प्रदेश में दौड़ेंगी दो सौ इलेक्ट्रिक बसें

प्रदेश में 150 से 200 इलेक्ट्रानिक बसें (ई बसें) चलाई जाएंगी। यह घोषणा उपराज्यपाल मनोज सिन्हा ने मगलवार को की है। उन्होंने कहा कि भविष्य इलेक्ट्रिक बसों का है। ये बसें शहरी वातावरण के लिए बेहतर हैं। इनसे प्रदूषण को कम करने में मदद मिलेगी। इसका मकसद पेट्रोल डीजल पर निर्भरता कम कर हरियाली को बढ़ावा देना है।

JagranWed, 08 Dec 2021 05:29 AM (IST)
प्रदेश में दौड़ेंगी दो सौ इलेक्ट्रिक बसें

राज्य ब्यूरो, जम्मू : प्रदेश में 150 से 200 इलेक्ट्रानिक बसें (ई बसें) चलाई जाएंगी। यह घोषणा उपराज्यपाल मनोज सिन्हा ने मगलवार को की है। उन्होंने कहा कि भविष्य इलेक्ट्रिक बसों का है। ये बसें शहरी वातावरण के लिए बेहतर हैं। इनसे प्रदूषण को कम करने में मदद मिलेगी। इसका मकसद पेट्रोल, डीजल पर निर्भरता कम कर हरियाली को बढ़ावा देना है।

उपराज्यपाल ने मंगलवार को ओलट्रेका ग्रीनटेक लिमिटेड के चेयरमैन व प्रबंधक निदेशक केवी प्रदीप के साथ हुई बैठक में जम्मू कश्मीर में इंटर सिटी व इंट्रा सिटी के लिए इलेक्ट्रिक बसों का इस्तेमाल करने पर विचार विमर्श किया है। वहीं ओलट्रेका ग्रीनटेक के चेयरमैन केवी प्रदीप ने पावर प्वाइंट प्रेजेंटेशन के माध्यम से बताया कि देशभर में कंपनी की 600 बसें चल रही हैं। मौजूदा समय में कंपनी 2500 बसें बना रही है। ट्रायल के लिए दो बसें आएंगी

उपराज्यपाल ने चेयरमैन से कहा कि ट्रायल के लिए दो बसों को जम्मू कश्मीर भेजा जाए। इनमें से एक श्रीनगर व एक जम्मू के लिए होगी। ट्रायल के बाद सरकार बसों की खरीद पर फैसला करेगी। जम्मू व श्रीनगर शहरों में सरकार की कोशिश आधुनिक, सतत व आर्थिक रूप से बेहतर यातायात सुविधा का प्रबंध करने के लिए कोशिशें कर रही हैं। फेम सेकेंड योजना को लांच

केंद्र सरकार ने हाल ही में इलेक्ट्रिक बसों को बढ़ावा देने के लिए फेम सेकेंड योजना को लांच किया है। इसके लिए इंसेटिव व सब्सिडी दी जाती है। जम्मू में 150-200 ई बसों के चलने से यात्रियों को फायदा होगा। बैठक में मुख्य सचिव अरुण कुमार मेहता व अन्य अधिकारी मौजूद थे।

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.