भारत बंद की अफवाह में कठुआ रहा पूर्ण बंद

जागरण संवाददाता, कठुआ : पुलवामा आतंकी हमले के विरोध में भारत बंद की अफवाह के बीच जिला कठुआ सोमवार पूर्ण बंद रहा। बिना किसी संगठन की बंद की घोषणा के बाद भी पूरे जिले में बंद का असर रहा। छोटे से छोटे दुकानदार चाय वाले से लेकर रेहड़ी, फड़ी वालों ने भी बंद में हिस्सा लिया। राज्य के मुख्य प्रवेश द्वार लखनपुर से लेकर कठुआ नगर, बसोहली, बिलावर, बनी, रामकोट, हीरानगर, कालीबड़ी, हटलीमोड़, बरनोटी सहित अन्य छोटे कस्बे भी बंद रहे। जबकि बंद की घोषणा या आह्वान किसी संगठन द्वारा नहीं किया गया था, उसके बाद भी बंद पूर्ण सफल रहा। हालांकि, शहर के मुख्य बाजार में सुबह-सुबह इक्का दुक्का दुकान के खुलने पर घटना को लेकर पिछले चार दिनों से प्रदर्शन कर रहे आम युवाओं ने विरोध जताया। जिसके बाद दुकानदारों के साथ बंद को लेकर बहसबाजी भी हुई और दुकानदारों ने बंद की घोषणा पर सवाल उठाए, लेकिन युवा नहीं माने और उन्होंने दुकान खोलने का जमकर विरोध किया। इसके बाद इक्का दुक्का खुली दुकानें भी पूरी तरह से बंद हो गई। कुल मिलाकर शहर सहित पूरे जिले में पूरी तरह से बंद शांतिपूर्वक रहा। राज्य के मुख्य प्रवेश द्वार लखनपुर में भी बंद के चलते सन्नाटा छाया रहा। जिसमें रेहड़ी फड़ी वालों ने भी बंद में पूरा हिस्सा लिया।

बंद को देखते हुए जगह-जगह सुरक्षा बल तैनात रहे और अधिकारी पूरा दिन शहर में कानून व्यवस्था बनाए रखने के लिए गश्त करते रहे। चौक, चौराहों पर पुलिस के दस्ते तैनात रहे।

--------------------

कठुआ में 8वीं कक्षा की परीक्षा स्थगित

जागरण संवाददाता, कठुआ : इसी बीच हालात को देखते हुए प्रशासन के आदेश पर जिले में स्कूल, कॉलेज चौथे दिन भी बंद रहे। इसके कारण जिला बोर्ड की आठवीं की वार्षिक परीक्षा भी स्थगित कर दी गई। इसके साथ ही 9वीं की वार्षिक परीक्षा भी स्थगित हुई। दोनों कक्षाओं की सोमवार से परीक्षाएं शुरू होनी थी। वहीं 12वीं की बोर्ड की वार्षिक प्रेक्टिकल परीक्षा तीसरी भी स्थगित कर दी गई है। इसके साथ ईटीटी की परीक्षा भी स्थगित कर दी गई है।

1952 से 2019 तक इन राज्यों के विधानसभा चुनाव की हर जानकारी के लिए क्लिक करें।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.