देवदूत बने जवान, आग की भीषण लपटों में घिरे 37 लोगों को बचाया

उत्तरी कश्मीर में बांडीपोरा जिले के सीमावर्ती एक गांव में लगी भीषण आग में 10 मकान जलकर राख हो गए। ये सभी लकड़ी के बने थे। रात को हुए हादसे में सेना के जवानों ने तीन दर्जन से अधिक लोगों को सुरक्षित निकाला है। सेना ने प्रभावित लोगों को एक सरकारी इमारत में ठहराकर उनके खाने-पीने का बंदोबस्त भी किया है।

JagranThu, 02 Dec 2021 06:04 AM (IST)
देवदूत बने जवान, आग की भीषण लपटों में घिरे 37 लोगों को बचाया

संवाद सहयोगी, श्रीनगर: उत्तरी कश्मीर में बांडीपोरा जिले के सीमावर्ती एक गांव में लगी भीषण आग में 10 मकान जलकर राख हो गए। ये सभी लकड़ी के बने थे। रात को हुए हादसे में सेना के जवानों ने तीन दर्जन से अधिक लोगों को सुरक्षित निकाला है। सेना ने प्रभावित लोगों को एक सरकारी इमारत में ठहराकर उनके खाने-पीने का बंदोबस्त भी किया है। उपराज्यपाल मनोज सिन्हा ने हादसे पर दुख जताया है। उनके निर्देश पर जिला प्रशासन ने प्रभावित प्रत्येक परिवार को 10 हजार रुपये की त्वरित राहत राशि समेत जरूरत का सामान दिया है। बेघर हुए प्रत्येक परिवार को अस्थायी आवासीय सुविधा भी दी जा रही है। जिस परिवार का मकान पूरी तरह से नष्ट हो गया है, उसे एसडीआरएफ के नियमों के तहत वीरवार को 1.10 लाख रुपये की सहायता दी जाएगी।

आग लगने की घटना बांडीपोरा के सीमावर्ती क्षेत्र तुलैल के कलशे गुलाब गांव की है। आग मंगलवार-बुधवार की रात करीब ढाई बजे लगी। यह आग गुलाम नबी लोन के दो मंजिला मकान से लगी। लोन के परिवार के लोगों ने मदद के लिए शोर मचाया तो उनके पड़ोसी भी जाग गए। तब तक आग कई घरों में फैल गई थी। लोगों ने घरों से बाहर निकलने की कोशिश की, लेकिन वह इसमें सफल नहीं हुए। चीख-पुकार सुनकर निकटवर्ती सैन्य शिविर में तैनात 9 राजपूताना राइफल के जवानों ने तुरंत मौके पर पहुंचे और बचाव अभियान शुरू कर दिया। जवानों ने लोन के परिवार समेत अन्य लोगों को निकालना शुरू कर दिया।

सेना के एक प्रवक्ता इमरान मौसवी ने बताया कि जवानों ने करीब डेढ़ घंटे की मशक्कत कर 37 लोगों को बचाया गया है। यह इलाका दुर्गम पहाड़ियों के बीच है। इसलिए दमकल कर्मियों का वहां समय पर पहुंचना संभव नहीं था। इलाके में अधिकाश मकान लकड़ी के बने हैं। इसके चलते आग ने विकराल रूप लिया। पीड़ित लोगों को फिलहाल एक सरकारी इमारत में ठहराया गया है, जहा उनके खाने-पीने व बाकी आवश्यक चीजों का बंदोबस्त किया गया है। गुरेज के एसडीएम मुदासिर अहमद ने कहा कि पीड़ित लोगों की संपत्ति को हुए नुकसान का अंदाजा लगाया जा रहा है। पीड़ितों का जल्द ही पुनर्वास किया जाएगा। आग लगने का कारण पता किया जा रहा है। ------

मकान बनाने में सहयोग करेगा प्रशासन

उपराज्यपाल ने जिला प्रशासन को मौके पर जाकर हालात का आकलन करने और प्रभावित परिवारों को तत्काल प्रभाव से राहत उपलब्ध कराने का निर्देश दिया है। उपराज्यपाल ने जिला प्रशासन को प्रत्येक पीड़ित परिवार की पर्याप्त देखभाल सुनिश्चित करने और उन्हें नया मकान बनाने में पूरा सहयोग व समर्थन प्रदान करने का निर्देश दिया है। उनके निर्देश पर ही जिला प्रशासन ने प्रत्येक पीड़ित परिवार को 10-10 हजार रुपये की नकद सहायता के अलावा कंबल, राशन, खाद्य तेल, बर्तन भी प्रदान किए हैं।

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.