DMC Street Vendors: फुटपाथ विक्रेता दोबारा खड़ा कर सकेंगे अपना रोजगार, पांच दिसंबर को नगर निगम का मेगा लोन मेला इतने वेंडर होंगे लाभांवित

नगर निगम क्षेत्र में 6863 स्ट्रीट वेंडर, लोन मेला में 2493 लोन देने का लक्ष्य

नगर निगम क्षेत्र में रह रहे फुटपाथ विक्रेताओं के लिए अच्छी खबर है। लॉकडाउन के दौरान आर्थिक रूप से टूट चुके फुटपाथ विक्रेता दोबारा अपना रोजगार शुरू कर सकेंगे। लॉकडाउन ने इन फुटपाथ विक्रताओं यानी ठेला खोमचा फेरी लगाने वाले घूम घूम कर

Publish Date:Sat, 28 Nov 2020 01:59 PM (IST) Author: Atul Singh

फुटपाथ विक्रेता दोबारा खड़ा कर सकेंगे अपना रोजगार, पांच दिसंबर को नगर निगम का मेगा लोन मेला

- नगर निगम क्षेत्र में 6863 स्ट्रीट वेंडर, लोन मेला में 2493 लोन देने का लक्ष्य

जागरण संवाददाता, धनबाद : नगर निगम क्षेत्र में रह रहे फुटपाथ विक्रेताओं के लिए अच्छी खबर है। लॉकडाउन के दौरान आर्थिक रूप से टूट चुके फुटपाथ विक्रेता दोबारा अपना रोजगार शुरू कर सकेंगे। लॉकडाउन ने इन फुटपाथ विक्रताओं यानी ठेला खोमचा, रेहड़ी, फेरी लगाने वाले, घूम घूम कर सामान बेचने वालों को आर्थिक रूप से काफी नुकसान पहुंचाया। दो महीने पहले इन विक्रेताओं को प्रधानमंत्री पथ विक्रेता आत्मनिर्भर निधि योजना यानी पीएम स्व निधि योजना के तहत 10-10 हजार लोन दिया गया था। अब एक बार फिर से दोबारा मुहिम चलाई जा रही है। पांच दिसंबर को बैंक मोड़ के पुराने निगम कार्यालय में मेगा लोन मेला लगाया जा रहा है। इसका आयोजन स्टेट लेवल बैंकर्स कमेटी की ओर से किया जा रहा है। सुबह 11 बजे मेला शुरू हो जाएगा। इस दौरान सभी पांचों अंचल के फुटपाथ विक्रेताओं को लोन देने के लिए आवेदन फॉर्म भरवाया जाएगा। इसमें जिले के अधिकतर बैंक शामिल होंगे। नगर आयुक्त सत्येंद्र कुमार ने इस योजना के नोडल पदाधिकारी सह सिटी मिशन मैनेजर राजन कुमार को बैंकों के साथ समन्वय स्थापित कर शतप्रतिशत लोन सुनिश्चित करने का निर्देश दिया है। यहां बता दें कि नगर निगम क्षेत्र में 6863 स्ट्रीट वेंडर हैं। इस लोन मेले में निगम को 2493 स्ट्रीट वेंडर को लोन दिलाने का लक्ष्य रखा गया है। हालांकि नगर आयुक्त का कहना है कि शत-प्रतिशत लक्ष्य हासिल किया जाए।

प्रज्ञा केंद्र और निगम कार्यालय में भी कर सकेंगे आवेदन

शहरी क्षेत्र के फुटपाथ विक्रेता मेगा लोन मेला के साथ ही साथ नगर निगम कार्यालय और अपने नजदीकी प्रज्ञा केंद्रों में भी लोन के लिए आवेदन कर सकेंगे। प्रज्ञा केंद्रों में 30 रुपये शुल्क निर्धारित किया गया है। इसके लिए आवेदकों का केवाईसी आधार, वोटर कार्ड और बैंक खाता होना जरूरी है। इसे लेकर ही आवेदन किया जा सकता है। लोन देने के लिए बैंकों को भी निर्देश जारी हुआ है। किसी भी पथ विक्रेता को बैंक उसके पथ विक्रेता पहचान पत्र या नगर निगम की ओर से जारी लेटर आफ रेकमेंडेशन (एलओआर) में से किन्ही एक पर लोन  देंगे।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.