Republic Day 2021: ध्वजारोहण कर उपायुक्त ने गिनाईं उपलब्धियां, धनबाद में 3.71 लाख लोगों का कोरोना टेस्ट

धनबाद के रणधीर वर्मा स्टेडियम में गणतंत्र दिवस परेड का निरीक्षण करते उपायुक्त उमाशंकर सिंह ( फोटो जागरण)।

Republic Day 2021 उपायुक्त उमाशंकर सिंह ने राष्ट्रीय ध्वज फहराया और सलामी दी। इसके बाद गणतंत्र दिवस पर आयोजित परेड का निरीक्षण किया। उपायुक्त के साथ धनबाद के एसएसपी असीम विक्रांत मिंज भी थे। इस माैके पर विभिन्न विभागों की तरफ से झांकी निकाली गई।

MritunjayTue, 26 Jan 2021 06:55 AM (IST)

धनबाद, जेएनएन। उपायुक्त उमाशंकर सिंह ने कहा कि धनबाद में कोरोना संक्रमित मरीजों को बेहतर चिकित्सा प्रदान करने के लिए एक हजार बेड के डेडीकेटेड कोविड-19 होस्पिटल खोले गए। शहीद निर्मल महतो चिकित्सा महाविद्यालय परिसर के कैथ लैब में तथा सेंट्रल अस्पताल में 30 बैठ के आईसीयू की स्थापना लगभग एक करोड रुपए की लागत से की गई। जिससे अति गंभीर कोरोना संक्रमित मरीजों को बेहतर उपचार की सुविधा मिली। गंभीर मरीजों के उपचार के लिए प्लाजमा थेरेपी मशीन, कोरोना मरीजों को चिन्हित करने के लिए बड़े पैमाने पर आरटी पीसीआर, आरएटी एवं ट्रूनेट से जांच की गई। जिले में अन्य 10-11 पड़ोसी जिलों के रोगियों की भी जांच की गई। अब तक धनबाद में 3,71,000 लोगों की कोरोना टेस्ट की गई है। जिसमें 7479 व्यक्ति पॉजिटिव पाए गए। इसमें से 7313 रोगियों को कोरोना से मुक्त करा दिया गया।

कोविड-19 प्रतिरोधी टीका के लिए 20 हजार से अधिक का रजिस्ट्रेशन

72वें गणतंत्र दिवस पर धनबाद में मुख्य समारोह रणधीर वर्मा स्टेडियम में हुआ। उपायुक्त उमाशंकर सिंह ने ध्वजारोहण किया। इसके बाद उन्होंने धनबाद की जनता को संबोधित करते हुए जिला प्रशासन की उपलब्धियांं गिनाईं। कहा कि कोविड-19 प्रतिरोधी टीकाकरण के लिए जिले के 20,000 से अधिक हेल्थ केयर वर्कर, फ्रंटलाइन वर्कर की प्रविष्टि कोविन पोर्टल पर की जा चुकी है। सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र तोपचांची एवं टुंडी में 16 जनवरी 2021 से वैक्सीनेशन कार्य प्रारंभ किया गया। वर्तमान में सदर अस्पताल में हेल्थ केयर वर्कर्स का वैक्सीनेशन किया जा रहा है। अब तक 600 हेल्थ केयर वर्कर को वैक्सीन दिया जा चुका है।

गुणवत्ता युक्त सुविधाओं के साथ अग्नि एवं भू-धंसान प्रभावितों को किया जाएगा पुनर्स्थापित

झरिया कोलफील्ड के अग्नि एवं भू-धंसान से प्रभावित परिवारों के लिए स्मार्ट टाउनशिप परियोजना पर काम तीव्र गति से किया जा रहा है। योजना के कार्यान्वयन के लिए एक अध्ययन दल को आंध्र प्रदेश स्थित पोलावरम डैम परियोजना के पुनर्वास एवं पुनर्स्थापन करने हेतु भेजा गया था। जिला प्रशासन का यह प्रयास है कि जेआरडीए एवं बीसीसीएल के प्रयास से प्रभावित परिवारों को सभी प्रकार की गुणवत्ता युक्त सुविधाओं के साथ पुनर्स्थापित किया जाए।

पायलट प्रोजेक्ट के तहत की जाएगी इंटेलीजेंट ट्रैफिक सिस्टम की शुरूआत

जिले की ट्रैफिक व्यवस्था को सुदृढ़ बनाने के लिए पायलट प्रोजेक्ट के तहत इंटेलीजेंट ट्रैफिक सिस्टम की शुरूआत की जाएगी। इसके तहत जिला मुख्यालय में सॉफ्टवेयर के माध्यम से यातायात नियंत्रण, सूचनाओं का संग्रहण करने के लिए कार्य योजना तैयार की गई है। इसके विकसित होने से जिला कंट्रोल रूम से ही यातायात व्यवस्था के संबंध में आवश्यक सूचना उपलब्ध हो सकेगी। सूचना के आधार पर ट्रैफिक व्यवस्था के साथ-साथ विधि व्यवस्था की समस्या का भी समाधान त्वरित रूप से किया जा सकेगा।

स्मार्ट वॉटर मैनेजमेंट सिस्टम होगी लागू

पेयजल आपूर्ति की समस्या से निजात दिलाने के लिए स्मार्ट वॉटर मैनेजमेंट सिस्टम लागू की जाएगी। इस योजना से सेंट्रल कंट्रोल रूम से ही सॉफ्टवेयर के माध्यम से पेयजल आपूर्ति से संबंधित सूचना प्राप्त होगी। जिससे यह पता चलेगा कि किस स्थान पर किस तरह की समस्या है। सिस्टम के विकसित होने से समय पूर्व जलापूर्ति बाधित होने से संबंधित समस्या का समाधान हो सकेगा।

