top menutop menutop menu

धनबाद में प्रदूषण कम करने के लिए खर्च होंगे 10 करोड़, बीसीसीएल के साथ योजना बनाएगा नगर निगम Dhanbad News

धनबाद, जेएनएन। झरिया और धनबाद के बढ़ते प्रदूषण से पार पाने के लिए अब नगर निगम की भी महत्वपूर्ण भूमिका होगी। नेशनल क्लीयर एयर प्रोग्राम (एनसीएपी) के तहत झारखंड राज्य प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड ने धनबाद नगर निगम को 10 करोड़ रुपये आवंटित किया है। इस राशि का उपयोग प्रदूषण की रोकथाम के लिए किया जाएगा। इसमें डस्ट का उठाव, पानी का छिड़काव, जगह-जगह पौधारोपण और जागरूकता अभियान शामिल है।

दरअसल केंद्रीय पर्यावरण एवं वन मंत्रालय ने देश के 23 राज्यों के 122 शहरों में प्रदूषण के स्तर से निपटने के लिए नेशनल क्लीयर एयर प्रोग्राम (एनसीएपी) बनाया है। इसमें धनबाद भी शामिल है। इसके अलावा भी नगर निगम ने बीसीसीएल के पदाधिकारियों के साथ बैठक कर प्रदूषण पर काम करने की योजना बनाने का निर्णय लिया है। 

एनसीएपी के तहत होंगे ये काम

कोलियरी व ओपनकास्ट माइनिंग से निकलने वाले वाहन ढंके होने चाहिए। रोड स्वीपिंग मशीन से सड़कों की सफाई।  समय-समय पर पानी का छिड़काव। जगह-जगह वायु गुणवत्ता सूचकांक यानी कंटीन्यूअस एंबिएंट एयर क्वालिटी मॉनिटरिंग सिस्टम (सीएएमक्यूएमएस) की स्थापना। मोबाइल इंफोर्स यूनिट (एक गाड़ी और एक स्टाफ), जो प्रदूषण के कारकों पर नजर रखे।  प्रदूषित इलाकों एवं खाली जगह पर पौधारोपण। खुले स्थानों, पार्क और सड़क किनारे पौधारोपण। कचरे का सही तरीके से निस्तारण। लोगों में हरियाली को लेकर जागरूकता अभियान। 15 साल पुरानी गाडिय़ों पर रोक, ट्रैफिक जाम की समस्या से मिले निजात।

धनबाद में प्रदूषण का स्तर

झरिया और कुसुंडा की हवा सबसे अधिक जहरीली। झरिया में रेस्पायरेबल पर्टिकुलेट मैटर का औसत स्तर 369.55 माइक्रोग्राम क्यूबिक मीटर (एमजीसीएम) और कुसुंडा में 326.48 माइक्रोग्राम क्यूबिक मीटर। धनबाद शहर में आरएसपीएम का औसत स्तर 285 इसका सामान्य लेवल 100 माइक्रोग्राम क्यूबिक मीटर होना चाहिए।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.