top menutop menutop menu

जीवन यापन हुआ मुश्किल तो करनी पड़ी हड़ताल

जीवन यापन हुआ मुश्किल तो करनी पड़ी हड़ताल
Publish Date:Wed, 05 Aug 2020 08:19 PM (IST) Author: Jagran

भंडारीदह (बेरमो) : झारखंड राज्य मनरेगा कर्मचारी संघ के प्रतिनिधिमंडल ने बुधवार को सूबे के शिक्षा मंत्री जगरनाथ महतो से भंडारीदह स्थित आवासीय परिसर में भेंट कर मनरेगाकर्मियों की व्यथा सुनाई। इस दौरान भाजपा के सिदरी विधायक इंद्रजीत महतो भी शिष्टाचार मुलाकात को लेकर यहां उपस्थित थे।

शिक्षा मंत्री ने संघ के पदाधिकारियों से कहा कि सभी मनरेगाकर्मी हड़ताल समाप्त कर काम पर लौट जाएं। ज्ञात हो कि बीते 27 जुलाई से विभिन्न मांगों को लेकर झारखंड राज्य के सभी मनरेगाकर्मी अनिश्चितकालीन हड़ताल पर हैं। संघ के पदाधिकारियों ने शिक्षा मंत्री से कहा कि 13 वर्ष सेवा देने के बाद भी मनरेगाकर्मियों को मासिक मानदेय के रूप में अल्प राशि भुगतान की जा रही है, जिससे परिवार का जीवन यापन मुश्किल हो गया है। इसलिए मजबूरन हड़ताल करनी पड़ी। झारखंड राज्य के मनरेगाकर्मी विगत 13 वर्षों से मनरेगा सहित सरकार की अन्य कल्याणकारी योजनाओं को जन-जन तक पहुंचाने का काम कर रहे हैं, लेकिन भेदभाव की नीति के कारण मनरेगाकर्मी दुखी हैं। निरंतर 13 वर्षां तक काम करने के बावजूद मनरेगाकर्मियों को अपनी पहचान के लिए संघर्ष करना पड़ रहा है। अब मनरेगा की योजनाओं का सामाजिक अंकेक्षण पूर्व सरकार की एक एजेंसी जेएसएलपीएस से कराया जा रहा है, जिसके लोग मनरेगाकर्मियों का आर्थिक एवं मानसिक रूप से शोषण कर रहे हैं।

संघ के पदाधिकारियों ने कहा कि हिमाचल प्रदेश सरकार की भांति झारखंड सरकार भी मनरेगाकर्मियों की सेवा को स्थाई कर वेतमान दे। वर्तमान सामाजिक अंकेक्षण की प्रक्रिया को बंद कर ग्रामसभा की ओर से चयनित प्रबुद्ध लोगों से कराया जाए। मृत मनरेगाकर्मियों के आश्रित को मुआवजा व नियोजन दिया जाए। कोरोना संकट के कारण समाधान करने में विलंब हो रहा है। यथाशीघ्र संबधित विभाग के मंत्री से आप लोगों की वार्ता कराई जाएगी। प्रतिनिधिमंडल में संघ के प्रदेश अध्यक्ष अनिरुद्ध पांडेय के अलावा जॉन पीटर बागे, दीपक कुमार महतो, महेश सोरेन, नन्हे परवेज, संजय प्रामाणिक, विनोद विश्वकर्मा, लतीफ अंसारी, संतोष कुमार, विश्वनाथ महतो, लालचंद महतो, गौतम प्रसाद, सुनीलचंद्र दास, रामेश्वर महतो, ईश्वर साव आदि मनरेगाकर्मी शामिल थे।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.