Shaharnama Dhanbad: बहुत हो गई मटरगस्ती, अब इधर आए तो खाने को मिलेंगे डंडे

Shaharnama Dhanbad हीरापुर बैंक मोड़ होकर झरिया तक के लोग कोयला नगर में आते हैं। छठ तालाब के बगल में गाड़ी लगा कर शराब का सेवन करते हैं। अकेली महिलाओं पर फब्तियां कसने से भी नहीं हिचकते। लोकलाज के भय से महिलाएं बोल नहीं रही थी।

MritunjayTue, 07 Dec 2021 09:19 AM (IST)
बीसीसीएल टाउनशिप कोयला नगर ( फाइल फोटो)।

अश्विनी रघुवंशी, धनबाद। कोयला भवन में पदस्थापित बीसीसीएल की उप प्रबंधक कोयला नगर कालोनी में टहल रही थी। दो उचक्के बाइक से आए। उनके साथ छेडख़ानी की। शरीर में हाथ लगा दिया। बात बीसीसीएल के शीर्ष प्रबंधन तक गई। सीआइएसएफ के आला अधिकारियों के साथ लंबी मंत्रणा चली। कोयला नगर में रहने वालों से पूछताछ शुरू हुई तो चौंकाने वाली बातें सामने आई। हीरापुर, बैैंक मोड़ होकर झरिया तक के लोग कोयला नगर में आते हैैं। छठ तालाब के बगल में गाड़ी लगा कर शराब का सेवन करते हैैं। अकेली महिलाओं पर फब्तियां कसने से भी नहीं हिचकते। लोकलाज के भय से महिलाएं बोल नहीं रही थी। बात खुली है तो खुलती गई। सीआइएसएफ के अधिकारियों एवं जवानों ने कोयला नगर में गश्त शुरू कर दी है। आधा दर्जन से अधिक युवकों के शरीर पर काले निशान बन चुके हैैं। खास कर शरीर के पिछले हिस्से में।

पीएन को देख खिल उठे महामहिम

महामहिम रमेश बैस कोयलांचल आए थे। बीसीसीएल की एना कोलियरी में भूमिगत आग के बीच कोयला का खनन करते मजदूरों को देखे तो भौचक रह गए। अनायास बोल गए कि ऐसे हालात में भी इंसान काम कर सकता है। जीवन में पहली बार उन्होंने ऐसा दृश्य देखा था। मिजाज खुशनुमा नहीं रह गया था। धनबाद के भाजपा सांसद पीएन सिंह को पता चला तो वे महामहिम से मिलने गए। उन्हें देखते ही राज्यपाल खिल गए। आखिर लंबे समय तक दोनों संसद में साथ रहे हैैं। दिल्ली में थे तो एक-दूसरे से खूब बतियाते भी थे। पीएन बाबू से गर्मजोशी से हाथ मिलाए। पहले स्वास्थ्य और परिवार की बात हुई। सियासत की थोड़ी-बहुत तो होगी ही। कुछ हल्की-फुल्की बातें भी हुई। सांसद के साथ कुछ भाजपा नेता भी गए थे। उनसे भी ऐसे मिले कि पूछिए मत। भाजपाई उनकी तारीफ में कसीदे पढ़ रहे हैैं।

गए थे हरि भजन को, ओटन लगे कपास

माक्र्सवादी समन्वय समिति के पूर्व विधायक अरूप चटर्जी के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज हो गई है। बीसीसीएल प्रबंधन ने सीवी प्रक्षेत्र की दहीबाड़ी परियोजना में बड़ा काम आउटसोर्स कर दिया है। जहां भी आउटसोर्सिंग कंपनी आती है, वहां रोजगार के लिए नेतागिरी शुरू हो जाती है। झामुमो के लोग पहले से धरना दे रहे थे। मासस के अरूप चटर्जी ने हल्लाबोल शुरू कर दिया। अरूप के नेतृत्व में मासस के लोग जुलूस निकाल रहे थे कि झामुमो समर्थकों के साथ ङ्क्षहसक झड़प हो गई। दर्जनों लोगों ने एक-दूसरे को पत्थर और डंडा से मार कर घायल कर दिया। अरूप चटर्जी पर मुकदमा कर दिया गया है। बेरोजगारों को रोजगार दिलाने के फेर में अब वे न्यायालय के चक्कर लगाएंगे। आम तौर पर आउटसोर्सिंग कंपनियों में रोजगार के नाम पर आंदोलन होते हैैं। परदे के पीछे और भी बहुत खेल होते हैैं। समझते रहिए।

चुरा लिया आंखों से सुरमा

करकेंद्र का चौधरी बगान। यहां ट्रांसपोर्ट कंपनियों के अलावा व्यापारियों के कई गोदाम हैैं। अहमदाबाद के विनोद सिंह राजपूत की ट्रांसपोर्ट कंपनी पोलो ट्रांस लाजिस्टिक ने भी चार महीने पहले किराया पर गोदाम लिया था। 70 लाख के कपड़े अहमदाबाद से गोदाम में भेजे गए थे। पांच दिन पहले शाम के धुंधलके में मुख्य मार्ग पर गाड़ी लगा कर गोदाम से सारे कपड़े चुरा लिए गए। गोदाम के मालिक अशोक चौधरी दिल्ली में रहते हैैं। केयरटेकर आलोक पोद्दार की कपड़े की दुकान है। गोदाम के बिल्कुल सामने। सीसीटीवी फुटेज भी है। चोरी के अगले दिन पुटकी थानेदार सरोज कुमार सिंह छुट्टïी पर गए। तेजतर्रार एसपी मनोज स्वर्गीयार से उम्मीद थी कि गुजरात में झारखंड की छवि खराब होने नहीं देंगे। वे भी खामोश हैैं। गुजराती राजपूत माथा धरे हुए हैैं। उन्हें कौन बताये कि यहां के खाकीवालों को कोयला से फुर्सत ही नहीं है। समझे।

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.