Benefits of Custard Apple: बड़े काम का यह फल, आंख के रोगियों के लिए तो रामबाण, आजमा कर देखें

Benefits of Custard Apple कृषि विज्ञान केंद्र बलियापुर के वैज्ञानिक डॉ आदर्श श्रीवास्तव सीताफल के पौधे को बड़ा करना बहुत ही आसान है। यह कम पानी और कम सुरक्षा में पैदा हो जाने वाला पौधा है। सीताफल के पौधे को पशु भी नहीं खाते।

MritunjayMon, 22 Nov 2021 09:59 AM (IST)
सीताफल के नाम से मशहूर शरीफा ( फाइल फोटो)।

जागरण संवाददाता, धनबाद। Benefits of Custard Apple सीताफल को अंग्रेजी में कस्टर्ड एप्पल कहते हैं। आम बोलचाल में यह शरीफा के नाम से भी जाना जाता है। सीताफल हमारे सेहत के लिए बहुत अच्छा होता है। इसमें विटामिन के अलावा नियासिन राइबोफ्लेविन थियामिन जैसे तत्व होते हैं। डाइटिशियन डॉ अंशु गिरी बताती हैं कि इसके इस्तेमाल से हमें आयरन कैल्शियम, मैग्नेशियम पोटैशियम और फोस्फरस मिलता है। खास बात यह है कि सीताफल में आयरन अधिक मात्रा में होता है। इसके अंदर मौजूद पोटैशियम और मैग्नीशियम ह्रदय के लिए बहुत ही अच्छा होता है। मैग्नीशियम शरीर में पानी की कमी नहीं होने देता। इसके फाइबर की प्रचुर मात्रा की वजह से ब्लड प्रेशर अच्छा रहता है। इससे कोलेस्ट्रॉल भी कम होता है। इसमें विटामिन और आयरन, खून की कमी को दूर करके हीमोग्लोबिन बढ़ाता है। नेत्र रोगियों के लिए तो यह किसी रामबाण से कम नहीं है।

धनबाद के बाजार में बढ़ी सीताफल की मांग

धनबाद के हर कोने में सीताफल बिकता हुआ दिख जाएगा। पिछले दो-तीन वर्षों में सीताफल खाने का प्रचलन तेजी से बढ़ा है। यही कारण है कि इस सीजन में पिछले एक सप्ताह में एक ट्रक सीताफल बाजार समिति से बिक चुका है। बेकार बांध के पास सीताफल बेचने वाले राजू यादव ने बताया कि हर दिन 10 से 12 किलो सीताफल बेच देते हैं।

सीताफल का पौधा लगाना आसान, पशु भी नहीं खाते पौधा

कृषि विज्ञान केंद्र बलियापुर के वैज्ञानिक डॉ आदर्श श्रीवास्तव सीताफल के पौधे को बड़ा करना बहुत ही आसान है। यह कम पानी और कम सुरक्षा में पैदा हो जाने वाला पौधा है। सीताफल के पौधे को पशु भी नहीं खाते। अब तो इसकी कई नई किस्में उपलब्ध होने लगी हैं, जिससे अधिक उत्पादन लिया जा सकता है।

सीताफल खाने से लाभ

अगर आपको कब्ज की समस्या हो, तो सीताफल से यह दूर हो सकती है। सीताफल में पर्याप्त मात्रा में कॉपर तथा फाइबर होते हैं, जो मल को नर्म करके कब्ज की समस्या को मिटा सकते हैं। इसे खाने से पाचन-तंत्र भी मजबूत होता है। गर्भवती महिलाओं के लिए सीताफल खाना लाभदायक होता है। इससे कमजोरी दूर होती है, उल्टी व जी घबराना ठीक होता है।  शिशु के जन्म के बाद, सीताफल खाने से स्तन दूध में वृद्धि होती है। यदि आप कमजोर हो या आपको वजन बढ़ाना हो, तो सीताफल का भरपूर उपयोग करना चाहिए। इसमें प्राकृतिक शक्कर अच्छी मात्रा में होती है, जो बिना किसी नुकसान के वजन बढ़ा सकती है। सीताफल के पेड़ की छाल में पाए जाने वाले टैनिन के कारण, इससे दांतों और मसूड़ों को लाभ मिलता है। सीताफल दांत और मसूड़ों के लिए फायदेमंद होता है। इसमें पाया जाने वाला कैल्शियम दांतों को मजबूत बनाता है। इसकी छाल को बारीक पीसकर मंजन करने से मसूड़ों और दांत के दर्द में लाभ होता है। यह मुंह की बदबू भी मिटाता है। सीताफल में पाए जाने वाले विटामिन ‘ए’, विटामिन ‘सी’ और राइबोफ्लेविन के कारण यह आँखों के लिए फायदेमंद होता है। यह नेत्रशक्ति को बढ़ाता है, तथा आँखों के रोगों से भी बचाव करता है। यह मानसिक शांति देता है तथा डिप्रेशन तनाव आदि को दूर करता है।

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.