दिल्ली

उत्तर प्रदेश

पंजाब

बिहार

उत्तराखंड

हरियाणा

झारखण्ड

राजस्थान

जम्मू-कश्मीर

हिमाचल प्रदेश

पश्चिम बंगाल

ओडिशा

महाराष्ट्र

गुजरात

बासुकीनाथ में पूरे सम्मान के साथ हुआ बीएसएफ जवान का अंतिम संस्कार, कृषि मंत्री ने नहीं किया कोविड गाइडलाइन का पालन

बीएसएफ जवान मंजीत झा की अंतिम यात्रा में कंधा देते मंत्री बादल पत्रलेख ( फोटो जागरण)।

शवयात्रा और अंतिम संस्कार में स्थानीय विधायक और राज्य के मंत्री बादल पत्रलेख भी शामिल हुए। झारखंड में लॉकडाउन लगा है। कोरोना संक्रमण का खतरा है। आरोप है कि मंत्री ने कोविड गाइडलाइन और लाकडाउन के नियमों का पालन नहीं किया।

MritunjayTue, 18 May 2021 09:34 AM (IST)

बासुकीनाथ, जेएनएन। जम्मू-कश्मीर में बीएसएफ में कांस्टेबल बासुकीनाथ के 33 वर्षीय मनजीत झा का अंतिम संस्कार बासुकीनाथ स्थित लठियाजोरिया शमसान घाट में सोमवार को किया गया। छह वर्षीय पुत्री स्नेहा ने पिता को मुखाग्नि दी। जबकि बड़े भाई दिलजीत झा ने उत्तरी धारण कर अन्य कर्मकांड किए। स्नेह के मुखाग्नि देने पर सभी रो पड़े। साथ आए बीएसएफ के पदाधिकारी व जवानों ने श्मशान घाट पर मातमी धुन बजाकर, तीन राउंड फायरिंग करके अंतिम विदाई दी। पदाधिकारियों ने पार्थिव शरीर के साथ लाए राष्ट्रीय ध्वज तिरंगे को सम्मान पूर्वक कृषि मंत्री बादल पत्रलेख को सौंपा। मंत्री ने ध्वज परिजनों को सौंपा।

श्मशान घाट पर पहली बार उमड़ी भारी भीड़, मंत्री पर गाइडलाइन पालन नहीं करने का आरोप

श्मशान घाट में पहली बार लोगों ने इतनी भारी भीड़ देखी। आसपास के दर्जनों गांव से हजारों लोग अपने चहेते जवान को अंतिम विदाई देने के लिए पहुंचे। उपायुक्त राजेश्वरी बी, अभियान एसएसपी आरसी मिश्रा, डीएसपी विजय कुमार, पूर्व सांसद अभयकांत प्रसाद, जिला परिषद सदस्य सह सांसद प्रतिनिधि जयप्रकाश मंडल, रविकांत मिश्रा, जरमुंडी बीडीओ फुलेश्वर मुर्मू, सीओ राजकुमार प्रसाद, जरमुंडी थाना प्रभारी अतिन कुमार, पंडा धर्मरक्षिणी सभा अध्यक्ष मनोज पंडा, नपं अध्यक्ष पूनम देवी, उपाध्यक्ष अमित कुमार छोटू, पूर्व नपं अध्यक्ष मंटू लाहा आदि ने पार्थिव शरीर पर पुष्पचक्र अर्पित किया। शवयात्रा और अंतिम संस्कार में स्थानीय विधायक और राज्य के मंत्री बादल पत्रलेख भी शामिल हुए। झारखंड में लॉकडाउन लगा है। कोरोना संक्रमण का खतरा है। आरोप है कि मंत्री ने कोविड गाइडलाइन और लाकडाउन के नियमों का पालन नहीं किया। 

उरी में 15 मई को बीएसएफ टुकड़ी के साथ गश्ती के दौरान हुई थी मौत

जम्मू कश्मीर के उरी सेक्टर में चंदा पोस्ट के समीप 15 मई दिन की सुबह साढ़े दस बजे के करीब बीएसएफ के एक टुकड़ी के साथ गश्ती के क्रम में अचानक चक्कर आने से कांस्टेबल मनजीत झा गिर गया। पदाधिकारियों की देखरेख में अस्पताल भेजा गया। जहां इलाज के दौरान चिकित्सकों ने मनजीत झा को मृत घोषित कर दिया है। मृत्यु की वजह हार्टअटैक बताई गई।

