीकाकरण अभियान ( प्रतीकात्मक फोटो)।

जागरण संवाददाता, धनबाद। कोयलांचल में ठंड ने अपना असर दिखाना शुरू कर दिया है। शाम ढलते ही ठंड से लोग ठिठुर रहे हैं। ऐसे में जिला प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग की ओर से शुरू किए गए रात्रि टीकाकरण पर भी इसका असर साफ देखा जा रहा है। सदर अस्पताल में स्वास्थ्य विभाग की ओर से रात्रि टीकाकरण की शुरुआत की गई है। इस केंद्र पर शाम 5 बजे से रात 9 बजे तक टीकाकरण देने की व्यवस्था रखी गई है। लेकिन ठंड बढ़ने के कारण इस केंद्र पर लाभुकों की संख्या बेहद कम आ रही है।

200 में मात्र 30 से 40 मरीज ही ले रहे हैं टीका

हर दिन 30 से 40 लाभुक टीकाकरण के लिए आ रहे हैं। जबकि यहां 200 लाभुकों को टीका देने का लक्ष्य हर दिन रखा गया है। ऐसे में लक्ष्य से रात्रि टीकाकरण काफी पीछे चल रहा है। हालांकि सिविल सर्जन डॉ श्याम किशोर कांत कहते हैं टीकाकरण केंद्रों की संख्या और बढ़ाई जाएगी। लेकिन केंद्रों पर लोगों से कम आना थोड़ी चिंताजनक है। हालांकि यह व्यवस्था अभी दिसंबर तक जारी रहेगी। ताकि लगभग 20 लाख लक्षित लोगों को टीकाकरण से जोड़ा जाए। जल्दी आइएसएम में भी रात्रि टीकाकरण की सुविधा शुरू की जाएगी।

जिले में 18 लाख से ऊपर लोगों का टीकाकरण

कोरोना टीकाकरण अभियान के तहत जिले में अब तक 18 लाख से ऊपर लाभुकों को टीकाकरण से जोड़ा गया है। जबकि लगभग 6 लाख लोगों को दूसरा डोज का टीका लगाया गया। सिविल सर्जन कहते हैं जल्दी से जल्दी लोगों को टीकाकरण से जुड़ने के लिए विभाग लोगों को जागरूक कर रहा है। इसके तहत विभिन्न प्रकार के योजना और अभियान चलाकर लोगों को टीकाकरण से जोड़ा जा रहा है।

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.