Dhanbad-Chandrapura Rail Line पर घंटों बंद रहता कुसुंडा रेल फाटक, जनता ने ट्विटर पर डीआरएम को बताई परेशानी

कुसुंडा रेल फाटक बंद होने से फंसा राहगीर ( फोटो जागरण)।

कुसुंडा रेल फाटक धनबाद चंद्रपुरा रेल मार्ग के बीच पड़ता है। इस रेल लाइन पर दिन भर यात्री ट्रेन और मालगाड़ियों की आवाजाही लगी रहती है। यात्री ट्रेन और मालगाड़ियों की आवाजाही से रेल फाटक पार कर एक छोर से दूसरे छोर जाने वाले लोगों को परेशानी झेलनी पड़ती।

MritunjayWed, 21 Apr 2021 10:27 AM (IST)

धनबाद, जेएनएन। कामकाजी लोग हों या स्कूल कॉलेज जाने वाले छात्र-छात्राएं या फिर एंबुलेंस क्यों ना हो। कुसुंडा रेल फाटक पार करने में रोज घंटों इंतजार करना पड़ता है। कभी-कभी तो परिस्थिति ऐसी हो जाती है कि मरीज को एंबुलेंस उतारकर फाटक के दूसरी ओर ले जाकर अन्य वाहन से हॉस्पिटल पहुंचाना पड़ता है। जल्दी कुछ कीजिए डीआरएम साहब...। धनबाद डीआरएम आशीष बंसल के ट्विटर पर जैसे ही यह संदेश मिला। उन्होंने ट्वीट करने वाले को धन्यवाद दिया। कहा कि समस्या से अवगत कराने के लिए धन्यवाद। इस समस्या के समाधान के लिए संबंधित विभाग को सूचित कर दिया गया है।

 

कुसुंडा रेल फाटक धनबाद चंद्रपुरा रेल मार्ग के बीच पड़ता है। इस रेल लाइन पर दिन भर यात्री ट्रेन और मालगाड़ियों की आवाजाही लगी रहती है। दिनभर  यात्री ट्रेन और मालगाड़ियों की आवाजाही जारी रहने से रेल फाटक पार कर एक छोर से दूसरे छोर जाने वाले लोगों को काफी परेशानी झेलनी पड़ती है। लगातार परेशानी झेल रहे उमाशंकर यादव ने समस्या के समाधान के लिए धनबाद डीआरएम को ट्वीट किया है। उन्होंने कुसुंडा रेल फाटक पर मालगाड़ी के गुजरने के दौरान वहां खड़े दोपहिया चालकों की तस्वीर भी ट्विटर पर शेयर की है। लिखा है कि कुसुंडा पश्चिम के अधिकारियों की लापरवाही के कारण आए दिन लोगों को रेल फाटक पर पार करने में घंटों इंतजार करना पड़ता है।

हजारों की आबादी को जिले से जोड़ने वाली यही एकमात्र सड़क है। इसके बंद हो जाने से आवाजाही पूरी तरह रुक जाती है। यह भी लिखा है इस मामले में संज्ञान लें एवं जन भावना को ध्यान में रखते हुए आवश्यक कार्रवाई करें। उनकी ट्वीट पर डीआरएम ने जवाब भी दिया है। उम्मीद है रेल फाटक से होकर रेल ओवर ब्रिज या सबवे का निर्माण की प्रक्रिया जल्द शुरू होगी।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

पांच राज्यों के विधानसभा चुनावों से जुड़ी प्रमुख जानकारियों और आंकड़ों के लिए क्लिक करें।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.