सातवीं कक्षा में बैठेंगे नौंवी कक्षा के छात्र

धनबाद लगभग 19 महीने बाद स्कूल एक बार फिर से गुलजार होंगे। दोस्तों को देखने का मौका मिलेगा। शिक्षकों की डांट भी सामने से सुनने को मिलेगी। इस बार पढ़ाई का माहौल थोड़ा बदला-बदला होगा। कभी एक क्लासरूम में 60 से 70 छात्र एक साथ बैठा करते थे लेकिन इस बार ऐसा कुछ नहीं होगा।

JagranSun, 01 Aug 2021 01:28 AM (IST)
सातवीं कक्षा में बैठेंगे नौंवी कक्षा के छात्र

जागरण संवाददाता, धनबाद : लगभग 19 महीने बाद स्कूल एक बार फिर से गुलजार होंगे। दोस्तों को देखने का मौका मिलेगा। शिक्षकों की डांट भी सामने से सुनने को मिलेगी। इस बार पढ़ाई का माहौल थोड़ा बदला-बदला होगा। कभी एक क्लासरूम में 60 से 70 छात्र एक साथ बैठा करते थे, लेकिन इस बार ऐसा कुछ नहीं होगा। छात्रों को क्लासरूम में जगह-जगह ही मिलेगी। नौवीं के छात्र सातवीं और 12वीं के छात्र 11वीं की क्लास में बैठे नजर आएंगे। दरअसल सरकार की ओर से जारी एसओपी में स्पष्ट निर्देश है कि एक क्लासरूम पूरी क्षमता के आधे छात्र ही बैठेंगे। ऐसे में स्कूलों के पास नि:संदेह क्लासरूम की कमी हो जाएगी। इसलिए स्कूलों ने भी तैयारी कर ली है। कक्षाएं नौवीं से ही शुरू होंगी, ऐसे में पहली से आठवीं तक के खाली क्लासरूम में छात्रों को बिठाने की व्यवस्था की जाएगी। हालांकि अप्रैल में तीन-चार दिनों के कक्षाएं शुरू की गई थी, लेकिन कोरोना की दूसरी लहर को देखते हुए उसे बंद कर दिया गया। वहीं धनबाद के अधिकतर स्कूल सोमवार से खुल जाएंगे। स्कूलों का कहना है कि सरकारी की गाइडलाइन के अनुसार ही कक्षाओं का संचालन होगा। सबसे अहम है कि अभिभावक अपने बच्चों को स्कूल भेजने के लिए सहमति पत्र भी देंगे। यह अनिवार्य किया गया है। बच्चों को भेजा गया है मैसेज : दिल्ली पब्लिक स्कूल ने कक्षा नौवीं से 12वीं तक के छात्रों को स्कूल खुलने का मैसेज भेज दिया है। जिसमें सोमवार से सुबह आठ बजे से 12 बजे तक कक्षाएं चलेगी। स्कूल की ओर से पूरी तैयारी कर ली गई है। छात्रों के लिए स्कूल में पर्याप्त क्लासरूम है। सरकार की ओर से जारी एसओपी का पालन करते हुए कक्षाएं संचालित की जाएगी।

- सरिता सिन्हा, प्राचार्या, दिल्ली पब्लिक स्कूल चार अगस्त से शुरू होंगी कक्षाएं : राजकमल सरस्वती विद्या मंदिर में चार अगस्त से कक्षाएं चलेंगी। सभी छात्रों को मैसेज कर दिया गया है। सरकारी के आपदा प्रबंधन की ओर से जारी गाइडलाइन को ध्यान में रखते हुए कक्षा संचालन की तैयारी की जा रही है। इस बार अभिभावकों को गूगल फार्म के माध्यम से सहमति प्रदान करना होगा। बस का भी संचालन किया जाएगा। इन सभी चीजों को ध्यान में रखते हुए स्कूल चार अगस्त से शुरू होगा।

- सुमंत कुमार मिश्रा, प्राचार्य, राजकमल सरस्वती विद्या मंदिर आइआइटी भी कैंपस खोलने पर कर रहा मंथन : आइआइटी आइएसएम भी कैंपस खोलने पर मंथन कर रहा है। कई बिदुओं पर बैठक कर विचार विमर्श कर सभी संभावनाओं को टटोला जा रहा है। वैसे उम्मीद जताई जा रही है कि यदि छात्रों को कैंपस बुलाया गया तो उसमें सबसे पहले रिसर्च के छात्रों को बुलाया जाएगा। वैसे संस्थान सरकार के आदेश का इंतजार कर रहा है। आदेश आने के बाद ही आगे की निर्णय संस्थान की ओर से लिया जाएगा। सरकारी स्कूल कर रहे हैं आदेश का इंतजार : सरकारी स्कूलों में भी कक्षा नौवीं से 12वीं तक की कक्षाएं शुरू की जाएगी। इसके लिए स्कूल स्तर पर तैयारी शुरू कर दी गई है। जिला शिक्षा पदाधिकारी प्रबला खेस ने बताया कि अभी विभागीय आदेश मुख्यालय से नहीं आया है। आदेश आने के बाद स्कूलों को खोलने का आदेश जारी किया जाएगा।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.