संक्रमितों का जल्द पता लगाने को प्रभावशाली रणनीति बना कर करें काम : डॉ. सिंह

संक्रमितों का जल्द पता लगाने को प्रभावशाली रणनीति बना कर करें काम : डॉ. सिंह
Publish Date:Sun, 20 Sep 2020 07:18 AM (IST) Author: Jagran

जागरण संवाददाता, ऊधमपुर : कोरोना संक्रमण के मामलों के बढ़ने पर भारत सरकार की उच्च स्तरीय स्वास्थ्य टीम ने शनिवार को ऊधमपुर का दौरा किया। एनसीडीसी नई दिल्ली के डायरेक्टर डॉ. एसके सिंह के नेतृत्व में ऊधमपुर पहुंची टीम में एनसीडी के ज्वाइंट डायरेक्टर डॉ. तैनजिग भी शामिल थे।

डॉ. सिंह के नेतृत्व में ऊधमपुर पहुंची टीम ने जिला अस्पताल का दौरा किया, जहां पर सीएमओ ऊधमपुर डॉ. केसी डोगरा ने पावर प्वाइंट प्रस्तुति से जिले में कोरोना संक्रमण की स्थिति के बारे में विस्तार से बताया। इस अवसर पर उन्होंने टीम को कोरोना संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए जिले में किए गए उपायों के बारे में विस्तार से बताया।

सीएमओ ने टीम को बताया कि कुल मिलाकर 111 संक्रमित मरीजों को उपचार के लिए जिला अस्पताल में भर्ती किया गया है। इसके साथ ही कोरोना संक्रमण प्रबंधन के लिए अग्रेसिव कांटेट ट्रेसिग के लिए 20 टीमों को फील्ड में लगाया गया है।

इस अवसर पर डॉ. एसके सिंह ने कोरोना संक्रमण के प्रसार, रोकथाम की प्रक्रिया, आइसोलेशन वार्ड, संक्रमितों की कांटेक्ट ट्रेसिग के बारे में जानकारी हासिल की। टीम ने जिले में कोरोना संक्रमित मामलों की प्रकृति और मृत्यु दर के बारे में भी जानकारी हासिल की। टीम ने कोरोना संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए संक्रमितों का जल्द पता लगाने के लिए प्रभावशाली रणनीति बनाने और गांवों में भी कोरोना संक्रमण को नियंत्रित करने के लिए आवश्यक कदम उठाने को कहा।

टीम ने जिला अस्पताल के डॉक्टरों व स्टाफ से बात की और उनको कोरोना प्रबंधन के साथ नियमित गतिविधियों की निरंतरता पर जोर दिया। उन्होंने स्वास्थ्य विभाग को केस के मुताबिक रेड/कंटेनमेंट जोन घोषित करने का तरीका अपनाने को कहा। इसके साथ ही टीम ने अर्धसैनिक बलों के साथ अलग से बैठक कर संक्रमण के व्यवहार के प्रति जागरूक करने तथा कर्मचारियों व अधिकारियों को छु्टटी से लौटने या अन्य राज्य से आने पर टेस्ट करवाने का सुझाव देने को कहा। टीम ने हाई रिस्क कांटेक्ट वाले लोगों को 14 दिनों के लिए सर्विलांस पर करीबी निगरानी में रखने को कहा।

इसके साथ ही टीम ने लक्षण वाले मरीजों के लिए शत-प्रतिशत अग्रेसिव टेस्टिंग और पीएचसी स्तर पर भी एग्रेसिव टेस्टिंग कराने की सलाह दी। उन्होंने जब तक कोरोना संक्रमण के लिए लिए कोई दवा नहीं आ जाती, तब तक के लिए गैर फार्मास्यूटिकल तरीके अपना कर उपचार के माध्यम से इसका उपचार करने की जरूरत बताई।

बाद में टीम ने एडीसी ऊधमपुर नागेंद्र सिंह जम्वाल, नगर परिषद के कार्यकारी अध्यक्ष सुरिद्र सिंह खालसा सहित अन्य जिला अधिकारियों व अन्य कंटेनमेंट जोन का दौरा किया। जहां पर कोरोना जांच का जायजा लिया और प्रथम पंक्ति के योद्धाओं के साथ बातचीत कर जानकारी ली। टीम ने होम आइसोलेशन पर रखे गए लोगों के घरों में जाकर भी स्थिति का जायजा लिया।

इसके बाद शाम को ऊधमपुर में केंद्रीय राज्यमंत्री डॉ. जितेंद्र सिंह व अन्य केंद्रीय स्वास्थ्य अधिकारियों ने विडियो कांफ्रेंसिग के माध्यम से टीम से जिले में निरीक्षण के बाद पाई गई स्थिति की जानकारी ली। केंद्रीय राज्यमंत्री व केंद्रीय स्वास्थ्य अधिकारियों ने जिला प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग को कोरोना संक्रमण की रोकथाम पर उससे निपटने संबंधी मुद्दों पर कुछ आवश्यक सुझाव भी दिए।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.