पेयजल व यातायात की परेशनी से जूझ रहे कतरास के लोगों ने पूछा सवाल; आ‍ख‍िर कब दूर होगी समस्‍या Dhanbad News

जिला प्रशासन के निर्देश पर फिलहाल सब्जी व फल बाजार रेलवे इंस्टीयूट मैदान में शिफ्ट किया गया है। (प्रतीकात्‍मक तस्‍वीर)

यहां की सबसे बड़ी समस्या जाम की है। कतरास थाना चौक से लेकर कतरी नदी व पचगढ़ी बाजार के सब्जी पट्टी तक आए दिन जाम लगते रहता है। जिला प्रशासन के निर्देश पर फिलहाल सब्जी व फल बाजार रेलवे इंस्टीयूट मैदान में शिफ्ट किया गया है।

Atul SinghSat, 15 May 2021 11:52 AM (IST)

 कतरास, जेएनएन: नगर निगम के कतरास अंचल में पड़ने वाले एक से आठ तक में वार्ड संख्या तीन एक महत्वपूर्ण स्थान रखता है। कतरास शहर के विभिन्न भागों में कई वीआईपी लोगों का आवास या कार्यालय है। वार्ड संख्या तीन के अंदर ही विधायक ढुलू महतो, पूर्व विधायक जलेश्वर महतो तथा स्व. ओपी लाल, बियाडा के पूर्व अध्यक्ष विजय कुमार झा से लेकर पूर्व सांसद स्व शंकर दयाल सिंह का आवास व कार्यालय के अलावा कतरासगढ रेलवे स्टेशन, बस पड़ाव,  नगर निगम कतरास अंचल कार्यालय, माडा कार्यालय, सलानपुर कोलियरी कार्यालय सहित कई नर्सिंग होम तथा एक बड़ा सा नामी गिरामी मार्केट है। 

 यहां की सबसे बड़ी समस्या जाम की है। कतरास थाना चौक से लेकर कतरी नदी व पचगढ़ी बाजार के सब्जी पट्टी तक आए दिन जाम लगते रहता है। कोरोना वायरस के बढते प्रकोप को देखते हुए जिला प्रशासन के निर्देश पर फिलहाल सब्जी व फल बाजार रेलवे इंस्टीयूट मैदान में शिफ्ट किया गया है। जिससे लोगों को काफी हद तक आवाजही में राहत मिला है। राजगंज रोड में सब्जी व फल बाजार सड़क किनारे लगने से वाहनों को पार होने में काफी दिक्कत होती है ऐसे मेंं जाम की स्थिति उत्पन्न हो जाती है।  कलाली फाटक के समीप से गुजरी सलानपुर की जर्जर सड़क बयां करती है ।

रही बात गंदे नाले की तो बरसात के मौसम में कतरास-राजगंज रोड पर नाले का पानी सड़क पर  आ जाती है कि तालाब का दृश्य बन जाता है। जिससे होकर लोगों को पार होना जान जोखिम में डालने के बराबर होता है। यह समस्या पिछले कई वर्षो से यहां व्याप्त है। लेकिन आज तक इस समस्या से निजात नहीं मिला। मुख्य सड़क को छोड़ मोहल्लेे में जहां तहां जमा कचड़े साफ दिखाई पड़ जाता हैं।

 इस शहर में पेयजल की समस्या से त्रस्त जनता आंदोलन की जगह पानी खरीदकर पीना मुनासिब समझते हैं। यहां कुआं कई है पर गर्मी मौसम के आते ही जलस्तर नीचे चला जाता है। शहर तोपचाची झील व जमुनियां नदी की पानी पर प्यास बुझाते हैं। फिलहाल तोपचाची की पानी की आपूर्ति हो रही है पर तीन सप्ताह से जमुनिया जलापूर्ति योजना का पानी चालू नहीं है। जिससे कतरास की आधी आबादी पानी के लिए परेशान हैं। मोहल्ला समिति ने दीवार पर लिख दिया स्लोगन कतरास के रानीबाजार के लोगों ने गंदगी से परेशान होकर अपने अपने मोहल्लो की दीवारों में मोहल्ला समिति के द्वारा स्लोगन लिख दिया गया है। रानीबाजार से लेकर बॉम्बे स्वीट की गली तक यह स्लोगन देखने को लोगों को मिल जाता है। जिससे साफ झलकता है । जनप्रतिनिधियों ने कई मूलभूत समस्या के निदान की ओर ध्यान नहीं दिया। कतरास को जोड़ने वाली कई सड़कों की जर्जर है। 

वाईपास रोड कलाली फाटक के समीप से छाताबाद जाता उसकी स्थिति जर्जर हो गई है वहीं गुहीबांध बस पड़ाव के बगल से जाने वाली सड़क अचछी है।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.