भाजपा से गठबंधन के कारण बताते रो पड़ीं महबूबा मुफ्ती

राज्य ब्यूरो, जम्मू : भाजपा से गठबंधन करने पर महबूबा मुफ्ती को अपनी पार्टी के कार्यकर्ता और विपक्षी कई बार कठघरे में खड़ा कर चुके हैं। इस मुद्दे पर पहलगाम में पार्टी कार्यकर्ताओं को संबोधित करते महबूबा अपने आंसुओं को नहीं रोक पाई। रो-रो कर उन्होंने सफाई देते हुए कहा कि यह गठबंधन सिर्फ कश्मीर की भलाई को देख किया था। गौरतलब है कि महबूबा अनंतनाग संसदीय सीट पर पीडीपी उम्मीदवार हैं। मतदान से तीन दिन पहले उन्होंने बंद दरवाजे में हुई बैठक में उन्होंने कहा कि लोगों को यह समझ नहीं आ रहा है कि यह गठबंधन सिर्फ कश्मीर के लोगों के लिए किया था। उनके पिता ने कश्मीर के युवाओं को उनकी समस्याओं से निजात दिलाने के लिए भाजपा से हाथ मिलाया था। वर्ष 2016 में जब उनके पिता का निधन हो गया तो उनके मन में केवल कश्मीर और यहां रहने वाले लोगों की समस्याएं सामने दिख रही थीं। जब उनके पिता बिस्तर पर थे तो उन्हें यही चिता रहती थी कि केंद्र से राज्य के विकास के लिए अस्सी हजार करोड़ जारी हुए हैं। इससे राज्य में समान विकास करवाया जाएगा।

पाकिस्तान को लेकर प्रधानमंत्री ने क्या किया। दुर्भाग्य यह है कि लोग इसे समझ नहीं रहे हें। उन्होंने कहा कि उनके रोने का भी यही कारण है। गौरतलब है कि स्व. मुफ्ती मोहम्मद सईद ने साल 2015 में राज्य में सरकार के गठन के लिए भाजपा के साथ गठबंधन किया था। इसके बाद कश्मीर में पीडीपी का विरोध हुआ था। पीडीपी अब अपने खोए हुए जनाधार को वापस पाने के लिए कश्मीर के लोगों को यह समझा रही हूं कि उसने भाजपा से गठबंधन क्यों किया। महबूबा ने पार्टी कार्यकर्ताओं से फिर से पार्टी को जमीनी स्तर पर मजबूत बनाने के लिए काम करने को कहा। उन्होंने कहा कि वह कमजोर नहीं हैं। लोग उन्हें समझ नहीं पा रहे हैं, इसलिए दुखी हें। पार्टी कार्यकर्ताओं ने महबूबा के हक में नारे भी लगाए और उन्हें आश्वासन दिया कि वे उनके साथ हैं।

1952 से 2019 तक इन राज्यों के विधानसभा चुनाव की हर जानकारी के लिए क्लिक करें।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.