हाईवे बनने से पर्यटक स्थलों के दिन बहुरेंगे, मिलेगी सुविधा

राकेश शर्मा कठुआ दयालाचक-बिलावर और महानपुर-बसोहली-बनी लिक मार्ग को राष्ट्रीय राजमा

JagranWed, 24 Nov 2021 04:55 AM (IST)
हाईवे बनने से पर्यटक स्थलों के दिन बहुरेंगे, मिलेगी सुविधा

राकेश शर्मा, कठुआ : दयालाचक-बिलावर और महानपुर-बसोहली-बनी लिक मार्ग को राष्ट्रीय राजमार्ग घोषित किए जाने के बाद दशकों से गुमनामी में मनमोहक, प्राकृतिक सौंदर्य से भरपूर पर्यटक स्थलों के दिन अब बहुरेंगे। उक्त मार्ग के विस्तारीकरण होने से बनी, बिलावर और बसोहली तक पर्यटकों को पहुंचने की सुविधा मिलेगी, क्योंकि मार्ग के अभाव के कारण पहाड़ी क्षेत्र में पर्यटन की आपार संभावनाएं होते हुए भी पर्यटक नहीं पहुंच पाते हैं।

गौर हो कि जम्मू कश्मीर में सड़क मार्ग से आने वाले विभिन्न राज्यों से पर्यटक कठुआ जिला स्थित मुख्य प्रवेश द्वार लखनपुर से होकर जम्मू व श्रीनगर पहुंचते हैं, लेकिन कठुआ जिला के पर्यटक स्थलों तक पहुंचने में बदहाल मार्ग पर्यटकों के कदम रोकते रहे हैं। बरसात के मौसम में तो बनी-बसोहली मार्ग अक्सर बंद ही रहता है। इसके अलावा महानपुर-बसोहली और बिलावर के कई मार्ग भी बरसात में बदहाल हो जाते हैं। पर्यटक स्थलों को जोड़ने वाले मार्ग के इस तरह के हालात को सुधारने के लिए पूर्व सरकारों ने विस्तारीकरण के लिए जो काम शुरू कराए, वह कछुआ चाल से चलाए गए, जब तक उनके कार्य पूरे होते, तब तक उक्त क्षेत्र में यातायात का भार कई गुणा बढ़ गया होता है।

करीब 80 किलोमीटर लंबा बनी-बसोहली मार्ग का विस्तारीकरण कार्य दो दशक बीत जाने के बाद भी पूरा नहीं हो पाया है। लखनपुर-बसोहली मार्ग के विस्तारीकरण कार्य के लिए निर्माण शुरू हुए आठ साल बीत जाने के बाद भी पूरे नहीं हो पाए हैं। इसके अलावा कुछ मार्ग के विस्तारीकरण की सिर्फ घोषणाएं ही हुई, लेकिन उसकी अगली प्रक्रिया को आगे नहीं पहुंचाया गया। ऐसा ही दयालाचक-बिलावर मार्ग है, जिसके विस्तारीकरण की घोषणा पूर्व पीडीपी-कांग्रेस सरकार के दौरान हुई, लेकिन अमल में नहीं लाया गया। उसके बाद पीडीपी-भाजपा सरकार बनी, लेकिन तीन साल सत्ता में रहने के बाद दयालाचक-बिलावर मार्ग का निर्माण शुरू नहीं हो पाया, जबकि 55 करोड़ की राशि मंजूर की गई। इसके बावजूद जमीन पर कुछ नहीं दिखा।

बहरहाल, केंद्र सरकार के सहयोग से सीमावर्ती क्षेत्र में दर्जनों सड़कों के विस्तारीकरण का कार्य दो वर्षो में तेजी से हुआ। ऐसे में अगर अब केंद्र सरकार जिला के पर्यटक स्थलों को जोड़ने वाले बनी-बसोहली और बिलावर के मार्ग को नेशनल हाईवे घोषित कर उनका विस्तारीकरण कार्य कराएगी तो आजादी के बाद सीमा क्षेत्र की सड़कों के कार्य पूरे होंगे। बाक्स--

हाईवे से बनने से चार घंटे का सफर दो घंटे में होगा पूरा

जम्मू-लखनपुर हाईवे पर स्थित दयालावक से बिलावर की करीब 75 किलोमीटर दूरी है, हाईवे बनने से पर्यटक स्थल प्रसिद्ध माता सुकराला देवी, बाला सुंदरी, पांडव काल के बिलकेश्वर मंदिर, पंजतीर्थी स्थित पंच मुखी शिवलिग, स्वीटजरलैंड जैसा अहसास कराने वाले मशेड़ी एवं नानगलां तक पर्यटक को पहुंचने में सुविधा मिलेगी। चार घंटे का सफर दो घंटे का रहेगा, जिस पर सरफट वाहन दौड़ेंगे। इसी तरह हाईवे पर लखनपुर से बसोहली की 78 किलोमीटर दूरी है, इसी मार्ग के बीच महानपुर भी पड़ता है। वहां से मार्ग बसोहली को जोड़ता है। बसोहली से बनी की दूरी 80 किलोमीटर की है। ऐसे में दोनों मार्ग के हाईवे बनने से पर्यटक लखनुपर से मात्र 15 मिनट में रणजीत सागर झील के विहंगम ²श्य का नजारा ले सकते हैं, उसके बाद बसोहली में अटल सेतु, बिश्व प्रसिद्ध बसोहली पेंटिग और पश्मीना शाल की नायाब कारीगिरी को अपनी आंखों से देख सकते हैं। वहां से बनी में सरथल और छत्रगलां के साथ लगते ढग्गर आदि बर्फबारी के नजारे वाले क्षेत्रों का नजारा ले सकेंगे। निसंदेह उक्त मार्गों के हाइवे में विकसित होने से कठुआ जिला पर्यटन के मानचित्र पर होगा। पर्यटक भी कश्मीर जाने के साथ साथ जहां भी सड़क सुविधा मिलने से आना शुरू होंगे। ये सबसे बड़ा लाभ हाईवे बनने का होगा। बाक्स---

दैनिक जागरण की खबरों से सरकार का गया ध्यान

गत दो माह पहले दैनिक जागरण ने कठुआ जिलो पर्यटकों स्थलों तक पहुंचने में बाधा बने सड़क मार्गों की बदहाली को दर्शाते हुए लगातार एक सप्ताह समाचार प्रमुखता से प्रकाशित कर सरकार का ध्यान कठुआ जिला के पर्यटक स्थलों का जोड़ने वाले बदहाल मार्गों की तरफ दिलाया था।

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.