लगातार बारिश ने झरिया में कोयला उत्पादन पर लगाया ब्रेक; जल जमाव से प्रबंधन परेशान Dhanbad News

झरिया कोलियरी क्षेत्र में लगातार हो रही मानसून की बारिश से झरिया की कोलियरी परियोजना में कोयला उत्पादन पर ब्रेक लग गया है। फेस व कार्य स्थल पर जल जमाव के कारण दो दिनों से बस्ताकोला व राजापुर परियोजना में कोयला उत्पादन नहीं होने से बस्ताकोला क्षेत्रीय प्रबंधन परेशान है।

Atul SinghWed, 16 Jun 2021 04:58 PM (IST)
परियोजना में कोयला उत्पादन नहीं होने से बस्ताकोला क्षेत्रीय प्रबंधन परेशान है। ( प्रतीकात्‍मक तस्‍वीर)

झरिया-तिसरा, जेएनएन: झरिया कोलियरी क्षेत्र में लगातार हो रही मानसून की बारिश से झरिया की कोलियरी परियोजना में कोयला उत्पादन पर ब्रेक लग गया है। फेस व कार्य स्थल पर जल जमाव के कारण

दो दिनों से बस्ताकोला व राजापुर परियोजना में कोयला उत्पादन नहीं होने से बस्ताकोला क्षेत्रीय प्रबंधन परेशान है। लगातार बारिश से कोलियरी क्षेत्रों में बहने वाली तिसरा व चटकरी जोड़ियां में पानी की रफ्तार बढ़ गई है। हालांकि, प्रबंधन ने इससे अधिक खतरे के बात नहीं बताई है।

दूसरी और कोलियरी और परियोजना में काम पर प्रभाव पड़ा है। क्योंकि नीचे परियोजना से कोयला और ओबी पत्थर लेकर होलपैक, डंपर को मार्ग से ऊपर आने में परेशानी हो रही है। होल रोड में मिट्टी व कीचड़ के कारण वाहन धीरे-धीरे चल रहा है।

नार्थ तिसरा, केओसीपी, बेरा आदि डिपार्टमेंटल परियोजना में बारिश के कारण उत्पादन प्रभावित हुआ है। नार्थ तिसरा परियोजना के सुरक्षा अधिकारी ईश्वर प्रसाद कहते हैं बारिश में थोड़ा परेशानी हो रही है। लेकिन स्थिति ठीक है। होल रोड की समय-समय पर डोजर से सफाई कराई जा रही है।

केओसीपी परियोजना के सुरक्षा अधिकारी आरएन प्रसाद कहते हैं कि बारिश की वजह से हमारे यहां कोई विशेष परेशानी नहीं है। पहले ही यहां के नाला की सफाई करा दिए हैं। उसमे पानी निकल रहा है। आउटसोर्सिंग परियोजना में भी काम चालू है। केवल कुछ देर के लिए काम बंद किया गया था। होल रोड की मरम्मत के बाद चालू करा दिया गया है। बस्ताकोला क्षेत्रीय प्रबंधक अपने कोलियरी और परियोजना पर विशेष नजर बनाए हुए हैं। बस्ताकोला क्षेत्र के जीएम सोमेन चटर्जी ने बताया कि क्षेत्र की राजापुर व बस्ताकोला परियोजना में बारिश के कारण कोयला उत्पादन पर प्रभाव पड़ा है। दोनों जगह काम बंद है। केओसीपी परियोजना चालू है। राजापुर और बस्ताकोला परियोजना से कुल मिलाकर छह हजार टन कोयले का उत्पादन तीनों शिफ्ट में प्रतिदिन होता है। यहां कोयला का उत्पादन अभी बंद है।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.