स्वास्थ्य एवं शिक्षा के लिए तैयार है विजन प्लान डोक्युमेंट

जिले में स्वास्थ्य एवं शिक्षा के क्षेत्र में गुणवत्ता युक्त सुधार करने के लिए दोनों विभाग का विजन प्लान डॉक्यूमेंट तैयार किया गया है। इसे स्वास्थ्य इकाइयों के आधारभूत संरचना के गुणात्मक वृद्धि एवं शैक्षणिक संस्थानों के द्वारा गुणवत्तापूर्ण शिक्षा प्रदान करने के लिए विभिन्न विभागों के पदाधिकारियों के सहयोग से तैयार किया गया है। इसका लोकार्पण शीघ्र किया जाएगा। लोकार्पण के बाद त्वरित कार्यान्वयन हेतु कार्रवाई की जाएगी।

ई-समाधान पोर्टल पर 78% शिकायतों का निराकरण

जिले के लोगों की समस्याओं का त्वरित एवं पारदर्शी तरीके से निष्पादन करने के लिए विकसित की गई ई-समाधान पोर्टल में अब तक 2134 शिकायतें दर्ज हुई है। इसमें से 1673 मामलों (78%) का निष्पादन किया जा चुका। पोर्टल में प्राप्त शिकायतों की हर 15 दिन पर समीक्षा की जाती है और इसका रिपोर्ट कार्ड भी जारी किया जाता है। शिकायतों को त्वरित निष्पादित करने वाले पदाधिकारियों को प्रोत्साहित भी किया जाता है। अपने संबोधन में उपायुक्त ने वैश्विक महामारी के दौरान एकजुट होकर कोरोना को हराने में अहम भूमिका निभाने वाले पारा चिकित्सा कर्मी, सफाई कर्मी, एंबुलेंस चालक, वीएलई, चिकित्सा पदाधिकारी, पुलिस बल, पुलिस पदाधिकारी, जिला प्रशासन के पदाधिकारियों सहित सभी कोरोना वारियर्स के प्रति आभार प्रकट किया।

प्रधानमंत्री आवास की 28 हजार से ज्यादा योजनाएं पूर्ण

साथ ही बताया कि कोरोना काल के दौरान 5,39,505 लोगों को निशुल्क गैस रिफिलिंग, 114 विशिष्ट दाल भात केंद्र के माध्यम से 2 लाख जरूरतमंदों को निशुल्क भोजन, मुद्रा योजना के तहत 13536 लाभुकों को 47.38 करोड़ का ऋण, पीएमईजीपी के तहत 83 व्यक्तियों को 81.20 करोड़ का ऋण, 1,30,358 लाभुकों को डीबीटी के माध्यम से पेंशन राशि का भुगतान, मनरेगा में 33 लाख 61 हजार 776 मानव दिवस का सृजन, चालू वित्त वर्ष में 46050 योजनाओं की स्वीकृति, प्रधानमंत्री ग्रामीण आवास योजना के तहत 28004 योजनाओं को पूरा किया, 67584 किसानों को केसीसी से आच्छादित किया। अपने संबोधन से पूर्व उपायुक्त ने एसएसपी असीम विक्रांत मिंज के साथ परेड का निरीक्षण किया। इसके बाद उपायुक्त ने झंडोत्तोलन किया। झंडोत्तोलन के बाद परेड की सलामी ली। इसके बाद विभिन्न विभागों द्वारा आकर्षक झांकियां निकाली गई। उत्कृष्ट कार्य करने वाले कर्मियों को प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित किया। कार्यक्रम का संचालन एमेली बसु तथा घनश्याम दुबे ने किया।

समारोह में उपस्थिति

मुख्य समारोह में वरीय पुलिस अधीक्षक असीम विक्रांत मिंज, उप विकास आयुक्त दशरथ चंद्र दास, एडीएम लॉ एंड ऑर्डर चंदन कुमार, सिटी एसपी आर रामकुमार, अपर समाहर्ता आपूर्ति संदीप कुमार दोराईबुरू, अपर समाहर्ता श्याम नारायण राम, उप समाहर्ता भूमि सुधार सतीश चंद्रा, अनुमंडल पदाधिकारी सुरेंद्र कुमार, निदेशक एनईपी इंदु रानी, जिला योजना पदाधिकारी महेश भगत, जिला आपूर्ति पदाधिकारी भोगेंद्र ठाकुर, सिविल सर्जन डॉ गोपाल दास, कार्यपालक दंडाधिकारी दीपमाला, अमर प्रसाद, कुमार बंधु कच्छप, सुशांत कुमार मुखर्जी, एनडीसी अनुज बांडो, जिला समाज कल्याण पदाधिकारी पूर्णिमा कुमारी, रेड क्रॉस सोसायटी के सचिव  कौशलेंद्र कुमार, जिला शिक्षा अधीक्षक इंद्रभूषण सिंह, जिला शिक्षा पदाधिकारी प्रबला खेस, जिला जनसंपर्क पदाधिकारी ईशा खंडेलवाल, डीएमएफटी ऑफिसर शुभम सिंघल, नितिन कुमार, आशा कुजूर, आदित्य बंसल,अनिरुद्ध सोनी, आइटी रेवेन्यू रूपेश मिश्रा, जिला आपदा प्रबंधन प्राधिकार के संजय कुमार झा सहित अन्य पदाधिकारी उपस्थित थे।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.