top menutop menutop menu

बोकारो में गिरफ्तार नक्सली की निशानदेही पर हथियारों का जखीरा बरामद, सहदेव पर दर्ज हैं 47 केस

बोकारो में गिरफ्तार नक्सली की निशानदेही पर हथियारों का जखीरा बरामद, सहदेव पर दर्ज हैं 47 केस
Publish Date:Sun, 09 Aug 2020 08:27 PM (IST) Author: Sagar Singh

धनबाद, जेएनएन। बोकारो में शनिवार को गिरफ्तार नक्सल एरिया कमांडर छोटू मांझी उर्फ सहदेव मांझी उर्फ निशिकांत की निशानदेही पर रविवार को शिकारीपाड़ा व मसलिया के जंगलों से मारी मात्रा में हथियार व गोला बारूद बरामद किया है। बोकारो और दुमका पुलिस व बोकारो की सीआपपीएफ-26 वाहिनी के जवानों की संयुक्त कार्रवाई में छह हथियार के अलावा 357 जिंदा कारतूस, 11 मैग्जीन, 38 रायफल के चार्जर व 1675 इलेक्ट्रानिक डिटोनेटर बरामद किए हैं।

दुमका के पुलिस सभागार में बोकारो के एसपी चंदन कुमार झा ने बताया कि जवानों की सक्रियता की वजह से शनिवार को इतना बड़ा नक्सली हाथ आया था। पूछताछ में उसने स्वीकार किया कि बोकारो में एरिया कमांडर और संताल परगना में जोनल कमांडर के रूप में कई साल से सक्रिय है। दुमका में उसे निशिकांत के नाम से लोग जानते हैं। बताया कि दुमका में उसके साथियों ने कई जगह पर हथियार छुपाकर रखे हैं। अगर उसे दुमका ले जाया जाता है तो वह हथियार की बरामदगी करा सकता है। इसके बाद दुमका एसपी अंबर लकड़ा से सहयोग मांगा। दुमका एसपी की सहमति के बाद इसकी योजना बनी।

दुमका के जंगलों में छुपाकर रखे थे हथियार : दुमका के एसपी अंबर लकड़ा ने बताया कि बोकारो पुलिस ने टीम गठित कर कड़ी सुरक्षा में नक्सली को दुमका भेजा। एसएसबी के कमाडेंट मनोरंजन पांडेय की अगुवाई में टीम बनाकर सहदेव को पहले मसलिया के पहाड़ी क्षेत्र में ले जाया गया। जहां भारी मात्रा में गोलियाें के अलावा चार हथियार आदि बरामद किए गए। इसके बाद शिकारीपाड़ा के जंगलों से भी दो रायफल के अलावा गोलियां आदि बरामद की गई। बताया कि हथियारों का जखीरा बरामद करने में बोकारो पुलिस, 26 बटालियन के जवान और दुमका एसएसबी के अलावा पुलिस के जवानों का अहम रोल रहा। उन्होंने बोकारो के पुलिस अधीक्षक समेत बटालियन के जवानों को प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित भी किया। वहीं बोकारो के एसपी ने भी दुमका एसपी और कमांडेंट समेत अन्य जवानों को भी सम्मानित किया।

कहां से कौन हथियार बरामद : नक्सली की निशानदेही पर मसलिया के जंगलों से एक एसएलआर, इंसास, पुलिस की रेगुलर रायफल, एक कार्बाइन, एसएलआर रायफल की तीन मैग्जीन, सात नग रायफल की मैग्जीन, 310 जिंदा गोली, एसएलआर व रायफल के 38 चार्जर बरामद हुए। वहीं शिकारीपाड़ा के जंगल से दो इंसास, चार मैग्जीन, 47 गोलियां, स्टील का बड़ा कंटेनर व 1675 इलेक्ट्रानिक डिटोनेटर बरामद किए गए।

दुमका में सहदेव पर दर्ज हैं 10 मामले : एसपी अंबर लकड़ा ने बताया कि दुमका में सब जोनल कमांडर के रूप में सहदेव ने 10 घटनाओं में अहम भूमिका अदा की। उसे यहां निशिकांत के नाम से जाना जाता था। पुलिस कई बार उसके करीब पहुंची, लेकिन हर बार वह भागने में सफल रहा। बताया कि बोकारों में भी उसके खिलाफ 37 केस दर्ज हैं।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.