International Yoga Day 2021: हर दिन करते हैं दो घंटे योग, कोविड में रहकर भी संक्रमित नहीं हुए डॉ. डीपी भूषण

International Yoga Day 2021 डॉ. भूषण हर दिन सुबह छह बजे और शाम छह बजे एक-एक घंटे योग और प्राणायाम करते हैं। इसमें एरोबिक और जुंबा प्राणायाम भी शामिल होते हैं। कपालभाती भ्रमस्त्रिका अनुलोम-विलोम सूर्य नमस्कार को डॉ. भूषण बेहद फायदेमंद बताते हैं।

MritunjayMon, 21 Jun 2021 09:55 AM (IST)
डॉक्टर डीपी भूषण दिद्वेदी ( फाइल फोटो)।

धनबाद [ मोहन गोप ]। कोरोना वायरस की दूसरी लहर में जिले में जहां संक्रमण की तेज रफ्तार की चपेट में कई लोग आए। कोविड-19 मरीजों के इलाज कर रहे डॉ डीपी भूषण संक्रमित नहीं हुए। दरअसल डाॅ भूषण प्रतिदिन योग और प्राणायाम करके अपने शरीर की प्रतिरोधक क्षमता को बनाए रखा। इसके साथ ही उन्होंने कोविड-19 इनका पालन करके संक्रमण से दूर रहे। डॉक्टर भूषण बताते हैं कि नियमित योग और प्राणायाम शरीर के लिए बेहद लाभदायक है। इसके साथ ही विभिन्न प्रकार के शारीरिक और मानसिक तनाव को भी दूर करते हैं। प्रायः शोधों में पाया गया है कि मानसिक और शारीरिक तनाव कम हो तो शारीरिक प्रतिरोधक क्षमता बढ़ जाती है। यही वजह है कि जिन की शारीरिक प्रतिरोधक क्षमता बेहतर रही वह संक्रमण से बचे रहें। 

खुद करते हैं योग, दूसरे को भी करते हैं प्रेरित

डॉ. भूषण हर दिन सुबह छह बजे और शाम छह बजे एक-एक घंटे योग और प्राणायाम करते हैं। इसमें एरोबिक और जुंबा प्राणायाम भी शामिल होते हैं। कपालभाती, भ्रमस्त्रिका, अनुलोम-विलोम, सूर्य नमस्कार को डॉ. भूषण बेहद फायदेमंद बताते हैं। उन्होंने बताया कि विभिन्न प्रणाम लगभग 10-15 मिनट करते हैं। सामान्य व्यक्ति भी यदि महीने भर योग और प्रणाम करें, तो कई प्रकार की शारीरिक परेशानी दूर होती है, ऐसा पाया गया है। यही वजह है कि अस्पताल में आने वाले मरीजों को इलाज के साथ ही योग और प्राणायाम की भी सलाह देते हैं। 

झारखंड के नामी हड्डी एवं नस रोग विशेषज्ञ में शुमार

डॉ भूषण झारखंड के हड्डी एवं नस रोग विशेषज्ञ में शुमार नाम रखते हैं। हड्डी रोग में कई बड़े जगहों में जाकर उन्होंने आपरेशन किया है। जिले के सबसे बड़े अस्पताल एसएनएमएमसीएच के हड्डी रोग विभाग में एचओडी हैं। उन्होंने देश के सबसे प्रतिष्ठित चिकित्सीय संस्था पीजीआई चंडीगढ़ से पीजी में विशेषज्ञता हासिल की है।एलोपैथ के साथ ही आयुर्वेद और योग में भी वह विशेष रूचि रखते हैं। वह कहते हैं जिसभी पद्धिति से मरीजों को फायदा होता है, उसे अपनाना चाहिए। इस पर किसी भी प्रकार का विवाद नहीं होना चाहिए। 

झारखंड का पहला कोविड सेंटर, यहां हो रहा योग क्लास

डॉ भूषण अपने कोविड सेंटर में वैसे संक्रमित मरीजों को जो बिना लक्षण के हैं, उन्हें योग, प्राणायाम व ध्यान करवा रहे हैं। इसके लिए यहां पर हर दिन योग क्लास करवा रहे हैं। बताते हैं कि यह झारखंड का पहला कोविड सेंटर है, जहां पर मरीजों को इलाज के साथ ही योग भी कराए जा रहे हैं। जिला प्रशासन ने भी इसकी सराहना की है।

 

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.