चैत्र नवरात्र पर नहीं दिखा कोरोना का साया, मंदिरों में उमड़े श्रद्धालु

चैत्र नवरात्र पर नहीं दिखा कोरोना का साया, मंदिरों में उमड़े श्रद्धालु

जागरण संवाददाता कठुआ जिले के सभी मंदिरों में श्रद्धालु मंगलवार सुबह से ही कोरोना महामारी के ब

JagranWed, 14 Apr 2021 12:19 AM (IST)

जागरण संवाददाता, कठुआ: जिले के सभी मंदिरों में श्रद्धालु मंगलवार सुबह से ही कोरोना महामारी के बीच मां के चरणों में हाजिरी लगाने पहुंचे। इस दौरान कोरोना महामारी का श्रद्धालुओं पर कोई भय नहीं दिखा, जिसके कारण चारों ओर माहौल मां भक्तिमय बना रहा। हालांकि, प्रथम नवरात्र पर मंदिरों व घरों में भी मां के भक्तों ने देवी दुर्गा के शैलपुत्री के रूप में पूजा की। इससे पहले साख बीजकर कलश स्थापना करअखंड ज्योत जलाकर मां की आराधना की।

मंदिरों में कंजक पूजन हुए और पवित्र बावली से जल से कलश भर स्थापित किए गए। मंदिर कमेटियों व पुजारियों ने श्रद्धालुओं के आगमन को देखते हुए सभी तरह की तैयारियां पहले से ही की हुई थीं। मंदिर के द्वार को फूलों से सजाया था। जसरोटा स्थित काली माता मंदिर में मंदिर कमेटी के प्रधान जगदीश सिंह जसरोटिया ने कमेटी सदस्यों व सरपंच सुदर्शन खजूरिया के साथ पारंपरिक ध्वजा रोहण और हवन के साथ नवरात्र उत्सव की शुरूआत की। शहर के मुख्य बाजार स्थित माता आशापूर्णी मंदिर, जसरोटा स्थित माता काली मंदिर, नगरी स्थित माता बाला सुंदरी मंदिर, लखनपुर स्थित किले बाली माता, शेरकोटला स्थित चंडिका मंदिर, चड़वाल स्थित संतोषी माता मंदिर, पेईया स्थित पेईया माता मंदिर में श्रद्धालु सुबह से ही मां के चरणों में हाजिरी लगाने पहुंच गए थे। नवरात्र पर माता के दर्शन की विशेष महत्वता को देखते सबसे ज्यादा श्रद्धालु पहले दिन जसरोटा स्थित माता काली मंदिर में पहुंचे, जहां 8 हजार श्रद्धालुओं ने हाजिरी लगाई। इसके बाद सुकराला में भी करीब साढ़े तीन हजार संख्या रहीं। शेरकोटला में एक हजार रही। हालांकि, बाला सुंदरी मंदिर नगरी में सुंदरी कोट में हाजिरी कम रही। मंदिरों में श्रद्धालु मास्क पहन कर ही पहुंचे थे। इस बीच पुलिस का भी श्रद्धालुओं को आपसी दूरी बनाने के लिए आग्रह किया जाता रहा।

मंदिर में आयुष विभाग ने आयुर्वेद दवाइयों के स्टाल भी लगा रखे थे। शेरकोटला मंदिर में पूर्व मंत्री राजीव जसरोटिया ने स्थानीय सरपंच पोली सिंह, करण सिंह, रघुवीर सिंह, हरणाम सिंह, सोनू शर्मा के साथ आयुष विभाग द्वारा लगाए गए आयुर्वेद दवाइयों के स्टाल पर श्रद्धालुओं को दवाइयों वितरित की। इससे पहले मंदिर में कंजक पूजन के साथ नवरात्र का शुभारंभ किया गया।

बाक्स----

इन मंदिरों में पहले दिन श्रद्धालुओं की संख्या 1.काली माता मंदिर जसरोटा : 8000

2. सुकराला देवी बिलावर : 3500

3. बाला सुंदरी सुंदरीकोट : 600

4. बाला सुंदरी मंदिर नगरी: 200

5. चंडिका मंदिर शेरकोटला: 800

6. काली मांता मंदिर जांडी : 1000

7. शक्ति माता मंदिर बनी: 200

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

पांच राज्यों के विधानसभा चुनावों से जुड़ी प्रमुख जानकारियों और आंकड़ों के लिए क्लिक करें।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.