रात सवा एक बजे बासुकीनाथ पहुंचा पार्थिव शरीर

रांची एयरपोर्ट से रविवार की संध्या बीएसएफ के वाहन में मनजीत झा का पार्थिव शरीर स्थानीय विधायक सह कृषि मंत्री बादल पत्रलेख के अगुवाई में रात सवा एक बजे बासुकीनाथ पहुंचा। देर रात तक भारी संख्या में ग्रामीण आवास पर व केराबनी मोड़, हरिपुर, डुमरिया, अम्बा, हरिपुर मोड़, नन्दी चौक, काली मंदिर, दुर्गा मंदिर के पास जमा थे। वहीं करीब 50 बाइकों पर सवार युवा हरिपुर से ही पार्थिव शरीर ला रहे वाहन के आगे-आगे अमर शहीद मनजीत झा अमर रहे, भारत माता की जय, जय हिंद, वंदे मातरम के गगनभेदी नारे लगाते हुए बासुकीनाथ पहुंचे। ग्रामीण देर रात से सुबह साढ़े आठ बजे शव यात्रा निकलने तक घर के बाहर डटे रहे। पार्थिव शरीर को नगर भ्रमण के उपरांत लठियाजोरिया श्मसान घाट ले जाया गया। शव यात्रा पर लोगों ने पुष्प वर्षा की और उसके अमरत्व को लेकर जमकर नारे लगाए। वहीं फुलधरिया टोला के शंभु राव ने अंतिम यात्रा में घर से लेकर श्मसान तक आगे-आगे चलकर सड़क पर पुष्प की पंखुड़ियां बिखेरी।

आप मुझे किसके भरोसे छोड़ के चले गए....

मनजीत की पत्नी कृति पति के पार्थिव शरीर से लिपटकर बार बार रोये जा रही थी। वो बार बार कह रही थी आप मुझे किसके भरोसे छोड़ कर जा रहे है। वहीं अन्य स्वजन कृति और स्नेह को दिलासा देते देते खुद भी रोने लगते थे। भाई सह दोस्त मोनू, सोनू, बाबू, दोस्त ब्रजेश, मिथलेश, गौतम, छोटू, दीपू, कुणाल, धीरज, अनिल, सुमन सहित दर्जनों अन्य मित्र भी मनजीत से जुड़ी बातों को याद कर कर के रो रहे थे।

श्मशान घाट में मास्क एवं सैनिटाइजर वितरण किया

शव यात्रा में उमड़ी भीड़ के बीच उनके स्वजनों के द्वारा मातम मनाने आने वाले लोगों के बीच में मास्क व सैनिटाइजर का भी वितरण किया गया। वहीं बासुकीनाथ नगर पंचायत के सफाईकर्मियों के द्वारा मुख्य मार्ग से लेकर श्मशान घाट तक की व्यापक तौर पर साफ सफाई की गई थी। बासुकीनाथ नगर पंचायत के कार्यपालक पदाधिकारी राहुल जी आनंद जी खुद साफ सफाई से लेकर अन्य व्यवस्था की मॉनिटरिंग कर रहे थे।

कृषि मंत्री ने मुख्यमंत्री को लिखा पत्र

मनजीत झा की ऑन ड्यूटी ह्रदय गति रुकने से मौत हो जाने के मामले को लेकर कृषि मंत्री बादल पत्रलेख ने मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन को पत्र लिखा। कहा कि मृत्यु के उपरांत उनके परिवार में उनकी विधवा पत्नी एवं एक छोटी बच्ची है। आग्रह किया है कि ड्यूटी के दौरान शहीद हुए जवान के सम्मान स्वरूप उनके आश्रितों को आर्थिक सहायता एवं किसी एक सदस्य को नियोजन देने पर विचार करें। कहा कि बासुकीनाथ में स्थल चयन किया जाए वह विधायक निधि से राशि देखकर मनजीत झा के याद में चौक चौराहे पर एक प्रतिमा की स्थापना करवाएंगे।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.